छपी-अनछपी: कांग्रेस की राजस्थान गुत्थी, डॉलर के सामने रुपया बेबस

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। आज की राजनीति में एक ओर भाजपा की पहचान जहां हारने के बावजूद सरकार बनाने की हो गई है तो दूसरी ओर कांग्रेज़ जीती हुई सरकारों से भी हाथ धोने के लिए बदनाम हो रही है। राजस्थान में कांग्रेस को ऐसे ही संकट का सामना है जिसकी गुत्थी सुलझ नहीं रही। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत गांधी परिवार के वफादार माने जा रहे थे लेकिन ऐसा लगता है कि वहां बगावत के खेल में इनका ही हाथ है। गहलोत कांग्रेस अध्यक्ष बनने के साथ सीएम भी बने रहना चाहते हैं या कम से कम सचिन पायलट को सीएम नहीं बनने देना चाहते। इसके बदले वे अपने वफादार को सीएम की कुर्सी सौंपना चाहते हैं। यही खबर लगातार दूसरे दिन सबसे बड़ी सुर्खी बनी हुई है।

हिंदुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: राजस्थान की गुत्थी को सुलझाने में जुटी सोनिया। जागरण में भी यही सबसे बड़ी खबर है। उसकी हेडिंग है: कांग्रेस में जारी है कलह, गहलोत के पार्टी अध्यक्ष बनने पर लगा ‘ग्रहण’। प्रभात खबर ने लिखा है: अध्यक्ष की रेस से हट सकते हैं गहलोत नए नामों पर चर्चा। भास्कर ने दिलचस्प हेडिंग लगाई है: गहलोत का परचा आउट। 

भास्कर की और बड़ी खबर है: पटना से सासाराम जीटी रोड तक मिलेगी एक्सप्रेसवे कनेक्टिविटी।

कहते हैं मौत किसको, कब, कहां और कैसे दबोच ले कोई नहीं बता सकता। ऐसा ही एक मामला सोमवार को फुलवारी शरीफ में पेश आया जब एक ताड़ का पेड़ एम्स की तरफ जा रहे ऑटो पर गिर गया और 2 लोगों की मौत हो गई। पांच और लोग गंभीर रूप से ज़ख्मी हैं। ताड़ के पेड़ उस जगह पर था जहां फुलवारी नगर परिषद का कूड़ा डंप किया जाता है। उस समय वहां जेसीबी का बुलडोजर चल रहा था। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की ओर से पीड़ित परिवारों को सहायता राशि देने की घोषणा की गई है लेकिन सवाल यह है कि ऐसे पेड़ आखिर वहां थे क्यों और क्या सावधानी बरत कर इस घटना को टाला जा सकता था।

जागरण की एक खबर है: एकजुटता को अपना दल की कृष्णा पटेल से मिले नीतीश। यह वही कृष्णा पटेल है जिनकी बेटी प्रीति पटेल ने यूपी के तत्कालीन उपमुख्यमंत्री भाजपा के कृष्ण प्रसाद मौर्य को हराया था। 

पाकिस्तान को लड़ाकू विमान एफ-16  दिए जाने पर विदेश मंत्री इस. जयशंकर की प्रतिक्रिया को भी प्रमुखता दी गयी है। जागरण की सुर्खी है: पाक को एफ-16 पैकेज पर जयशंकर ने अमेरिका से कहा कि से बेवकूफ बना रहे।

पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर प्रतिबंध लगाने से पहले एनआईए की ओर से हर दिन नए आरोप सामने आ रहे हैं। जागरण की एक खबर है: अयोध्या और काशी में उपद्रव का था पीएफ का षड्यंत्र।

गरीबों के लिए 5 लाख रुपये तक की हेल्थ इंश्योरेंस योजना का लाभ ज्यादा से ज्यादा लोगों को मिले इसके लिए आयुष्मान कार्ड बनाने को अस्पतालों में शिविर लगाए जाएंगे प्रोग्राम यह खबर हिंदुस्तान में प्रमुखता से छपी है।

डॉलर के मुकाबले रुपए की घटती कीमत की खबर हिंदुस्तान ने आज पहले पेज पर प्रमुखता से छापी है। इसकी शुरू की है रूपया 58 पैसे टूटकर अब तक के सबसे निचले स्तर पर। किसी ज़माने में गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री और वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का वह बयान बहुत मशहूर हुआ था जिसमें उन्होंने रुपए की गिरती कीमत के बाद को प्रधानमंत्री की प्रतिष्ठा से जोड़ा था।

अनछपी: शेयर बाजार और डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत दो ऐसे विषय रहे हैं जिस पर भाजपा ने हमेशा कांग्रेस के राज में तीखी टिप्पणियां की हैं। लेकिन जब उसकी अपनी बारी आती है तो वह दुनियाभर की बातें करती है। वह यह बताना शुरू करती है कि डॉलर के मुकाबले और कहां-कहां की करेंसी कमज़ोर हुई है। ज़ाहिर है जब किसी सरकार को निशाने पर लेना होता है तो भाजपा यह बात भूल जाती है कि उस समय भी वह दूसरी मुद्राओं की हालत बताये। यही बात पेट्रोल-डीजल की कीमत के वक़्त होती है। जब भाजपा बढ़ाती है तो वर्ल्ड मार्केट का रेट बताने लगती है हालांकि उसके राज में कई बार कच्चे तेल की कीमत हुई है लेकिन भारतीय उपभोक्ता अधिक कीमत पर खरीदने को मजबूर होते हैं। तो तेल और तेल की धार देखते रहिए कि कैसे उसे बढ़िया और घटिया बताया जाता है। 

 

 406 total views

Share Now

Leave a Reply