जोकीहाट में इस्माइल की लिंचिंग , ’शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने की साजिश’

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट
अररिया जिले के जोकीहाट प्रखंड की कुरसैल पंचायत के बलुआ टपरा टोला पंचायत में 26-27 जून की रात इस्माइल नाम के एक मजदूर की माॅब लिंचिंग हो गयी। उसे पीट-पीट कर मारने वाले बगल की चकई पंचायत के यादव टोला के लोग थे। स्थानीय लोगों का कहना है कि इस्माइल की पीट-पीट कर हत्या वास्तव में यहां के शांतिपूर्ण माहौल को बिगाड़ने की साजिश है।
पुलिस के अनुसार मारने वाले लोगों ने उसपर चोरी करने का इल्जाम लगाया। उनका आरोप था कि इस्माइल ने पहले भी चोरी की थी। शुरू में पुलिस ने भी यही बात दोहरायी लेकिन जब इस्माइल के पिता शोएब आलम और अन्य लोगों ने पूछा कि अगर वह चोर था तो पुलिस बताये कि उसके खिलाफ एफआईआर कहां है, तो एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बयान दिया कि इस मामले की जांच होगी। इस मामले में दो मुख्य आरेपित रूपेश कुमार और नितेश कुमार की गिरफ्तारी अगले ही दिन हो गयी थी।
इस्माइल के पिता का कहना है कि उस टोले से गुजरने वाली एक सड़क के लिए झगड़ा चल रहा था। उसी झगड़े का बदला लेने के लिए इस्माइल को मार डाला गया। एसडीपीओ पुष्कर कुमार ने बताया कि इस पहलू की भी जांच होगी।
कई सामाजिक संगठनों ने इस घटना की समुचित जांच और पीड़ित परिवार को मुआवजा देने की मांग की है। बुधवार को जमाअत इस्लामी हिन्द, अररिया की एक टीम पीड़ित परिवार से मिली। जमाअत इस्लामी हिन्द की ओर से उन्हें आर्थिक मदद दी गयी। स्थानीय अमीर मोहम्मद मकसूद आलम ने बताया कि इस टीम में शकेब अरसलान, अब्दुल्ला अनवर, राशिद अनवर और जकी अनवर मुजाहिद शामिल थे। इस टीम में शामिल जकी अनवर ने बताया कि पीड़ित परिवार काफी गरीब है, उसके दो कमरे हैं जो बांस और प्लास्टिक से घिरे हैं। उन्होंने बताया कि आरोपितों ने झूठा इल्जाम लगाकार पिछले साल भी अय्यूब नाम के व्यक्ति की इतनी पिटाई की थी कि बाद में उसकी मौत हो गयी।
इससे पहले, इमारत शरीया की टीम ने मुफ्ती अतीकउल्लाह रहमानी के नेतृत्व में पीड़ित परिवार से मिलने के बाद बताया कि इस्माइल मेहनती युवक था और उसे चोरी का झूठा इल्जाम लगाकर मार दिया गया। इस टीम ने सरकार से मांग की है कि दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करे, जो आपसी भाईचारे को मलियामेट करने में लगे हैं। इस टीम का कहना है कि नफरत के सौदागर हम लोगों को आपस में लड़ाना चाहते हैं और बिहार के शांतिपूर्ण माहौल को खराब करना चाहते हैं।
जोकीहाट के एआईएमआईएम विधायक शाहनवाज आलम ने पीड़ित परिवार से मुलाकात के बाद स्थानीय पुलिस प्रशासन से उन्हें इंसाफ और मुआवजा दिलाने की मांग की है।
इस मामले में मरहूम इस्माइल के पिता शोएब ने स्थानीय थाने में एफआईआर दर्ज करायी है जिसमें 15 लोग नामजद हैं। एफआईआर के अनुसार इस्माइल उस मुहल्ले में दूध लाने जाते थे और उस दिन भी दूध लाने गये थे। दूसरी ओर इस्माइल की पत्नी मुसर्रत का कहना है कि यादव टोला के लोग इस्माइल को दिन में बिजली के काम के बहाने बुलाने आये थे लेकिन तब वे नहीं गये। रात में फिर फोन कर बुलाया कि जरूरी काम है तो वे गये लेकिन सुबह नहीं लौटे। हमने पता लगाना शुरू किया तो गांव वालों ने बताया कि उन्हें मारकर फेंक दिया गया है।

 727 total views

Share Now

Leave a Reply