मदरसा हुसैनिया बना रणभूमि, नहीं हुआ नियुक्ति के लिए इंटरव्यू

पटना सिटी क्षेत्र के बागपातो स्थित मदरसा हुसैनिया सोमवार को रणभूमि में तब्दील हो गया। इस दिन मदरसा में चार पदों पर नियुक्ति के लिए लिखित परीक्षा और इंटरव्यू होना था लेकिन जब वहां उम्मीदवार पहुंचे तो सन्नाटा पसरा था। जिन चार पदों के लिए इंटरव्यू होना था उनमें फाजिल, इंटर ट्रेंड, मैट्रिक ट्रेंड और हाफिज़ शामिल हैं। उम्मीदवारों ने बताया कि बिना किसी पूर्व सूचना के इंटरव्यू को स्थगित कर दिया गया।

आरा से आए हाफिज पद के उम्मीदवार तनवीर अहमद और पटना सिटी से आईं इंटर टेªंड पद की उम्मीदवार नाज़ फातमा, आयशा हसन और सरवर आलम ने नियुक्ति में घपले का आरोप लगाते हुए कहा कि मदरसा की प्रबंधन समिति के सदस्यों ने आपस में पदों का बंटरबांट कर लिया है। ऐसी परस्थिति में किसी योग्य उम्मीदवार के चुने जाने की उम्मीद नहीं है। इसी साल मार्च में बिहार स्टेट मदरसा एजुकेशन बोर्ड उक्त चारों पदों पर की गई नियुक्ति को अवैध घोषित करते हुए रद कर चुका है।

वहीं मदरसा के सचिव मो. समीउलहक ने कहा कि मदरसा बोर्ड से एक्सपर्ट का नाम नहीं आने की वजह से इंटरव्यू स्थगित कर दिया गया।

इस बीच, आरोप है कि सचिव के भतीजे और मैट्रिक टेंªड पद के उम्मीदवार अंबर ने मदरसा के कोषाध्यक्ष रिजवी हसन पर हमला कर दिया। रिज़वी ने बताया कि मदरसा में हो रही अवैध नियुक्ति का विरोध करने की वजह से उनपर हमला किया गया। वहीं स्थानीय नागरिक मो. वसीम, शहजादा और सैयद हसन ने मदरसे की नई प्रबंधन समिति के गठन की मांग की।

दिलचस्प बात है कि आठवीं तक की पढ़ाई वाले इस मदरसे में गिनती के बच्चों का दाखि़ला है। लेकिन इसकी चिंता किसी को नहींे है।

 

 613 total views

Share Now

Leave a Reply