नहीं रहे एमएलसी तनवीर अख़तर और एदारा शरीया के संरक्षक सनाउल्लाह रिज़वी, सीएम ने किया शोक व्यक्त

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट पटना

बिहार की उर्दू आबादी को कोविड-19 ने शनिवार को दो बड़े झटके दिए। एक ही दिन में बिहार विधान परिषद् के सदस्य मोहम्मद तनवीर अख़तर और बिहार की प्रतिष्ठित धार्मिक एवं सामाजिक संस्था एदारा शरीय के पूर्व नाजिमे आला और संरक्षक अलहाज सैयद सनाउल्लाह रिज़वी का देहांत हो गया।

बिहार विधान परिषद के सदस्य एवं बिहार जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रभारी तनवीर अखतर कोविड-19 से संक्रमित थे। उनका इलाज पटना के आईजीआईएमएस में हो रहा था। इलाज के दौरान शनिवार को उन्होंने अस्पताल में अंतिम सांस ली।

तनवीर अखघ््तर का संबंध गया जिला के न्यू करीमगंज स्थित शांतिबाग से था। उनका जन्म 11 अक्तूबर 1962 को हुआ था। उन्होंने जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय से एमफिल किया था। वो एनएसयूआई से जेएनयू छात्रसंघ के अध्यक्ष और आॅल इंडिया यूथ कांग्रेस से संयुक्त सचिव रह चुके थे। एनएसयूआई बिहार के अध्यक्ष भी थे।

तनवीर अख़तर के छोटे भाई सादिक़ अख़तर ने बिहार लोक संवाद डाॅट नेट को बताया कि स्वर्गीय तनवीर शुरू से ही कांगे्रस के जुड़े थे। चार साल पहले उन्होंने जेडीयू ज्वायन किया था। 22 जुलाई, 2016 को उन्होंने विधान परिषद् की सदस्यता ग्रहण की थी। उनका कार्यकाल 21 जुलाई, 2022 तक था।

तनवीर अख़तर को निमोनिया हो गया था। पिछले 26 अप्रैल को तबियत बिगड़ने पर आईजीआईएमएस में भर्ती हुए थे जहां उन्हों कोरोना कोरोना पाॅजिटिव पाया गया था। शनिवार की सुबह उन्होंने आखघ्री सांस ली। फुलवारीशरीफ स्थित हाजी हरमैन क़ब्रिस्तान में उनकी आखि़री रसूम राजकीय सम्मान के साथ अदा की गई।

वेबपोर्टल मंथन के संपादक सेराज अनवर बताते हैं कि तनवीर अख़तर पूर्व केंद्रीय मंत्री गुलाम नबी आजाद के बेहद करीबी थे। बिहार में मंत्री अशोक चैधरी के प्रिय थे। अशोक चैधरी ने जब कांग्रेस छोड़ी तो तनवीर अख़तर भी उनके साथ जदयू में आ गये। वो जदयू अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष भी थे।

तनवीर अख़तर के इंतकाल पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने गहरा शोक व्यक्त किया है। अपने शोक संदेश में नीतीश कुमार ने कहा, ‘‘तनवीर अख़तर एक कुशल राजनेता थे। वे मिलनसार व्यक्ति थे और लोगों के बीच काफी लोकप्रिय थे। उनके निधन से राजनीतिक और सामाजिक क्षेत्र में अपूर्णीय क्षति हुई है।’’

वहीं, पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष व सांसद रामचन्द्र प्रसाद सिंह, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बशिष्ठ नारायण सिंह एवं प्रदेश अध्यक्ष उमेश सिंह कुशवाहा ने शोक व्यक्त करते हुए कहा कि स्व. तनवीर अख्तर के रूप में आज बिहार ने एक शालीन नेता को खो दिया। इनके इंतकाल से पार्टी ने जो खोया है, उसकी पूर्ति संभव नहीं है।

दूसरी ओर एदारा शरीया के संरक्षक हाजी सैयद सनाउल्लाह रिजवी का आज सुबह पटना में निधन हो गया। कोरोना से पीड़ित थे।

स्वर्गीय सनाउल्लाह मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफी करीब थे। उनके इंतेकाल पर नीतीश कुमार ने अपने शोक संदेश में कहा कि ‘‘सनाउल्लाह साहब के इंतेकाल की खबर से बहुत दुखी हूं। वो मिलनसार व्यक्ति थे और सामाजिक कार्यों में उनकी गहरी अभिरुचि थी। उनके इंतेकाल से सामाजिक और धार्मिक क्षेत्र में अपूर्णीय क्षति हुई है।’’

जमाअते इस्लामी हिन्द बिहार के प्रदेश अध्यक्ष मौलाना रिजवान अहमद इस्लाही ने भी अलहाज सनाउल्लाह के इंतेकाल पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा, ‘‘अलहाज सनाउल्लाह हर प्रकार की संकीर्णता से ऊपर उठकर मुसलमानों के हित में काम करते थे। वो मुसलमानों में एकता के हामी थे। एदारा शरीया के विकास एवं विस्तार में उनका महत्वपूर्ण योगदान रहा है। वो शिक्षा एवं स्वास्थ्य के क्षेत्र में सक्रिय थे जिसकी मिसाल अनिसाबाद स्थित एस एस अस्पताल है।’’ मौलाना रिवजवान अहमद ने कहा कि अलहाज सनाउल्लाह जमाअते इस्लामी हिन्द के लोक कल्याणकारी कार्यों में सहयोग करते थे।

 

 424 total views

Share Now

Leave a Reply