छपी-अनछपी: बोधगया में 11 विदेशी कोरोना पॉज़िटिव मिले, बीएसएससी: लीक पेपर की परीक्षा रद्द 

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। चीन और दुनिया के दूसरे हिस्सों में दोबारा कोरोना बढ़ने की शिकायतों के बीच बोधगया में भी 11 विदेशी पर्यटकों के कोरोना पॉज़िटिव होने की खबर सभी अखबारों में प्रमुखता से है लेकिन सबसे बड़ी खबर बिहार स्टाफ सेलेक्शन कमीशन की 23 दिसंबर को हुई पहली पारी की पीटी परीक्षा रद्द होने की सूचना है। आतंक मामले में अभियुक्त बनीं भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर का एक विवादित बयान फिर चर्चा में है। इधर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इतिहास के बारे में दिया गया बयान भी अखबारों में प्रमुखता से लिया गया है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी सुर्खी है: बीएसएससी: 23 दिसंबर को हुई पहली पाली की पीटी रद्द। जागरण की पहली खबर भी यही है: बीएएसससी प्रथम पाली की परीक्षा रद्द। भास्कर ने भी इसे ही लीड बनाया है: BSSC: पहली पारी की परीक्षा रद्द, लीक करने में राजस्व कर्मी भी।
अखबारों के अनुसार बिहार कर्मचारी चयन आयोग ने सोमवार की देर रात सचिवालय सहायक सहित अन्य पदों के लिए 23 दिसंबर को हुई तृतीय स्नातक स्तरीय प्रारंभिक परीक्षा की पहली पाली की परीक्षा को रद्द कर दिया है। पहली पाली के प्रश्न पत्र लीक होने को लेकर आयोग ने यह कदम उठाया है। हालांकि शेष पालियों की परीक्षा को रद्द नहीं किया गया है। यह जानकारी आयोग के सचिव सुनील कुमार ने दी। साथ ही बताया कि पहली पाली की रद्द परीक्षा 45 दिनों के अंदर ली जाएगी। पहली पाली में करीब तीन लाख छात्र परीक्षार्थी शामिल हुए थे।

11 विदेशी कोरोना संक्रमित
भास्कर की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: बिहार में भी पहुंचा कोरोना, बोधगया में 11 विदेशी पर्यटक पॉजिटिव मिले। हिन्दुस्तान में भी पहले पेज पर यह खबर है: गया: धार्मिक यात्रा पर आए 11 विदेशी कोरोना संक्रमित। दो दिनों की जांच में धार्मिक यात्रा पर बोधगया पहुंचे 11 विदेशी कोरोना संक्रमित मिले हैं। इनमें म्यांमार के तीन, बैंकॉक के पांच और ताइवान के तीन लोग शामिल हैं। सोमवार को सात संक्रमित मिले थे जिनमें ताइवान के तीन, बैंकॉक के दो, म्यांमार के दो हैं। वहीं रविवार को चार की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। इनमें बैंकॉक के तीन और एक म्यांमार के थे। सभी 29 दिसंबर से प्रस्तावित धर्मगुरु दलाई लामा के प्रवचन में शामिल होने पहुंचे थे। सभी संक्रमितों का सैंपल जीनोम सीक्वेंसिंग के लिए आईजीआईएमएस भेजा गया है।

लालू के खिलाफ सीबीआई
जागरण में पहले पेज पर खबर है: फिर बढ़ी लालू की परेशानी, सीबीआई शुरू करेगी जांच। भास्कर ने लिखा है: सीबीआई ने लालू के खिलाफ जो केस पिछले साल बंद किया, उसे फिर खोला। हालांकि हिन्दुस्तान ने थोड़ी सतर्क हेडिंग लगाई है: आईआरसीटीसी घोटाले की दोबारा जांच पर चर्चा तेज। आईआरसीटीसी घोटाला मामले की जांच सीबीआई द्वारा दोबारा शुरू करने की चर्चा से सोमवार को सियासी सरगर्मी तेज हो गई। विभिन्न समाचार चैनलों पर भी इससे संबंधित खबरें चलीं। हालांकि, सीबीआई सूत्रों ने इसकी पुष्टि नहीं की है। इस बीच राजद ने इस मामले को सीबीआई द्वारा वर्षों बाद पुन: खोलने को लेकर सवाल उठाए हैं। उप मुख्यमंत्री तेजस्वी प्रसाद यादव ने देर शाम नई दिल्ली से पटना पहुंचने के बाद एयरपोर्ट पर मीडिया से बातचीत में कहा कि सीबीआई जांच से कोई फर्क नहीं पड़ता। मामले की पहले भी जांच की जा चुकी है।

