छ्पी-अनछपी: विधायक खरीद-फरोख्त मामले की जांच इओयू को, दरभंगा में बवाल के बाद इंटरनेट बंद

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। नीतीश कुमार की नई एनडीए सरकार के विश्वास मत के दौरान कथित तौर पर विधायकों की खरीद फरोख्त की जांच इकोनॉमिक ऑफेंस यूनिट (ईओयू) करेगी। दरभंगा में सरस्वती पूजा के प्रतिमा विसर्जन के दौरान हुए बवाल के कारण इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है। दशकों से कांग्रेस में रहे पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के भारतीय जनता पार्टी में शामिल होने की अटकलें हैं। इन तीनों खबरों को आज सभी अखबारों ने प्रमुखता दी है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: विधायक खरीद-फरोख्त मामले की जांच ईओयू को। जागरण की सुर्खी है विधायकों की खरीद फरोख्त मामले की जांच करेगी ईओयू। विधानसभा में एनडीए सरकार के 12 फरवरी को सदन में बहुमत हासिल करने से पहले विधायकों की खरीद-फरोख्त की कोशिश के आरोप लगे थे। इस मामले की जांच अब आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) करेगी। डीजीपी आरएस भट्टी के आदेश के बाद पटना के कोतवाली थाने में दर्ज प्राथमिकी (संख्या- 101/24 ) शनिवार को आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) को स्थानांतरित कर दी गई। पूरे मामले की तफ्तीश के लिए इओयू के डीएसपी भाष्कर रंजन को इस जांच पदाधिकारी नियुक्त किया गया है। डीएसपी के नेतृत्व में गठित टीम ने इस मामले से जुड़े सभी पहलुओं की पड़ताल शुरू कर दी है। ध्यान रहे कि विश्वास मत के दिन जदयू के दो विधायक बीमा भारती और डॉक्टर संजीव कुमार देर से सदन पहुंचे थे जबकि दिलीप राय अनुपस्थित रहे थे।

एफआईआर में क्या है

जदयू विधायक सुधांशु की तरफ से दर्ज कराई गई एफआईआर में उन्हें फोन पर प्रलोभन देने की बात कही गयी है। उनके मुताबिक उन्हें महागठबंधन के पक्ष में वोट करने के एवज में पांच करोड़ रुपये तत्काल देने का ऑफर किया गया था और 5 करोड़ काम होने के बाद या मंत्री पद देने की बात कही गई थी। उन्होंने हाजीपुर में रहने वाले अपने बहनोई के मोबाइल नंबर का जिक्र करते हुए इंजीनियर सुनील की तरफ से ऑफर देने की बात कही है।

किन किन पर आरोप है

जिन नेताओं पर प्रलोभन देने या खरीद-फरोख्त की कोशिश करने के आरोप एफआईआर में लगाए गए हैं, उसमें पूर्व मंत्री नागमणि कुशवाहा, अखिलेश, राजद प्रवक्ता शक्ति यादव के अलावा जदयू के परबत्ता विधायक डॉ. संजीव समेत अन्य शामिल हैं।

जांच में क्या होगा

भास्कर के अनुसार ईओयू ने साथ अफसर की टीम बनाई है जो संबंधित जिलों में पुलिस कर्मियों की मदद से जांच करेगी। ईओयू शिकायतकर्ता विधायक और ऑफर देने वाले व्यक्ति से पूछताछ कर सकती है। इसके साथ ही सबूत जुटाने के लिए ऑफर देने वाले स्थान पर एक्टिव मोबाइल व सीसीटीवी सहित अन्य आधुनिक तरीक़ों का इस्तेमाल होगा। ईओयू जांच कर रही है कि कितने रुपए किसे दिए जाने थे और पैसा कहां से आना था।

दरभंगा में इंटरनेट बंद

हिन्दुस्तान के अनुसार दरभंगा में सरस्वती पूजा के विसर्जन के बाद हुए बवाल के बाद शनिवार को बिहार सरकार के गृह विभाग ने जिले में इंटरनेट सेवा बंद कर दी। देर शाम उपभोक्ताओं के मोबाइल पर आए मैसेज से इसकी जानकारी हुई। जिले में 19 फरवरी के अपराह्न 2 बजे तक इंटरनेट सेवा बंद रहेगी। सोशल नेटवर्किंग साइटों के माध्यम से आमलोगों के बीच अफवाह नहीं फैले इसको लेकर प्रशासन ने एहतियाती कदम उठाए हैं। गुरुवार को दरभंगा शहर से सटे भालपट्टी ओपी क्षेत्र के मुरिया गांव में मूर्ति विसर्जन के दौरान बवाल हुआ था। वहीं, शुक्रवार को बहेड़ा थाना क्षेत्र के बहेड़ा में पथराव की घटना हुई। हनुमाननगर क्षेत्र में शुक्रवार को उपद्रव हुआ।

कमलनाथ भाजपा में जाएंगे?

