संघर्ष से सफलता की बेहतरीन मिसाल हैं बिहार के उद्यमी शोएब ताहिर

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट

पटना, 19 दिसंबर: कोरोना और लॉडाउन ने अगर अगर एक तरफ अनगिनत लोगों को बेकार किया तो दूसरी तरफ ऐसे मिसाली लोग भी सामने आए जिन्होंने अपने हौसले और हुनर से ज़िंदगी को कारगर बनाया। पश्चिम चंपारण जिले के शोएब ताहिर ऐसे ही एक प्रेरणा देने वाले उदाहरण बने हैं।

शोएब ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बदले कारोबार का रास्ता चुना। लुधियाने में इनकी गारमेंट्स फैक्ट्री थी। 500 लोग काम करते थे। ट्रैक सूट और ऐसे ही दूसरे कपड़े बनते थे। देश के कई भागों में इनके ब्रांड ‘ला सानी’ की मांग थी। कुछ एक्सपोर्ट भी था। फिर लॉकडाउन आया। धीरे-धीरे काम बंद करना पड़ा।

यह शोएब के हौसले का इम्तिहान लेने वाला वक़्त था लेकिन उन्होंने दिक़्क़तों पर नहीं उपाय पर ध्यान दिया। ज़िला प्रशासन से संपर्क किया। वहां से उन्हें ज़मीन और पूंजी की मदद मिली। अब उनकी फैक्ट्री बिहार से ही गारमेंट्स सप्लाई कर रही है। बिहार लोक संवाद डॉट नेट के समी अहमद ने उनसे ज़ूम पर बात की।

आइए देखते हैं शोएब की कामयाबी की कहानी।

 402 total views

Share Now

Leave a Reply