“फुलवारी में आतंकवाद का आरोप नहीं, देश-विरोध का सबूत नहीं”

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना।
भाकपा-माले, एआइपीएफ और इंसाफ मंच की एक संयुक्त राज्यस्तरीय टीम ने मंगलवार को फुलवारीशरीफ का दौरा किया और बाद में आयोजित प्रेस काॅन्फ्रेंस में कहा कि पुलिस कहती है कि उसने आतंकवाद की बात नहीं की है। इस दल ने अपनी जांच पड़ताल के बाद यह पाया कि देश विरोध का आरोप लगाकर पुलिस ने पांच लोगों को गिरफ्तार तो कर लिया मगर उसके इसे साबित करने के लिए कोई ठोस सबूत नहीं है।
जांच टीम ने कहा कि यह पूरा मामला भाजपा के मिशन 2024 का हिस्सा है, जिसमें भाजपा मुस्लिम समुदाय को एक बार फिर से टारगेट पर ले रही है और इसके जरिए देश में हिंदू-मुसलमान का ध्रुवीकरण करने की कोशिश कर रही है। दुर्भाग्यूपर्ण यह है कि पूरा प्रशासनिक तंत्र आज भाजपा के इशारे पर काम कर रही है।

जांच टीम ने इस मसले पर नीतीश कुमार की अबतक की चुप्पी की कड़ी आलोचना की। कहा कि वे मुसलमानों के रहनुमा होने का दावा करते हैं, लेकिन जब एक-दो संदिग्ध मामलों को लेकर पूरे मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाया जा रहा है, तब उन्होंने एक शब्द बोलना उचित नहीं समझा।
जांच टीम को गिरफ्तार चार आरोपितों के खिलाफ कोई ठोस सबूत नहीं मिला। जिस प्रशासन ने उन्हें गिरफ्तार किया है, वे भी कोई ठोस सबूत उपलब्ध नहीं करवा सके, लेकिन मामले को ऐसा बढ़ा-चढ़ाकर प्रस्तुत किया जा रहा है, मानो फुलवारीशरीफ आतंकवाद का केंद्र हो। प्रशासन की इस तरह की गैरजिम्मेवाराना व अंधेरे में रखने वाली कार्रवाइयों ने मुस्लिम समुदाय को दहशत के साए में जीने को मजबूर कर दिया है। इसके खिलाफ भाकपा-माले, एआइपीएफ व इंसाफ मंच 21-23 जुलाई को पूरे राज्य में नागरिक प्रतिवाद का ऐलान किया है।
जांच टीम ने सबसे पहले पीएफआइ को किराए पर जगह देने वाले जलालुद्दीन खां के घर का दौरा किया, जिसका नाम अहमद पैलेस है. उनके भाई अशरफ अली व उनके बेटे से बात की। फिर अतहर परवेज, अरमान मलिक तथा कथित गजवा-ए-हिंद से जुड़े होने के आरोप में गिरफ्तार मरगूब के घर का दौरा किया, उनके परिजनों से मुलाकात की और पूरे मामले की तहकीकात की। जांच टीम ने एएसपी मनीष कुमार से भी बातचीत की। उसने इमारत-ए-शरिया का भी दौरा किया और वहां के पदाधिकारियों से बात की।
जांच टीम में भाकपा-माले के राज्य सचिव कुणाल, पोलित ब्यूरो के सदस्य काॅ. अमर, भाकपा-माले विधायक दल के नेता महबूब आलम, फुलवारी से पार्टी विधायक गोपाल रविदास, पालीगंज से पार्टी विधायक संदीप सौरभ, एआइपीएफ के गालिब व अनिल अंशुमनय भाकपा-माले के मीडिया प्रभारी कुमार परवेज, इंसाफ मंच के राज्य अध्यक्ष सूरज कुमार सिंह, राज्य सचिव कयामुद्दीन अंसारी, आफताब आलम, फहद जमां, असलम रहमानी, आफ्शा जबीं, नसरीन बानो तथा स्थानीय पार्टी नेता गुरूदेव दास, साधु प्रसाद सहित कई स्थानीय लोग शामिल थे।

 497 total views

Share Now

Leave a Reply