अरबी फारसी यूनिवर्सिटी के वीसी का महज 4 महीने में इस्तीफा

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना।
अपने पूर्ववर्ती वीसी एसपी सिंह पर भ्रष्टाचार का आरोप लगाने वाले मौलाना मजहरुल हक अरबी फारसी यूनिवर्सिटी के वीसी प्रोफेसर मोहम्मद कुद्दूस ने महज चार महीने में शुक्रवार को अपने पद से इस्तीफा दे दिया। उन्होंने अपना पद अगस्त में संभाला था।
उन्होंने अपना इस्तीफा राजभवन को ’निजी और अपरिहार्य’ कारणों से भेजा है। इसकी काॅपी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी भेजी है। उनका इस्तीफा राजभवन को मिल गया है लेकिन चांसलर ने अभी इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है।
प्रोफेसर कुद्दूस इससे पहले तब सुर्खियों में आये थे जब उन्होंने मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर अपने से पहले के वीसी एसपी सिंह पर काॅपी खरीद में धांधली और अन्य कई तरह के आरोप लगाये थे। इसके बाद प्रोफसर एसपी सिंह ने उनपर मानहानि का मुकदमा किया था।
अब प्रोफेसर कुद्दूस का कहना है कि उन्हें यूनिवर्सिटी में घुटन महसूस हो रही है और उन्हें सही से काम करने नहीं दिया जा रहा है। उन्होंने यूनिवर्सिटी के अन्य अधिकारियों और कर्मचारियों पर असहयोग का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि वे इस यूनिवर्सिटी में 2015 से चल रही अनियमितताओं में शामिल नहीं हो सकते। उन्होंने यह आरोप भी लगाया कि इस यूनिवर्सिटी के आंतरिक स्रोत के 6 करोड़ रुपये अवैध तरीके से खर्च किये गये हैं।
बिहार सरकार के शिक्षा विभाग ने 15 दिसंबर को यूनिवर्सिटी से इस बात के लिए स्पष्टीकरण मांगा था कि उम्र सीमा पार कर चुके 9 लोगों की बहाली कैसे हुई। साथ ही यूनिवर्सिटी की बहाली में आरक्षण रोस्टर के पालन का सबूत भी मांगा था। लेकिन वीसी प्रोफेसर कुद्दूस के आदेश के बावजूद रजिस्ट्रार ने जवाब नहीं दिया।

 

 811 total views

Share Now

Leave a Reply