छपी-अनछपी: बोले तेजस्वी- 85% हिंदुओं को 15% का डर? इंटर कॉमर्स में बिना टीचर वाले कॉलेज के 5 टॉपर

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कहा है कि 85% हिंदुओं को 15% लोगों से डराया जा रहा है। इस बयान को अखबारों ने ज्यादा तवज्जो नहीं दी है। इंटरमीडिएट के रिजल्ट की खबर सभी अखबारों में छाई हुई है। इसके साथ ही यह खबर भी है कि जिस कॉलेज ने कॉमर्स में 5 टॉपर दिए हैं वहां कॉमर्स का एक भी टीचर नहीं है। मगध यूनिवर्सिटी के पूर्व वाइस चांसलर राजेंद्र प्रसाद के पास 500% अधिक संपत्ति है और इस मामले में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल की गई है। इस खबर को अच्छी जगह मिली है।

जागरण ने खबर दी है: तेजस्वी का तंज, 85% हिंदुओं को दिखा रहे 15% का डर। अखबार लिखता है कि उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने भाजपा पर तंज कसते हुए कहा है कि इन लोगों की बातों में ही विरोधाभास है। देश में 85% हिंदू हैं लेकिन 15% लोगों का भय दिखाकर हिंदुओं को डराया जा रहा है। उन्होंने कहा हकीकत यह है कि जो मुद्दा है उस पर यह बात नहीं करते। सबसे अधिक हिंदू ही आज बेरोजगार हैं, इस पर कोई बात नहीं करते करते।

इंटर रिज़ल्ट

जागरण की हेडलाइन है: इंटर के तीनों संकाय में बेटियों ने मारी बाजी, 83.70% परीक्षार्थी हुए सफल। हिन्दुस्तान ने लिखा है: बिहार में बेटियों की बहार। बिहार बोर्ड ने मंगलवार को इंटर का रिजल्ट जारी कर दिया। तीनों फैक्लटी में बेटियां अव्वल रहीं। कुल मिलाकर 83.7 फीसदी विद्यार्थी पास हुए। वर्ष 2022 में 80.15 फीसदी परीक्षार्थी उत्तीर्ण हुए थे। टॉपरों की सूची में कुल 30 विद्यार्थी शामिल हैं। इनमें विज्ञान संकाय के टॉप-छह में नौ विद्यार्थी हैं। इसमें पांच छात्राएं हैं। वहीं, कला संकाय के टॉप-छह में कुल आठ विद्यार्थियों में पांच छात्राएं हैं। वाणिज्य संकाय के टॉप-छह में कुल 13 विद्यार्थियों में 11 छात्राएं हैं। वाणिज्य संकाय के टॉप 13 में पांच विद्यार्थी एस. सिन्हा कॉलेज औरंगाबाद के हैं।

विज्ञान संकाय में आर. लाल कॉलेज, खगड़िया की आयुषी नंदन (474/500), वाणिज्य संकाय में एस. सिन्हा कॉलेज औरंगाबाद की सौम्या शर्मा और रजनीश कुमार पाठक (475/500), कला में उच्च माध्यमिक विद्यालय वायसी, पूर्णिया की मोहद्देसा (475/500) ने राज्यभर में प्रथम स्थान प्राप्त किया है।

 बिना टीचर टॉपर

भास्कर की सबसे बड़ी खबर है: कॉमर्स में जिन 5 बच्चों ने टॉप किया उनके कॉलेज में विषय के शिक्षक ही नहीं, टॉप 30 में 21 बेटियां। बिहार बोर्ड ने मंगलवार को इंटर परीक्षा 2023 का रिज़ल्ट जारी कर दिया। कॉमर्स के टॉप 10 में 13 छात्र हैं। इनमें औरंगाबाद के सच्चिदानंद सिन्हा कॉलेज से ही पांच टॉप पर हैं। इस कॉलेज में कॉमर्स के एक भी शिक्षक नहीं हैं। अखबार लिखता है, सूबे में कॉमर्स में पांच टॉपर देने वाले सच्चिदानंद सिन्हा कॉलेज में कॉमर्स के एक भी शिक्षक नहीं हैं। ऐसे में टॉपरों ने सेल्फ स्टडी और निजी कोचिंग की सहायता लें और अपनी तैयारी की। कॉलेज में लगभग 12 हज़ार छात्र-छात्रा हैं, इनमें सबसे ज्यादा कॉमर्स के हैं। इनमें 25 से 30 अतिथि शिक्षक हैं, जबकि 11 रेगुलर शिक्षक हैं। कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर अरविंद कुमार ने बताया कि कॉलेज में संसाधनों की कमी नहीं है, शिक्षकों की कमी है।

500% अधिक संपत्ति

भास्कर की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: एमयू के पूर्व कुलपति के पास आय से 500% अधिक संपत्ति। अखबार लिखता है: मगध विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने अकूत संपत्ति अर्जित की है। स्पेशल विजिलेंस यूनिट ने अपने 1000 पन्ने के चार्जशीट में यह भी बताया है कि अनुसंधान के दौरान डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद के पास आय से अधिक 2.66 करोड़ की संपत्ति है पाई गई जो उनकी आय से 500% अधिक है। विशेष निगरानी इकाई ने मगध विश्वविद्यालय और वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में कुल 18 करोड़ रुपये के गबन के मामले में पूर्व कुलपति डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद सहित 29 अभियुक्तों के विरुद्ध चार्जशीट दायर किया है। अभियुक्तों के विरुद्ध मुकदमा चलाने के लिए राजभवन से अभियोजन की स्वीकृति मांगी गई है। डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद ने पिछले दिनों इसी मामले में कोर्ट में सरेंडर किया था और फिलहाल वे जेल में हैं।

