विकास के पैमाने पर खरा नहीं उतरता पूर्णिया जिले का धमदाहा विधानसभा क्षेत्र

पूर्णियां से फैसल बाबर

मेरा गृह क्षेत्र धमदाहा पूर्णियां जिले का सबसे चर्चित विधानसभा क्षेत्र है। यह विधानसभा क्षेत्र मुस्लिम और यादव बहुल इलाकों में शुमार होता है। इस सीट पर एमवाई फैक्टर कारगर साबित होता रहा है। इस विधानसभा क्षेत्र के पूर्व रिकॉर्ड को देखा जाए तो इस सीट पर कांग्रेस और राजद का बोलबाला रहा है। वर्तमान में इस सीट पर जेडीयू का कब्जा है। इस सीट पर अबतक सोलह बार चुनाव हुए हैं जिसमें एक उपचुनाव शामिल है। इस सीट से सात बार कांग्रेस, दो बार जनता पार्टी, दो बार राजद और तीन बार जेडीयू ने जीत दर्ज की है।

यह विधानसभा क्षेत्र बिहार राज्य का इकलौता क्षेत्र है जहां से एक नहीं दो दो व्यक्ति विधानसभा अध्यक्ष पद को सुशोभित कर चुके हैं। इस विधानसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री श्री भोला पासवान शास्त्री भी कर चुके हैं। लेकिन आज भी यह क्षेत्र विकास के मामलों में बहुत पीछे है। आज भी इस विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले कई गांवों में अच्छी सड़कें नहीं हैं, गुणवत्ता पूर्ण शिक्षा की व्यवस्था नहीं है, नाममात्र के प्राथमिक और माध्यमिक विद्यालय चलते हैं जिसमें शिक्षकों की काफी कमी है। अगर कहीं शिक्षक हैं भी तो वो सिर्फ खानापूर्ति करने के लिए हैं। इस वजह से गरीब-गुरबों, पिछड़ों-दलितों और आर्थिक स्थिति से कमजोर वर्गों के बच्चों को अच्छी शिक्षा नहीं मिल पाती है। थक-हार कर गरीब अपने बच्चों को पढ़ाने की मंशा छोड़कर किसी न किसी काम में मजदूरी पर लगा देते हैं !

इस विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाली स्वास्थ्य सेवाओं का भी बहुत बुरा हाल है। इलाज की समुचित व्यवस्था की भारी कमी है। इस विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले वाले प्रखंड में व्याप्त भ्रष्टाचार पाया जाता है जहां गरीबों की कोई सुनने वाला नहीं। एक मजदूर आदमी किसी भी अदना काम के लिए बिचैलिए और पैसों का सहारा लिए बगैर अपना काम नहीं करा पाता। यह सबसे बड़ी विडंबना है।

 411 total views

Share Now

Leave a Reply