बिहार में कोरोना के बढ़ते मामले मास्क लगाने का दे रहे संकेत

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना।
बिहार में दिसंबर से धीरे-धीरे कोरोना के मामले बढ़ने शुरू हो गये हैं। एक ओर सूबे में जहां कोरोना वायरस के नये वैरिएन्ट ’ओमीक्राॅन’ की जांच की समुचित व्यवस्था करने की तैयारी ही चल रही है तो दूसरी ओर कोरोना से बचने के उपायों की धज्जियां उड़ रही हैं। मास्क लगाना तो अधिकतर लोग भूल ही चुके हैं, भीड़-भाड़ भी खूब हो रही है।
डाॅक्टर इस ओर ध्यान दिलाने पर जोर दे रहे हैं कि मास्क लगाये बिना बाहर न निकलें और भीड़-भाड़ से हर हाल में बचें। खासकर शादी जैसे समारोह में भी सावधान रहने की सलाह दी जा रही है।
12 दिसंबर को आईजीआईएमएस, पटना में एक कोरोना मरीज की मौत खतरे का संकेत दे रही है। पिछले दस दिनों में पटना में कोरोना से हुई यह दूसरी मौत है। पिछली मौत एम्स, पटना में हुई थी।
आईजीआईएमएस में जिस मरीज की मौत हुई उसे किडनी की और अन्य बीमारियां भी थीं लेकिन उसे सांस फूलने की शिकायत के बाद यहां भर्ती कराया गया था। उसके लिवर और फेफड़े ने काम करना बंद कर दिया था। तीन बार रैपिड एंटिजन में रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के बाद उसकी आरटी-पीसीआर जांच की गयी तो उसकी रिपोर्ट भी पाॅजिटिव निकली। इसके बाद उसके किरायेदार की रिपोर्ट भी पाॅजिटिव निकली।
इस के अलावा 12 दिसंबर को बिहार में 23 नये कोरोना संक्रमित मिले जिसमें अकेले 13 पटना के हैं। फिलहाल राहत की बात है कि ये सभी मरीज सिर्फ 6 जिलों के हैं और बाकी 32 जिले अभी इससे बचे हैं। महज दस दिन पहले बिहार से कोरोना जांच में एक भी रिपोर्ट पाॅजिटिव नहीं निकली थी। सूबे में आखिरी 24 घंटे में कुल 2 लाख कोरोना जांच हुई जिसमें संक्रमण दर दस हजार में एक संक्रमण की रही।
फिलहाल सूबे में कुल सक्रिय कोरोना मरीजों की संख्या 81 है जो कल तक 62 थी। स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार कोरोना जांच में कुल मिलाकर अब तक 7 लाख 26 हजार 319 संक्रमितों की पहचान हुई है। यह उन लोगों की संख्या है जिन्होंने जांच करायी है। इनमें से सरकारी आंकड़े के अनुसार 12 हजार 90 लोगों की मौत हुई।

 461 total views

Share Now

Leave a Reply