किशनगंज-अररिया बिहार के दो सबसे गरीब जिलेः नीति आयोग

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना।
नीति आयोग द्वारा ताजा जारी बहुआयामी निर्धनता सूचकांक या एमपीआई में बिहार का किशनगंज जिला सबसे गरीब बताया गया है। इस सूचकांक में बारह आयाम जोड़े गये हैं जैसे पोषण, बाल व किशोर मृत्युदर, स्कूल उपस्थिति, रसोई ईंधन, सफाई, पेयजल, बिजली, घरेलू पूंजी और बैंक खाते आदि।
नीति आयोग की रिपोर्ट में बिहार को देश का सबसे गरीब राज्य बताया गया है। झारखंड और उत्तर प्रदेश गरीबी के लिहाज से दूसरे और तीसरे स्थान पर बताये गये हैं।
इस रिपोर्ट के अनुसार सीमांचल के किशनगंज में विभिन्न मामलों में गरीबी का प्रतिशत बिहार में सर्वाधिक 64.75 है। इसके ठीक बाद सीमांचल का ही दूसरा जिला अररिया है जहां गरीबी का यह आंकड़ा 64.65 प्रतिशत है। इसके अलावा मधेपुरा, पूर्वी चम्पारण, सुपौल और जमुई जिले में भी गरीबी का प्रतिशत 64 से अधिक है।
सीमांचल के दो अन्य जिले पूर्णिया में यह आंकड़ा 63.29 और कटिहार में 62.80 प्रतिशत है।
दूसरी ओर सबसे गरीबी पटना में बतायी गयी है जहां यह प्रतिशत 29.50 है जबकि इसके बाद भोजपुर जिला है जहां यह प्रतिशत 40.50 है। भोजुपर के पीछे सीवान है जहां यह प्रतिशत 40.55 है।
इस बीच राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद ने नीति आयोग की ताजा रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को आड़े हाथों लेेते हुए कहा है कि उन्हें शर्म आनी चाहिए क्योंकि बिहार का स्वास्थ्य, शिक्षा और गरीबी में बुरा हाल है।

 1,072 total views

Share Now

Leave a Reply