छपी-अनछपी: पंजाब में अमृतपाल का सिरदर्द, फ्लू-कोरोना से बिहार परेशान

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। पंजाब में अलगाववादी नेता अमृतपाल सिंह के खिलाफ बड़ी कार्रवाई काफी चर्चित ख़बर है।  बिहार में फ्लू और कोरोना की दोहरी मार की खबर भी प्रमुखता से ली गई है। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के घर पर बुलडोजर चलने की खबर को भी अच्छी कवरेज मिली है। एआईएमआईएम अध्यक्ष ओवैसी के सीमांचल दौरे की खबर भी है। तमिलनाडु में बिहारी मजदूरों के साथ फर्जी हिंसा की खबरें फैलाने वालों के आरोप में मनीष कश्यप की गिरफ्तारी की खबर भी प्रमुखता से है।

जागरण की सबसे बड़ी खबर है: पंजाब में अमृतपाल के खिलाफ बड़ा ऑपरेशन। हिन्दुस्तान में खबर है: अमृतलाल फरार, 78 साथी गिरफ्तार किए गए। पंजाब के अजनाला थाने पर हमले के आरोपित खालिस्तान समर्थक और अलगाववादी अमृतपाल सिंह और उसके साथियों के खिलाफ पुलिस ने बड़ा ऑपरेशन चलाया है। जागरण में गिरफ्तार होने वालों की संख्या 13 बताई है। इसमें से 7 को जालंधर एवं 6 को अमृतसर से पकड़ा गया है। पकड़े गए लोगों से 8 राइफल, एक रिवाल्वर और 373 कारतूस बरामद किए गए हैं। अखबार के अनुसार रात 11:00 बजे तक पुलिस ने जालंधर से लगभग 33 किलोमीटर दूर सरी गांव में अमृतपाल की घेराबंदी कर ली थी। थाने पर हमले के मामले में पुलिस ने 24 फरवरी को अमृतपाल सहित ‘वारिस पंजाब दे’ संगठन के सदस्यों के खिलाफ केस दर्ज करने के बाद यह कार्रवाई की है। पुलिस के अनुसार इससे पहले 78 आरोपितों को गिरफ्तार किया जा चुका है।

बिहार में फ्लू, कोरोना

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: चिंता: पटना में मिले 3 कोरोना संक्रमित। स्वाइन फ्लू, हांगकांग फ्लू एच3एन2 से जूझ रहे पटना में शनिवार को कोरोना के तीन संक्रमित मिले। लगभग 50 दिन में पहली बार पटना में तीन कोरोना संक्रमित एक साथ पाए गए। संक्रमितों में एक पटना, एक भोजपुर और एक रोहतास का निवासी है। भोजपुर और रोहतास निवासी पीएमसीएच में भर्ती होकर इलाज करा रहे थे। पीएमसीएच के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में हुई जांच में वे दोनों संक्रमित पाए गए। दोनों का अब भी पीएमसीएच में इलाज चल रहा है।

सुशील मोदी का आरोप: लालू सबसे बड़े ज़िम्मेदार

भास्कर की सबसे बड़ी खबर सुशील मोदी का आरोप है: बिहार में लालू परिवार के पास 121 भूखंड, 99 % पटना में ही। बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री और राज्यसभा सांसद सुशील कुमार मोदी ने आरोप लगाया है कि बिहार का सबसे बड़ा जमींदार लालू प्रसाद का परिवार है। परिवार के नाम पर 121 भूखंड हैं। इसमें 99 प्रतिशत जमीन पटना में और एक प्रतिशत दिल्ली व गोपालगंज में स्थित है। सुशील मोदी का आरोप है कि जमीन के बदले नौकरी की वजह से ही तेजस्वी यादव अरबपति बन गये।

इमरान के घर पर बुलडोजर

भास्कर की सुर्खी है: इमरान कोर्ट गए, बुलडोजर से गेट तोड़ घर में घुसी पुलिस, समर्थकों से झड़प। हिन्दुस्तान ने लिखा है: इमरान खान के घर बुलडोजर लेकर घुसी पुलिस, समर्थकों के साथ झड़प। पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान के आवास की तलाशी लेने के लिए शनिवार को दस हजार से अधिक पुलिसकर्मी बुलडोजर लेकर दाखिल हुए। इस दौरान पुलिस और कार्यकर्ताओं के बीच झड़प हो गई। वहीं, तोशखाना मामले में सुनवाई के लिए इस्लामाबाद कोर्ट में पेश हुए। यहां जज ने अदालत के बाहर हाजिरी लगाकर इमरान को वापस जाने की इजाजत दे दी। जज जफर इकबाल ने कहा कि इस हालात में सुनवाई और पेशी आगे नहीं बढ़ सकती है।

