छपी-अनछपी: हर साल बर्बाद होती है 7070 करोड़ की बिजली, बिहार में भारत जोड़ो यात्रा 28 दिसंबर से

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार में ट्रांसमिशन लॉस से 33% बिजली बर्बाद हो जाती है। आज प्रभात खबर की यह खास खबर है। कांग्रेस की भारत जोड़ो यात्रा बिहार में दिसंबर में शुरू होगी। यह खबर भी सभी अखबारों में प्रमुखता से छपी है।
प्रभात खबर की लीड है: घर पहुंचने में एक साल में 7070 करोड़ की बिजली बर्बाद। इसमें बताया गया है कि बिहार की दोनों बिजली सप्लाई कंपनियां कुल बिजली का औसतन 67 परसेंट ही राजस्व इकट्ठा कर पा रही हैं। यही वजह है कि दोनों सप्लाई कंपनियों को सिर्फ 2020-21 में 10276 मिलियन यूनिट बिजली का नुकसान हुआ जिसकी कीमत करीब 7070 करोड़ रुपए है। इसमें 25% बिजली ग्रिड में सब स्टेशनों से घर पहुंचने में और बाकी 8 फ़ीसदी बिजली बिलिंग या कलेक्शन नहीं हो पाने की वजह से बेकार चली जा रही है।
हिन्दुस्तान की खास खबर इसकी लीड है: एयर डिफेंस कमान अगले साल। इसमें बताया गया है कि अमेरिका-चीन की तर्ज पर तीनों सेनाओं को मिलाकर थिएटर कमान बनाने की दिशा में भले ही विलंब हुआ है, लेकिन नए साल में एक थियेटर कमान आकार ले सकती है। सूत्रों का कहना है कि यह एयर डिफेंस कमान होगी। इसके स्वरूप पर वायुसेना के साथ चर्चा करीब-करीब पूरी हो चुकी है। अभी एयर डिफेंस से जुड़ा फैसला वायुसेना के अलावा अपने-अपने इलाकों में थल और नौसेना भी करती है।
जागरण की सबसे बड़ी खबर है: आतंकी फंडिंग के विरुद्ध भारत का वैश्विक एकजुटता पर जोर। यह बात इस हफ्ते दिल्ली में 75 देशों के प्रस्तावित सम्मेलन के सिलसिले में बताई गई है। भारत को लगता है कि पाकिस्तान के फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स की निगरानी सूची से बाहर आने के बाद सीमा पार से आतंकी फंडिंग बढ़ने की आशंका है।
भास्कर की लीड है सरकारी आदेश नहीं मानते विधि, नहीं भेज रहे रिक्ति… इसलिए रुकी है भर्ती। खबर में बताया गया है कि बिहार के विश्वविद्यालयों में 3000 से अधिक वैकेंसी है लेकिन कई रिमाइंडर देने के बावजूद इसकी विस्तृत जानकारी नहीं दी जा रही है।
हिन्दुस्तान ने जयराम रमेश के इस बयान को सुर्खी बनाया है: कांग्रेस के बिना विपक्षी एकता का मतलब नहीं। उन्होंने कहा है कि कांग्रेस ने विपक्ष को बहुत कुछ दिया और अब कांग्रेस की बारी है। रविवार को जगजीवन राम शोध एवं अध्ययन संस्थान में ‘देश की वर्तमान राजनीतिक, आर्थिक एवं सामाजिक परिस्थिति’ विषय पर आयोजित संवाद में जयराम रमेश ने कहा कि कांग्रेस मजबूत होगी तो विपक्ष भी मजबूत होगा। बिहार में पॉलिटिकल सजगता बहुत ज्यादा है, जिसका हमें फायदा लेना है और एक मजबूत नेतृत्व वाला विपक्ष बनाना है। इसमें यह जानकारी भी दी गई है कि बिहार में मंदार से 28 दिसंबर को भारत जोड़ो यात्रा शुरू होगी। यह यात्रा 1023 किमी के सफर के बाद बोधगया में समाप्त होगी। भास्कर में जानकारी दी गई है कि इस यात्रा में राहुल गांधी शामिल नहीं होंगे लेकिन बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव इसमें शामिल हो सकते हैं।
हरियाणा के पूर्व राज्यपाल और बिहार विधानसभा के अध्यक्ष रहे धनिक लाल मंडल का रविवार की देर शाम 7.34 बजे चंड़ीगढ़ में निधन हो गया। वह 90 वर्ष के थे और पिछले काफी दिनों से बीमार थे। यह खबर सभी अखबारों में प्रमुखता से ली गई है।
हिन्दुस्तान में पहले पेज पर खबर है: जी20 की अध्यक्षता पर अमेरिका का साथ। नोम पेन्ह (कंबोडिया) से बताया गया है कि जी-20 की अध्यक्षता पर भारत को अमेरिका का साथ मिला है। विदेश मंत्री एस. जयशंकर के साथ मुलाकात के बाद अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन ने कहा कि अमेरिका, भारत के जी-20 की अध्यक्षता करने का समर्थन करता है।
टी-20 विश्व कप क्रिकेट पर अंग्रेजों के कब्जे की खबर भी प्रमुखता से छपी है। टॉस जीतकर पहले बॉलिंग करते हुए इंग्लैंड ने पाकिस्तान को 9 विकेट पर 137 रनों पर सीमित कर दिया। जवाब में इंग्लैंड ने 19 ओवर में 138 रन बनाकर आसान जीत हासिल कर ली।
हिन्दुस्तान की खास खबर है:  एनटीएसई: 35 हजार छात्रों के 41लाख फंसे। राष्ट्रीय प्रतिभा खोज परीक्षा (एनटीएसई) छात्रवृत्ति के लिए राज्य के 35 हजार विद्यार्थियों ने आवेदन भरा था। आवेदन शुल्क के तौर पर 41 लाख 73 हजार 750 रुपये जमा हुए थे। छात्रवृत्ति परीक्षा रद्द होने के बाद भी छात्रों का आवेदन शुल्क एनसीईआरटी के पास ही जमा है।
अमेरिका में विमान टकराने से छह जांबाज जिंदा जल मरने की खबर भी सभी जगह है। अमेरिका के डलास शहर में एयर शो अचानक मातम में बदल गया, जब दो लड़ाकू विमान आपस में टकरा गए। जबरदस्त धमाके से ऐसा गुबार उठा कि देखने वालों का दिल दहल गया। हादसे में पायलट समेत छह जांबाजों ने जान गंवा दी। दोनों विमान द्वितीय विश्व युद्ध के दौर में अमेरिका की शान रहे थे।

