बिहार में स्वास्थ्य की स्थिति भयावह

बिहार लोक संवाद डॉट नेट

कोरोना वायरस की संभावित तीसरी लहर और उसमें बच्चों के प्रभावित होने की आशंका के मद्देनज़र पटना में एक परिचर्चा का आयोजन किया गया। परिचर्चा का आयोजन उजास, जन स्वास्थ्य अभियान, भोजन का अधिकार अभियान और हेल्थ वाच फोरम के संयुक्त तत्वावधान में किया गया। परिचर्चा के दौरान वक्ताओं ने बिहार में स्वास्थ्य की स्थिति को लेकर चिंता व्यक्त की।

डॉ. शकील ने कहा कि बिहार में स्वास्थ्य का जो वर्तमान ढांचा है, उसमें हम कोरोना की तीसरी लहर का मुक़ाबला नहीं कर सकते।

भाकपा माले नेता और पालीगंज के विधायक संदीप सौरभ ने कहा कि हमारे यहां स्वास्थ्य को लेकर दोहरी नागरिकता है।

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता और एमएलसी प्रेमचंद मिश्रा ने कहा कि बिहार में स्थास्थ्य की स्थिति भयावह है।

परिचर्चा में विभिन्न ज़िलों से आईं आंगनबाड़ी सेविकाएं भी मौजूद थीं। उन्होंने बताया कि लोगों को स्वास्थ्य सुविधाओं को उपलब्ध कराने में हुई नाकामी का ठीकरा आंगनबाड़ी पर फोड़ा जा रहा है। वहीं, बिहार लोक संवाद से बातचीत करते हुए जन स्वास्थ्य अभियान से जुड़े अरमान सुहैल ने सरकार से तीसरी लहर के दौरान बच्चों को सुरक्षित रखने के लिए ठोस उपाय करने की मांग की।

 506 total views

Share Now

Leave a Reply