CM से लेकर स्कूली बच्चों तक ने Bihar को नशा मुक्त बनाने का लिया संकल्प

बिहार लोक संवाद डॉट नेट

बिहार में नशाबंदी कानून को सख्ती से लागू करने के लिए 26 नवंबर को प्रदेश भर में नशा मुक्ति दिवस मनाया गया। इस अवसर पर मुख्य मंत्री नीतीश कुमार ने पटना के ज्ञान भवन से मद्य निषेध प्रचार-प्रसार अभियान के तहत राज्य परिवहन निगम की बसों को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया।

मुख्य कार्यक्रम ज्ञान भवन में आयोजित किया गया जिसमें खुद नीतीश कुमार ने सभी को शराब नहीं पीने की शपथ दिलाई। इसी समय बिहार के सभी जिला, प्रमंडल और प्रखंड स्तर के तक़रीबन साढ़े तीन लाख सरकारी अफसरों और कर्मचारियों ने शराब नहीं पीने की शपथ ली। नीतीश ने सरकारी कर्मियों को संबोधित करते हुए कहा कि शराबबंदी पर ढिलाई बरतने वालों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

राजधानी स्थित बिहार पुलिस हेडक्वाटर में डीजीपी एस.के. सिंघल ने पुलिस कर्मियों को शराब बंदी कानून का सख्ती से पालन करने की शपथ दिलाई।

डीजीपी ने मीडिया से कहा कि शराब बंदी कानून का समाज में सकारात्मक परिणाम देखने को मिल रहा है।

नशा मुक्ति दिवस पर सरकारी और गैर स्कूलों में भी विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।

शरीफ कॉलोनी स्थित अल-हिरा पब्लिक स्कूल के बच्चों ने अपने हाथों में प्लेकार्ड लेकर नशा से होने वाले नुकसान के बारे में लोगों को जागरूक किया।

बच्चों ने कहा कि शराब के साथ-साथ किसी भी तरह के नशे की चीज इस्लाम में हराम है। उन्होंने कहा कि वे अपने परिवार के सदस्यों को खैनी, गुटखा और सिग्रेट का भी इस्तेमाल नहीं करने देंगे।

स्कूल के डायरेक्टर और टीचर ने शराबबंदी कानून के लिए नीतीश कुमार की तारीफ की।

बड़ों ने बच्चों कोे समाज को नशा मुक्त बनाने की शपथ दिलाई है। उम्मीद है, इसका वे जीवन भर पालन करेंगे।

 955 total views

Share Now

Leave a Reply