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर है कि बनारस में ट्रेन से गिरी 3 साल की बच्ची को बचाने में उसके पिता की भी मौत हो गई। इसमें बताया गया है कि 32 साल के हीरा राईन स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस से दिल्ली से दरभंगा जा रहे थे। दरभंगा के घनश्यामपुर गांव के भवानीपुर के रहने वाले राइन दिल्ली की एक प्राइवेट कंपनी में काम करते थे।  शनिवार को वह स्वतंत्रता सेनानी एक्सप्रेस में अपनी बीवी जरीना खातून, बेटी रोजी राईन और साले फिरोज के साथ सफर के लिए सवार हुए मगर उन्हें टिकट नहीं मिला था इसलिए वह दरवाजे पर ही थे। दरवाजे पर खेलते हुए उनकी बेटी अचानक ट्रेन से नीचे गिर गई। बच्ची को बताने के लिए राइन भी कूदे लेकिन दोनों की जान चली गई।
अनछपी: बिहार आने और बिहार से बाहर जाने वाले ट्रेन यात्रियों का सफर बेहद मुश्किल भरा होता है। वैसे तो यह समस्या ज्यादातर छठ और होली के समय आती है लेकिन आम दिनों में भी लोगों को टिकट नहीं मिलने की शिकायत रहती है। ऐसे में यात्रियों की सुरक्षा को ताक पर रखकर ट्रेनें चलाई जाती हैं। यह भी सुनने को मिलता है कि लोग शौचालयों में खड़े होकर सफर कर रहे हैं या चादर बांधकर उसमें बैठकर सफर कर रहे हैं। बनारस में जिस तरह खेलते हुए एक बच्ची चलती ट्रेन से गिरी और उसे बचाने में कूदे उसके पिता की भी मौत हो गुई, वह गंभीर चिंता का विषय है। बच्ची ट्रेन के दरवाजे पर थी ऐसे में मां-बाप की लापरवाही तो स्पष्ट है लेकिन यह बात भी सोचने की है कि ट्रेनों में ऐसी जगह पर सफर की इजाजत क्यों दी जाती है। यह भी कहा जा सकता है कि लोग मजबूरी में ऐसे सफर करते हैं लेकिन ऐसी मजबूरी जानलेवा हो जाए तो सफर करना क्यों जरूरी है? ऐसी दुर्घटनाओं को रोकना हमारे समाज की प्राथमिकता नहीं है और यह बेहद अफसोस की बात है।

Share Now

Leave a Reply