छपी-अनछपीः त्योहारों के मद्देनजर सरकार सतर्क, फिर महंगाई की मारः सीएनजी-पीएनजी की कीमत बढ़ी

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना। बिहार में विधि-व्यवस्था पर हाल में उठ रहे सवालों के बीच शनिवार को मुख्यमंत्री ने एक महत्वपूर्ण बैठक कर शांति बनाये रखने और गड़बड़ी करने वालों पर सख्ती की बात कही है। हिन्दी अखबारों में यह खबर प्रमुखता से छपी है। सीएनजी और पीएनजी के दामों में बढ़ोतरी की खबर भी है लेकिन उसे उतनी प्रमुखता नहीं मिल पायी है।
हिन्दुस्तान की पहली खबर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बयान हैः नफरत फैलाने वालों की खैर नहीं। उन्होंने यह बात पर्व-त्योहारों के मद्देनजर प्रशासन की उच्च स्तरीय बैठक में कही। प्रभात खबर की सुर्खी हैः गड़बड़ी की कोशिश करने वालों पर सख्ती से कार्रवाई करेंः सीएम। जागरण में नीतीश कुमार के बयान पर सुर्खी हैः त्योहारों को देखते हुए पुलिस सतर्क रहे, करें त्वरित कार्रवाई।
प्रभात खबर की लीड हैः 5 जी का आया जमाना। जागरणः देश में 5 जी युग का आरंभ। भास्कर ने लिखा हैः 4 जी के दाम में 5 जी का आनंद। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इस सेवा की शनिवार को शुरुआत की। फिलहाल यह सेवा 13 शहरों में मिलेगी जिसमें पटना शामिल नहीं है। हिन्दुस्तान में इसकी सुर्खी हैः सौगातः देश में स्वदेशी 5 जी इंटरनेट सेवा शुरू।
भास्कर की दूसरी सबसे बड़ी खबर हैः एसएसपी ने भास्कर से मांगा मृतकों का प्रमाण, दोपहर में ही गंगा ने उगले सबूत, 2 शव बहकर पटना आए, 5 और लापता नाम का खुलासा। यह खबर बिहटा में बालू के लिए गैंगवार में हुई मौतों के बारे में है। पुलिस का कहना था कि सिर्फ एक की मौत हुई है जबकि भास्कर ने ग्रामीणों के हवाले से 16 मौतों की बात लिखी थी।
जागरण ने पहले पेज पर सूचना दी हैः सीबीएसई की परीक्षाएं 15 फरवरी से होंगी।
कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव संबंधी खबर के बारे में हिन्दुस्तान ने पहले पेेज पर सुर्खी दी हैः मल्लिकार्जुन खड़गे ने नेता प्रतिपक्ष से इस्तीफा दिया।
चुनावी रणनीतिकार के रूप में मशहूर पीके यानी प्रशांत किशोर आज गांधी जयंती के अवसर पर अपनी जन सुराज यात्रा शुरू कर रहे हैं। इसकी खबर और पूरे पेज का विज्ञापन अखबारों में छाया हुआ है।
भारत में सफाई सर्वेक्षण की सालाना रिपोर्ट में इंदौर लगातार छठी बार सबसे साफ शहर घोषित हुआ है। पटना का नंबर 38 वां है। फिर भी जागरण की हेडिंग हैः चेन्नई-श्रीनगर से साफ पटना, तेजी से बढ़ रहा मनियारी। मनियारी कटिहार जिले में है।
कानपुर में एक ट्रैक्टर ट्राॅली के पलटने से उसमें सवार 27 लोगों की मौत हो गयी। यह खबर सभी जगह प्रमुखता से छपी है। ये लोग मुंडन कराने मंदिर गये थे। ट्रैक्टर ट्राॅली से सफर करने के खतरे के बावजूद इस पर रोक नहीं लगती।
इस साल जीएसटी यानी गूड्स ऐंड सर्विसेज टैक्स से सरकार को 1.47 लाख करोड़ रुपये मिले जो पिछली बार से 26 प्रतिशत अधिक है। टाइम्स आॅॅॅॅफ इंडिया में यह खबर पहले पेज पर प्रमुखता से छपी है। भारत में बहुत से लोग आम लोगों को उलाहना देते हैं कि वे टैक्स देने वालों के पैसे पर जीते हैं और यह कि बहुत कम लोग टैक्स देते हैं। हकीकत यह है कि जीएसटी भारत का हर नागरिक देता है और भारत की अर्थव्यवस्था सिर्फ इनकम टैक्स से नहीं चलती।
यूक्रेन के चार हिस्सों पर कब्जे के बाद संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में रूस के खिलाफ वोटिंग में भारत ने हिस्सा नहीं लिया। यह खबर भी टाइम्स में पहले पेज पर प्रमुखता से छपी है। भारत ने यूक्रेन की स्थिति को बहुत चिंताजनक बताया लेकिन वह रूस के खिलाफ वोटिंग के लिए तैयार नहीं हुआ।
भास्कर ने पहले पेज पर यह खबर प्रमुखता से छापी हैः सीएनजी आज से 3 तो पीएनजी 2.50 रुपए महंगा।
अनछपीः आपने वह नारा भुला तो नहीं दिया जिसकी पहली लाइन थीः बहुत हुई महंगाई की मार। इसके आगे की लाइन थीः अबकी बार मोदी सरकार। मगर आजकल महंगाई की मार इस तरह पड़ रही कि लोग चूं तक नही ंकर पा रहे। सुनने मे ंतो यह हमज सीएनजी और पीएनजी की कीमत में इजाफे की खबर है लेकिन इसका असर तो कई जगह पड़ता है। हम पहले से ही घरेलू गैस और पेट्रोल की कीमत में बेतहाशा इजाफा देख चुके हैं। मगर सवाल यह है कि क्या अब महंगाई की मार से सरकार बदलने का इरादा खत्म हो गया है? ऐसा माना जाता है कि इस सरकार ने लोगों को ऐसे धार्मिक और सांप्रदायिक मामलों में उलझा रखा है कि उन्हें लगता है कि महंगाई को सहा जा सकता है। ऐसे में विपक्ष को सरकारी पार्टी के उस रोल का याद करना चाहिए जब वह महंगाई के खिलाफ आंदोलन करती थी। जनमानस तैयार करना विपक्षी पार्टी की अहम जिम्मेदारी है। एक न एक दिन इस महंगाई के कारण लोगों का इस सरकार चला रही पार्टी से मोहभंग होगा लेकिन उसके लिए प्रयास भी जरूरी है।

 401 total views

Share Now

Leave a Reply