सोनिया का संदेश: ‘दिल्ली और बिहार की सरकारें ‘बंदी सरकारें’, इन्हें उखाड़ फेंकें’

बिहार लोक संवाद ब्यूरो
पटना, 27 अक्तूबर: बिहार में 28 अक्तूबर को होने वाले प्रथम चरण के विधान सभा चुनाव से ठीक एक दिन पहले कांग्रेेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बिहारवासियों के नाम एक वीडियो संदेश जारी किया है। इस संदेश में उन्होंने केन्द्र की मोदी और बिहार की नीतीश सरकार को ‘बंदी सरकार’ करार दिया है। इसके साथ ही सोनिया गांधी ने बिहार की जनता से अपील करते हुए कहा है कि वो महागठबंधन के उम्मीदवारों को वोट दें और नए बिहार का निर्माण करें।

सोनिया गांधी के संदेश का मुकम्मल टेक्स्ट यहां देखें
बिहार के मेरे प्यारे भाईयों और बहनों,
बिहार की पवित्र और ऐतिहासिक धरती को मैं नमन करती हूँ…

आज बिहार में सत्ता और उसके अहंकार में डूबी सरकार अपने रास्ते से अलग हट गई है। ना उनकी करनी अच्छी है, ना कथनी। मज़दूर आज मजबूर है। किसान आज परेशान है। नौजवान आज निराश है। अर्थव्यवस्था की नाजुक स्थिति लोगों के जीवन पर भारी पड़ रही है। धरती के बेटों पर आज गंभीर संकट है। दलितों और महादलितों को बेहाली की कगार पर लाकर छोड़ दिया गया है। समाज के पिछड़े वर्ग भी इसी बदहाली के शिकार हैं।

बिहार की जनता की आवाज कांग्रेस महागठबंधन के साथ है। यही है आज बिहार की पुकार।

दिल्ली और बिहार की सरकारें, ‘बंदी सरकारें’ हैं – नोटबंदी, तालाबंदी, व्यापारबंदी, आर्थिकबंदी, खेत-खलिहान बंदी, रोटी-रोजगार बंदी।
इसीलिए, बंदी सरकार के खिलाफ – अगली नस्ल और अगली फसल के लिए, एक नए बिहार के निर्माण के लिए, बिहार की जनता तैयार है। अब बदलाव की बयार है। क्योंकि बदलाव जोश है, ऊर्जा है, नई सोच है और शक्ति है। अब नई इबारत लिखने का समय आ गया है।
बिहार के हाथों में गुण है, हुनर है, ताकत है, निर्माण की शक्ति है, लेकिन बेरोजगारी, पलायन, महंगाई, भुखमरी ने उनकी आंखों में आंसू और पैरों में छाले दे दिए हैं। जो शब्द कहे नहीं जा सकते, उसे आंसुओं से कहना पड़ता है। भय, डर, खौफ, अपराध के आधार पर नीति और सरकारें खड़ी नहीं की जा सकतीं।

बिहार भारत का आईना है, एक आशा है। भारत का विश्वास है, जोश है – जुनून है। बिहार भारत की शान भी है और अभिमान भी।
बिहार के किसान, युवा, मजदूर, भाई और बहनें सिर्फ बिहार में नहीं, बल्कि पूरे भारत और दुनिया के कोने कोने में हैं।
आज वही बिहार अपने गांव, कस्बे, शहरों, खेतों और खलिहानों में अपनी शान और भविष्य के लिए नए बदलाव को तैयार है।
इसीलिए तो मैंने कहा कि बदलाव की बयार है।

वोट की स्याही वाली उंगली अब सवाल लेकर खड़ी है। सवाल बेरोज़गारी का है। सवाल खेती बचाने का है। सवाल रोटी और रोजगार का है। सवाल शिक्षा और सेहत का है। सवाल उद्योग-धंधे का है। सवाल बेलगाम अपराध पर रोक लगाने का है। सवाल तानाशाही शासन पर है।

इसलिये आज वक्त है –
अंधेरे से उजाले की ओर, झूठ से सच की ओर, वर्तमान से भविष्य की ओर बढ़ने का।
ज्ञान की धरती कहे जाने वाले बिहार की जनता से मेरी अपील है कि वो महागठबंधन के उम्मीदवारों को वोट दें और नए बिहार का निर्माण करें।

धन्यवाद।
जय हिंद!
सोनिया गांधी

 508 total views

Share Now

Leave a Reply