भास्कर ने एक दिलचस्प सुर्खी लगाई है। कमल का फूल बनाकर आगे लिखा है- नाथ। अखबार ने लिखा है कि भाजपा में शामिल होने की अटकलें के बीच मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ अपने सांसद बेटे नकुलनाथ के साथ शनिवार दोपहर दिल्ली पहुंचे। लोकसभा चुनाव से पहले दोनों का समर्थकों के साथ भाजपा में जाना तय माना जा रहा है। सूत्रों के अनुसार कमलनाथ की अभी पीएम नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात नहीं हुई है। भाजपा में जॉइनिंग उसके बाद होगी। बताते हैं की कमलनाथ के समर्थक 30 विधायक भी भाजपा में जाने को तैयार हैं।

क़र्ज़ से तंग होकर लगा ली आग, तीन बच्चे मरे

कटिहार के कदवा थाना क्षेत्र की भर्री पंचायत के वार्ड संख्या 13 जाजा गांव में कर्ज (ग्रुप लोन) से परेशान परिवार पिता ने घर में आग लगा दी। अगलगी में उसके तीन बच्चों की झुलसकर मौत हो गई। इस लोमहर्षक वारदात में गृहस्वामी दिनेश कुमार सिंह (45) भी बुरी तरह जख्मी हो गया। उसकी पत्नी ने फाइनेंस कंपनी से एक लाख लोन लिया था। महाजन से भी कर्ज लिया था। दिनेश बाहर कमाता था। एक सप्ताह पहले घर लौटा था। लौटते ही फाइनेंस कंपनी वाले रुपए मांगने लगे। पति-पत्नी के बीच विवाद हुआ। 5 दिन पहले पत्नी सुरबजन देवी घर से भाग गई। तकाजे और पत्नी के घर छोड़ने से तंग दिनेश ने शुक्रवार रात 10:00 बजे घर में आग लगा दी।

देश के छोटे व्यापारी डरे हुए: राहुल

वाराणसी से हिन्दुस्तान की खबर है कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने शनिवार को काशी में ‘भारत जोड़ो न्याय यात्रा’ को आगे बढ़ाया। बाबा विश्वनाथ का दर्शन किया। गोदौलिया चौराहा पर जनसभा को संबोधित किया। बोले, देश का छोटा व्यापारी डरा हुआ है। जनसभा के बाद उनकी यात्रा शहर के विभिन्न रास्तों से होती हुई भदोही की ओर बढ़ी। बीच में कोरोना के पास राहुल ने अपनी यात्रा स्थगित कर दी और केरल के वायनाड रवाना हो गए। वह आगे की यात्रा रविवार को प्रयागराज से शुरू करेंगे।

विकसित समाज में नफरत की जगह नहीं: मदनी

जागरण की खबर है कि भागलपुर के चंपानगर में मदनीनगर चौक के पास मदनी मैदान में शनिवार को राष्ट्रीय एकता व जमीयत कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया। यह कार्यक्रम जमीयत उलेमा, भागलपुर वह जमीयत सद्भावना मंच के बैनर तले हुआ। दारुल उलूम, देवबंद और जमीयत उलेमा के राष्ट्रीय अध्यक्ष मौलाना मोहम्मद असद मदनी ने शिक्षा, स्वास्थ्य, अमन व शांति का पैगाम दिया। उन्होंने कहा कि शिक्षित समाज ही विकसित होता है और विकसित समाज में नफरत की कोई जगह नहीं होती। उन्होंने कहा कि भारत के मुसलमानों से देश को हमेशा लाभ पहुंचा है।

