भारत बंद: बिहार में सफल या विफल?

बिहार लोक संवाद डॉट नेट

किसान संगठनों की अपील और विभिन्न राजनैतिक दलों के समर्थन से सोमवार को आयोजित भारत बंद का बिहार में मिला-जुला असर देखने को मिला। जहां एक तरफ आम दिनों की तरह गाड़ियां चलती रहीं और दुकानें खुली रहीं वहीं पटना समेत विभिन्न जिलों से बंद की खबरें मिलीं। पटना के कुछ स्थानों पर विभिन्न राजनैतिक दलों के कार्यकताओं ने विरोध प्रदर्शन किया और नारेबाजी की।

हम प्रवक्ता दानिश रिजवान ने बंद की आलोचना करते हुए कहा कि आज वही लोक समर्थन का रहे हैं जो कभी किसानों पर जुल्म किया करते थे।

पटना विश्वविद्यालय सहित कई छात्र संगठनों ने पटना विश्वविद्यालय के गेट पर टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। पटना विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष मनीष यादव ने कहा कि जब तक सरकारी किसानों की मांगें नहीं मानती है, तब तक आंदोलन जारी रहेगा।

हाजीपुर में बंद समर्थकों ने विभिन्न स्थानों पर टायर जलाकर विरोध प्रदर्शन किया। महुआ विधायक और राजद नेता मुकेश रोशन ने दावा किया कि बंद को आम लोगों का समर्थन मिल रहा है।

नवादा की विभिन्न सड़कों पर पार्टी कार्यर्ताओं ने झंडा बैनर लेकर बंद का सफल बनाने का प्रयास करते नजर आए। किसान संगठन से जुड़े नेताओं ने कहा कि यह यह आंदोलन पूरे देश का है।

खगड़िया में बंद समर्थकों ने सड़कों को सुबह से ही जाम कर दिया। इस अवसर पर राजद विधायक रामवृक्ष सदा और सीपीआई नेता प्रभाकर सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार की जन विरोधी नीतियों की वजह से महंगाई चरम पर है।

दरभंगा में भारत बंद के दौरान बंद समर्थकों ने दरभंगा से दिल्ली जाने वाली सुपरफास्ट एक्सप्रेस संपर्क क्रांति एक्सप्रेस को रोक दिया। जिला किसान अध्यक्ष राजीव चौधरी ने कहा कहा कि आगे और भी उग्र आंदोलन चलाया जाएगा।

अब देखना है, भारत बंद का केन्द्र की मोदी सरकार पर क्या असर पड़ता है। बिहार लोक संवाद ब्यूरो, पटना

 366 total views

Share Now

Leave a Reply