कोरोना संक्रमण घटने को लेकर नीतीश अपनी पीठ न थपथपाएं, लाॅकडाउन जारी रखें : कांगेस

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट पटना

कांग्रेस विधान परिषद सदस्य प्रेमचंद मिश्रा ने राज्य में कोरोना संक्रमण की चेन टूटने और मरीजों की संख्या में कमी को लेकर सरकारी पक्ष द्वारा खुद की पीठ थपथपाने को हास्यास्पद बताते हुए कहा कि लॉक डाउन की वजह से स्थिति में सुधार दीख रहा है इसमें सरकारी चिकित्सा व्यवस्था का कोई योगदान नही।

उन्होंने कहा कि अप्रैल माह में जब विपक्ष ने लॉक डाउन लगाने की मांग की थी तब सरकार ने लॉक डाउन नही लगाकर स्थिति को बिगड़ने दिया और कोरोना बेकाबू हो गया, अगर समय रहते लॉक डाउन लगा होता तो मृतकों की संख्या राज्य में कम होती तथा संक्रमण की चेन को पहले ही तोड़ा जा सकता था। उन्होंने कहा अभी कुछ दिन और लॉक डाउन लगाए रखने की जरूरत है और उम्मीद है कि सरकार इस संबंध में जल्दबाजी नही करेगी।

विधान परिषद सदस्य ने मुख्यमंत्री से आग्रह किया कि उन्हें कोरोना के संभावित तीसरे लहर से बचाव की तैयारी अभी से आरंभ कर देनी चाहिए तथा पर्याप्त icu बेड,चालू अवस्था मे वेंटिलेटर तथा पर्याप्त ऑक्सीजन सिलेंडर को सुनिश्चित करना चाहिए। उन्होंने राज्य के अस्पतालों चाहे NMCH हो या DMCH के icu वार्ड या अस्पताल परिसर में वर्षा पानी से घुटने भर जल जमाव को अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण स्थिति बताया तथा कहा कि ऐसी नारकीय अवस्था मे क्या किसी कोरोना पीड़ित या ब्लैक फंगस मरीजों को कैसे और कब तक बचाया जा सकता है?सवाल खड़ा होना स्वाभाविक है कि आखिर हजारों करोड़ का बजट चाहे वह स्वास्थ्य का हो या नगर विकास विभाग का कहां जाता है ?

उन्होंने 18 + के लोगों को कई दिनों से टीका नही उपलब्ध कराना राज्य सरकार की बड़ी विफलता बताया और कहा की मुख्यमंत्री, स्वास्थ्य मंत्री सहित बिहार से केंद्र सरकार में शामिल केंद्रीय मंत्रीगण इस मामले में अपनी जिम्मेदारियों से बच नही सकते हैं।

 360 total views

Share Now

Leave a Reply