मोदी ने दोहराया- 370 से अधिक सीटें जीतेंगे

भास्कर की खबर है कि लोकसभा चुनाव से ठीक पहले भाजपा का दो दिन का महाधिवेशन शनिवार को दिल्ली के भारत मंडपम में शुरू हुआ। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा कार्यकर्ताओं को लोकसभा चुनाव के लिए मंत्र दिया। उन्होंने कहा कि 370 से अधिक सांसद जिताने के लिए दिमाग में प्रत्याशी की चेहरे की जगह कमल निशान को रखें। उन्होंने कहा कि 25 फरवरी से कार्यकर्ता हर बूथ पर पिछली बार से 370 वोट ज्यादा पाने का लक्ष्य लेकर 100 दिन लगातार कम करें।

कुछ और सुर्खियां

  • फिल्म दंगल में बबीता फोगाट के बचपन की भूमिका निभाने वाली अभिनेत्री सुहानी भटनागर का 19 साल की उम्र में निधन
  • बिहार के स्कूली शिक्षकों को अब हर माह की पहली तारीख पर मिल जाएगा वेतन
  • बिहार एनडीए सरकार में भाजपा कोटे से 13 और बनेंगे मंत्री
  • एक देश एक चुनाव के पक्ष में जनता दल यूनाइटेड, पूर्व राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की अध्यक्षता वाली समिति को सौंपा ज्ञापन
  • चुनावी बॉन्ड पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश का करेंगे पालन: मुख्य निर्वाचन आयुक्त
  • रेरा: कागज कम होने पर भी तत्काल रद्द नहीं होंगे रजिस्ट्रेशन के आवेदन
  • तमिलनाडु में पटाखा फैक्ट्री में धमाके से 10 की मौत

अनछ्पी: कटिहार के कदवा में तीन बच्चों के साथ खुद को आग लगाने की घटना दरअसल हमारे उसे समाज की सच्चाई है जिसकी चर्चा हम नहीं कर पाते हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को तीसरी सबसे बड़ी आर्थिक शक्ति बनाने की बात करते हैं लेकिन उनकी नीतियों का लाभ ऐसे वर्ग के लोगों को नहीं हो रहा है और वह लगातार कर्ज में जी कर अपनी जिंदगी बर्बाद कर रहे हैं। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की सरकार दावा करती है कि काफी संख्या में लोगों को गरीबी से बाहर निकल गया है लेकिन सच्चाई कुछ और बताती है। बिहार के जातीय सर्वे में भी इस बात का पता चला कि लगभग 94 लाख कैसे परिवार हैं जिनकी मासिक आमदनी ₹6000 से भी कम है। सरकार ने उन्हें अब रोजगार के लिए आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है लेकिन ऐसी घोषणाओं के बावजूद अगर लोग कर्ज में जी रहे हैं तो यह पूरे समाज के लिए चिंता का विषय है हालांकि ऐसी घटनाओं पर हम अक्सर चुप्पी साथ लेते हैं। नवंबर 2022 में नवादा के छह लोगों ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी। नवादा की घटना में भी महाजन द्वारा तंग करने की बात सामने आई थी और कड़वा के मामले में भी महाजन द्वारा परेशान करने की बात सामने आई है। एक ओर लोग जहां गरीबी से परेशान है तो वहीं फाइनेंस कंपनी चलाने के नाम पर लोन देकर लोगों को तबाह बर्बाद किया जा रहा है। स्थानीय तौर पर महाजन सूदखोरी का धंधा चलाते हैं और लोग उनसे महंगी दर पर पैसे लेते हैं। सरकार कहती है की कल्याणकारी योजनाओं में बिचौलियों की भूमिका कम की गई है लेकिन लोगों की शिकायत रहती है कि उसमें काफी घूसखोरी चलती है। ऐसे में सरकार चाहे जितनी योजनाएं चलाईं जरूरतमंदों को उसका फायदा नहीं मिल पाता है। कड़वा में जिन तीन बच्चों की मौत हुई उनकी उम्र 9 से 12 साल की थी। जिस व्यक्ति ने खुद को आग लगाई वह बाहर रहकर काम करता था और उसकी पत्नी का कहना है कि उसने बच्चों की पढ़ाई के लिए कर्ज लिया था। सोचने की बात है कि इतनी कम उम्र के बच्चों की पढ़ाई के लिए कर्ज लेने की जरूरत क्यों पड़ी। यह भी कहा जा रहा है कि तनाव में आने के कारण उस व्यक्ति ने शराब पी और उसके बाद इस हरकत को अंजाम दिया। क्या ऐसी घटनाओं के होते रहने के बीच विश्वगुरु बनने की बात करना उचित है?

 358 total views

Share Now

Leave a Reply