मदरसे के बच्चों के लिए चलाया जाएगा किशोर शिक्षा कार्यक्रम

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट पटना

बिहार के मदरसों में पढ़ने वाले किशोर-किशोरियों की समकालीन आवश्यकताओं के मद्देनज़र बिहार मदरसा एजुकेशन बोर्ड, अल्पसंख्यक कल्याण विभाग और यूएनएफ़पीए मिल कर काम करेंगे। इसके तहत सभी 38 ज़िलों के लगभग ढाई हज़ार मदरसों में किशोर शिक्षा कार्यक्रम चलाया जाएगा। यह कार्यक्रम मदरसे में पढ़ने वाले छठे से दसवें क्लास के बच्चों के लिए होगा। इसके लिए पटना में 15 और 16 फरवरी को दो दिवसीय मल्टी पार्टनर मीट का आयोजन किया गया।

इस अवसर पर बिहार लोक संवाद डाॅट नेट से बात करते हुए UNFPA के स्टेट कोआॅर्डिनेटर डाॅक्टर नदीम नूर ने कहा कि मकसद स्कूली बच्चों और मदरसा में पढ़ने वाले विद्यार्थियों के फ़र्क़ को मिटाना है।

अल्पसंख्यक कल्याण विभाग की सचिव डाॅ. सफ़ीना एएन ने कहा कि मदरसे में पढ़ने वाले कुल विद्यार्थियों में से 75 फ़ीसद तादाद लड़कियों की है। ऐसी लड़कियों को मेनस्ट्रीम में लाना है।

मशहूर सर्जन डाॅ. अहमद अब्दुल हई ने इस कार्यक्रम का स्वागत किया और कहा कि मदरसा के बच्चों को नज़रअंदाज़ करके तरक़्क़ी की बात नहीं की जा सकती।

इस पूरे कार्यक्रम की खटकने वाली बात ये रही कि इसमें चेयरमैन अब्दुल क़य्यूम अंसारी समेत पूरा मदरसा बोर्ड ग़ायब रहा।

 990 total views

Share Now

Leave a Reply