राहुल, मीर जाफर और जयचंद

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के लंदन में दिए बयान पर माफी की मांग कर रही भाजपा ने उनकी तुलना ‘मीर जाफर से की है। इससे नया विवाद खड़ा हो गया। कांग्रेस ने इसे अमर्यादित बताकर पलटवार किया। कहा कि अडानी समूह को बचाने के लिए ‘जयचंदों की फौज’ खड़ी हो गई है। भाजपा के राष्ट्रीय प्रवक्ता संबित पात्रा ने मंगलवार को संवाददाताओं से बातचीत में दावा किया कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी मौजूदा भारतीय राजनीति के मीर जाफर हैं। उन्होंने कहा, भारत में ‘नवाब’ बनने को वह विदेशी ताकतों से मदद मांगने ब्रिटेन गए थे। मीर जाफर ने भी ऐसा किया था।

डीएमसीएच की सेहत सुधरेगी

हिन्दुस्तान की दूसरी सबसे बड़ी खबर है:  डीएमसीएच भी बनेगा विश्वस्तरीय अस्पताल। उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने बताया कि दरभंगा मेडिकल कालेज व अस्पताल (डीएमसीएच) का विकास पटना मेडिकल कालेज व अस्पताल (पीएमसीएच) की तर्ज पर किया जाएगा। जिस तरह पीएमसीएच को विश्वस्तर का अस्पताल बनाया जा रहा है, उसी तरह डीएमसीएच की भी सूरत बदलेगी और वह अत्याधुनिक और बेहतरीन सुविधाओं वाला विश्वस्तरीय अस्पताल होगा। मंगलवार को विधानसभा में इसकी घोषणा की गई। इसके साथ ही उन्होंने सुपौल, गोपालगंज व मुंगेर में नया मेडिकल कालेज खोलने और मिशन-60 कार्यक्रम को जिला अस्पताल के बाद प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तक लागू करने की भी जानकारी दी।

मंत्रियों के वेतन भत्ते

भास्कर की सुर्खी है: सीएम समेत सभी मंत्रियों के वेतन और भत्ते बढ़े, अब पौने तीन लाख मिलेंगे। जागरण की सुर्खी है मंत्रियों का वेतन भत्ता 35 हज़ार बढ़ा। सरकार ने अब राज्य सरकार के मंत्रियों के वेतन भत्ते में वृद्धि का प्रस्ताव स्वीकृत किया है। मंगलवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में हुई राज्य मंत्रिमंडल की बैठक में मंत्रियों के वेतन भत्ता नियमावली में संशोधन का प्रस्ताव स्वीकृत किया गया। कुल 35 प्रस्ताव स्वीकृत किए गए। अब मंत्रियों के वेतन भत्ते में करीब 30-35 हज़ार रुपये की मासिक वृद्धि की गई है। इस वृद्धि के बाद उनका मासिक वेतन भत्ता मिलाकर करीब 2.5 लाख हो जाएगा।

कुछ और सुर्खियां

  • ज़लज़ले से भारत-पाक समेत 9 देशों में कांपी धरती
  • पीएफआई पर 5 साल के प्रतिबंध को यूएपीए टट्रिब्यूनल की मुहर
  • पुराने 500-1000 के नोट बदलने का आदेश नहीं दे सकते: सुप्रीम कोर्ट
  • आईजीआईएमएस में रैगिंग के दोषी पांच छात्रों छात्राओं को 10 दिनों के लिए निष्कासित किया
  • राज्य के 23 जिलों में भूजल स्तर नीचे गया
  • इमरान खान ने अदालत में हत्या की आशंका जताई

अनछपी: उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कम समय में ही बड़ी बात कह दी। मंगलवार को विधानसभा में उन्होंने ठीक ही कहा कि 85% हिंदुओं को 15% लोगों से डराया जा रहा है। तेजस्वी यादव का इशारा उनकी तरफ था कि हिन्दुओं को डराने वाले और कोई नहीं बल्कि हिंदुत्व के नाम पर राजनीति करने वाले लोग ही हैं जिसमें भाजपा का नाम सबसे ऊपर है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यकाल का इतिहास जब भी लिखा जाएगा तो उसमें यह बात जरूर दर्ज की जाएगी कि एक समय ऐसा भी था जब देश में हिंदुत्व के नाम पर राजनीति और देश पर राज करने वाले लोग ही हिंदुओं को डरा रहे थे। और डरा भी किनसे रहे थे? उनसे जिनकी आबादी महज 15% थी। यही डर दिखाकर वह अब तक नफरत की राजनीति करने में कामयाब हुए हैं। ज़रूरत इस बात की है कि तेजस्वी यादव की तरह बाकी सेकुलर लीडर भी यह बात खुलकर बोलें कि 85% हिंदुओं को कैसे 15% लोगों से डर हो सकता है? एक ऐसे समय में जबकि हिंदू रीति-रिवाजों को सरकारी तौर पर मनाया जाता है यह कहना हिंदू खतरे में है, वास्तव में यह बेहद घिनौनी राजनीति का परिचायक है। ऐसी घिनौनी राजनीति करने वाले लोग ही यह भी कहते हैं कि अल्पसंख्यकों से वोट देने का अधिकार वापस लेना चाहिए। ऐसे तत्वों के खिलाफ तेजस्वी यादव जैसे नेताओं को और अधिक काम करने की जरूरत है।

 937 total views

Share Now

Leave a Reply