कड़ाके की ठंड
भास्कर ने खबर दी है: देर से आई ठंड, दिसंबर में 16 शहरों में औसत न्यूनतम तापमान 11° रहा। इनमें पटना भी शामिल है। हिन्दुस्तान ने लिखा है: जम्मू से जापान तक कड़ाके की ठंड से ठिठुरते लोग। बर्फीले तूफान और भारी बर्फबारी से अमेरिका-कनाडा में 52 लोगों की मौत हो गई है, वहीं जापान में भी 17 लोगों की जान चली गई। दर्जनों लोग बर्फ के बीच अब भी फंसे हैं, जिससे मृतकों का आंकड़ा बढ़ सकता है। इधर, जम्मू-कश्मीर, पंजाब, दिल्ली समेत पूरे उत्तर भारत में शीत लहर से लोग ठिठुरन का सामना कर रहे हैं।

प्रज्ञा की ज़हरबयानी 
भास्कर ने प्रमुखता से यह खबर दी है: भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर का विवादित बयान- चाकू तेज रखो सब्जी कटेगी तो मुंह सिर भी अच्छे से कटेंगे। कर्नाटक के शहर शिवमोगा में भाजपा सांसद प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि हिंदुओं को उन पर व उनकी गरिमा पर हमला करने वालों को जवाब देने का अधिकार है। भोपाल से सांसद ठाकुर ने एक विवादास्पद बयान देते हुए हिन्दू समुदाय के सदस्यों से घरों में धारदार चाकू रखने को कहा, क्योंकि सभी को अपनी रक्षा करने का अधिकार है। उन्होंने रविवार को यहां हिंदू जागरण वेदिका के दक्षिण क्षेत्र के वार्षिक समारोह में कहा,अपनी बेटियों की रक्षा करो, उन्हें सही मूल्य सिखाओ।

बात इतिहास की 
हिन्दुस्तान ने पहले पेज पर खबर दी है: नया भारत पुरानी भूलें सुधार रहा मोदी। जागरण ने लिखा है: इतिहास के नाम पर पढ़ाया जा रहा गड़ा हुआ विमर्श: मोदी। सिख गुरु, गुरु गोविंद सिंह के साहिबजादों की शहादत की याद में पहले वीर बाल दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि साहिबजादों के त्याग और शौर्यगाथा को इतिहास में भुला दिया गया। लेकिन, अब नया भारत दशकों पहले हुई पुरानी भूल को सुधार रहा है। दिल्ली के मेजर ध्यानचंद नेशनल स्टेडियम में साहिबजादों के बलिदान को याद करते हुए उन्होंने कहा, यह दिन अपने अतीत का जश्न मनाने और लोगों को भविष्य के लिए प्रेरित करने का अवसर है। उन्होंने कहा: “दुर्भाग्य से हमें इतिहास के नाम पर वह गढ़े हुए विमर्श बताए और पढ़ाए जाते रहे, जिससे हममें हीन भावना पैदा हो। मोदी ने कहा कि एक ओर आतंक था तो दूसरी ओर अध्यात्म। औरंगजेब और उसके लोग गुरु गोविंद सिंह के बच्चों का धर्म तलवार के दम पर बदलना चाहते थे।”

अनछपी: भारत में विवादित बयानों से सामाजिक सौहार्द बिगड़ने की बात नई नहीं है लेकिन आज के अखबारों में जो दो बयान आए हैं वह बेहद गंभीर हैं और इनके बारे में स्पष्ट राय व्यक्त करना जरूरी है। आतंक मामले में अभियुक्त भाजपा सांसद प्रज्ञा ठाकुर ने चाकू तेज कराने की बात कही तो उन्होंने दुश्मन का नाम नहीं बताया लेकिन सबको पता है कि उनका इशारा किस और है। उनका इस तरह का विवादित बयान पहली बार नहीं आया है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार उनके बारे में ही कहा था कि वह उन्हें कभी मन से माफ नहीं कर पाएंगे। प्रधानमंत्री उन्हें माफ करते हैं या नहीं लेकिन इतना तय है कि उनके इस घृणित बयान से देश का सामाजिक माहौल और खराब होगा। प्रज्ञा ने यह बयान वैसे तो कर्नाटक में दिया है लेकिन अगले साल ही मध्य प्रदेश का इलेक्शन होने वाला है जहां की राजधानी भोपाल से वह सांसद हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस इतिहास के विमर्श को बदलने की बात कही है वह कम खतरनाक नहीं है बल्कि वैचारिक रूप से वह अधिक घातक है। 300 साल पहले के इतिहास को आज अपने राजनीतिक स्वार्थ के लिए बदलने की यह मंशा चिंता का विषय है। इतिहास की पढ़ाई वर्तमान और भविष्य में सद्भावना के लिए होनी चाहिए न कि इसे बिगाड़ कर राजनीतिक रोटी सेकने के लिए। इतिहास में हुए अत्याचारों की चर्चा निस्संदेह होनी चाहिए लेकिन उसका इस्तेमाल धार्मिक भावनाएं भड़काने के लिए हो तो इस पर जरूर सवाल करना चाहिए। यह बात दुखद है कि सत्ता के शीर्ष से ऐसी बातें निकलती हैं लेकिन जिम्मेदार नागरिकों को भी इसके प्रति सतर्क रहने की जरूरत है।

 955 total views

Share Now

Leave a Reply