नीतीश ने भाजपा को किया मजबूत: ओवैसी

भास्कर ने सुर्खी लगाई है: भाजपा को मजबूत करने में नीतीश का सबसे बड़ा हाथ: ओवैसी। भास्कर की खबर है: भाजपा को मजबूत करने में नीतीश का सबसे बड़ा हाथ। बायसी से लिखी गई इस खबर में बताया गया है की एआईएमआईएम सुप्रीमो असदुद्दीन ओवैसी ने सीमांचल में कहा कि भाजपा को मजबूत करने में नीतीश कुमार का सबसे बड़ा हाथ है। “जब गुजरात में दंगा हुआ तब नीतीश कुमार ही रेल मंत्री थे और उन्होंने भाजपा का ही साथ दिया। प्रखंड मुख्यालय के पूरब चौक स्थित मदीना मार्केट में ओवैसी ने जनसभा को संबोधित किया। उनके निशाने पर उनकी पार्टी को छोड़कर राजद का थामने वाले चार विधायक रहे। उन्होंने कहा कि जिन लोगों को सीमांचल के लोगों ने एआईएमआईएम पर भरोसा जताते हुए जीत कर विधानसभा भेजा था, वे सीमांचल के लोगों से गद्दारी करते हुए नीतीश कुमार और राजद की गोद में जाकर बैठ गए। ऐसे लोगों को सीमांचल वासी माफ़ नहीं करेंगे।

मनीष कशयप पर शिकंजा

तमिलनाडु में बिहारी लोगों के साथ तथाकथित हिंसात्मक घटनाओं से जुड़े फर्जी वीडियो बनाने और वायरल करने के मामले में मुख्य आरोपी मनीष कश्यप को गिरफ्तार कर लिया गया है। हिन्दुस्तान के अनुसार इससे पहले शनिवार को मनीष कश्यप उर्फ त्रिपुरारी तिवारी के बेतिया में महनवा के रामपुरवा स्थित पैतृक घर की कुर्की-जब्ती की गई। पुलिस की दबिश के कारण उसने बेतिया के जगदीशपुर ओपी पहुंच कर आत्मसमर्पण किया, जहां उसे शनिवार की सुबह गिरफ्तार कर लिया गया। गिरफ्तारी के बाद ईओयू की टीम उसे पटना ले आई और पूछताछ कर रही है। जल्द उसे अदालत में पेश कर रिमांड पर लिया जाएगा। मामले की जांच करने तमिलनाडु से आई पुलिस भी उसे रिमांड पर ले सकती है, क्योंकि उसके खिलाफ वहां के कृष्णागिरी थाना में मामला दर्ज है।

कुछ अन्य सुर्खियां

  • अरबी फारसी विश्वविद्यालय में नए कुलसचिव नियुक्त
  • चेतावनी स्कूलों का नया सत्र 1 अप्रैल से पहले नहीं
  • पटना के सभी कोर्ट में 3 अप्रैल से सुबह में न्यायिक कार्य
  • अंजुमन इस्लामिया हॉल में तरावीह की नमाज़ 23 से, 10 हजार की व्यवस्था
  • अदानी मामले में जेपीसी की मांग पर समझौता नहीं हो सकता: जयराम रमेश
  • देश विरोधी गतिविधियों में लिप्त था नासिर, जेकेएलएफ से भी लिंक

अनछपी: कथित ‘वारिस पंजाब दे’ के प्रमुख अमृतपाल सिंह की गिरफ्तारी और फरारी एक पहेली बनी हुई है। पंजाब में आम आदमी पार्टी की सरकार को प्रशासन का अनुभव कम है यह तो माना जा सकता है, लेकिन देश की अखंडता को चुनौती देने वाला कोई शख्स इतने दिनों तक आजाद घूमता रहा यह बात बेहद अजीब है। हालांकि यह कहा जा रहा है कि इस मामले में राज्य और केंद्र सरकार दोनों मिलकर काम कर रही हैं लेकिन इसमें देरी की वजह क्या है यह भी तो नहीं। अमृतपाल सिंह की गिरफ्तारी से पहले पंजाब में एक दिन के लिए इंटरनेट ठप कर दिया गया। इंटरनेट ठप करना ना सिर्फ सोशल मीडिया की ताकत का परिचायक है बल्कि सरकार की मजबूरी का भी इससे पता चलता है। इससे पहले एक साथ पूरे इंटरनेट बंद करने की घटना जम्मू कश्मीर में हुआ करती थी। अमृतपाल वास्तव में एक पहेली है। कई बार कहा जाता है कि उसे प्लांट किया गया है। सवाल यह है कि उसे कौन प्लांट कर सकता है और किस ने उसे किस उद्देश्य के लिए प्लांट किया है? देश की सुरक्षा के लिए यह बेहद संवेदनशील मुद्दा है और इसे राज्य व केंद्र सरकार दोनों की विफलता माना जाना चाहिए। दोनों सरकारों की जिम्मेदारी है कि पंजाब में ऐसे तत्वों पर समय रहते काबू किया जाए वरना यह आरोप लगेंगे कि इस मुद्दे पर भी राजनीति की जा रही है।

 

 

 

 840 total views

Share Now

Leave a Reply