छपी-अनछपी: गोपालगंज-मोकामा उपचुनाव के लिए सरगर्मी तेज़, ट्विटर मस्क की मुट्ठी में

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार में दो विधानसभा सीटों के लिए होने वाले उपचुनाव के मद्देनजर सरगर्मी तेज़ हो गयी है और अखबारों में इनकी कवरेज बढ़ी है। टेस्ला इलेक्ट्रिक कार के लिए नाम कमाने वाले एलन मस्क द्वारा ट्विटर को खरीदकर अपनी मुट्ठी में करने की खबर भी प्रमुखता से छपी है। छठ के बारे में भी आज विस्तार से खबरें छपी हैं। 

भास्कर की  सबसे बड़ी खबर 3 नवंबर को उपचुनाव के लिए होने वाले मतदान पर है। गोपालगंज के बारे में इसकी सुर्खी है: MY वोट बिखरा तभी भाजपा को होगा लाभ। अखबार ने मोकामा के बारे में लिखा है: राजद-जदयू की दोस्ती व अनंत के असर का टेस्ट। हिन्दुस्तान ने सुर्खी लगाई है: दो सीटों के उपचुनाव से चढ़ा सियासी पारा। इसके तहत खबर दी गई है: भाजपा का दावा- चिराग एनडीए के लिए प्रचार करेंगे, लोजपा (आर) का इनकार। लोजपा (आर) यानी चिराग पासवान वाली लोजपा। एक और सुर्खी है: भाजपा को 17 साल दिया, मुझे तीन साल दीजिए। यह बात आरजेडी उम्मीदवार के लिए प्रचार के दौरान उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने कही है।

जागरण की सबसे बड़ी खबर है: जिन जिलों में धान की कटाई शुरू हो गई, वहां प्रारंभ कर दें सरकारी खरीद। यह निर्देश मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने धान अधिप्राप्ति के लिए उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक में दिया। इस बार धान का समर्थन मूल्य ₹2040 प्रति क्विंटल तय किया गया है। हिन्दुस्तान ने लिखा है: धान की खरीद में बिचौलिए घुसे तो होगी सख्त कार्रवाई: सीएम।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी हेडलाइन है: बिहार के विश्वविद्यालयों का पाठ्यक्रम बदलेगा। अब पूरे बिहार के विश्वविद्यालयों में एक ही सिलेबस से पढ़ाई होगी और नंबर की जगह ग्रेड और क्रेडिट मिलेगा। चॉइस बेस्ड क्रेडिट सिस्टम या सीबीसीएस की व्यवस्था दूसरे राज्यों में काफी पहले से जारी है।

पिछले लोकसभा चुनाव (2019) में भड़काऊ भाषण देने के मामले में 3 साल कैद की सजा सुनाए जाने के बाद समाजवादी पार्टी के दिग्गज नेता और रामपुर क्षेत्र के विधायक मोहम्मद आजम खान की विधानसभा सदस्यता शुक्रवार को समाप्त कर दी गई। यह जानकारी सभी अखबारों में है।

दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति एलन मस्क द्वारा ट्विटर को खरीदे जाने की खबर प्रमुखता से दी गयी है। जागरण ने लिखा है: ट्विटर का बास बनते ही मस्त ने भारतवंशी सीईओ समेत चार अधिकारियों को हटाया। हिन्दुस्तान की सुर्खी है: मस्क ने कहा- चिड़िया आजाद, सरकारें बोलीं, नियम मानने होंगे। भास्कर की सुर्खी है: मस्क के आते ही भारतवंशी पराग, विजया को निकाला। इसके बदले अकेले पराग को ही 414 करोड़ रुपये का मुआवजा मिलने की बात है। 

जागरण की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: मुंबई हमले के साजिशकर्ताओं को अब भी मिल रही पनाह: जयशंकर। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने मुंबई में आतंकवाद की रोकथाम पर संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की समिति की विशेष बैठक में यह आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि 26 नवंबर 2008 को मुंबई पर हमला करने वाले आतंकवादियों को अब भी शरण दिया जा रहा है, उन्हें सज़ा नहीं दिलाई जा सकी है।

हिन्दूस्तान की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: छठमय हुआ बिहार, खरना आज। बाजारों में शुक्रवार को छठ सामग्री खरीदारी के लिए भारी भीड़ थी। आज मुस्लिम परिवारों द्वारा छठ मनाए जाने पर भी विशेष कवरेज है। हिन्दुस्तान की सुर्खी है: मज़हब पर महापर्व की आस्था भारी, मुस्लिम भी कर रहे छठ। इसमें कैमूर, सीवान, सारण और गोपालगंज से मुस्लिम परिवारों द्वारा छठ मनाए जाने की खबर है। इनमें बेटा पैदा होने, मर्ज़ से ठीक होने और किसी वजह के बगैर भी छठ मनाने की कहानी है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को पूरे देश में पुलिस और सुरक्षा बलों के लिए ‘वन नेशन, वन यूनिफार्म’ का सुझाव दिया है। राज्य के गृह मंत्रियों के चिंतन शिविर में उन्होंने कहा कि पुलिस के लिए एक राष्ट्र, एक वर्दी सिर्फ एक विचार है। इससे सम्बंधित खबर सभी जगह है। जागरण की सुर्खी है: एक देश, एक वर्दी पर विचार करें राज्य: मोदी। भास्कर ने सुर्खी दी है: बोले मोदी- एक फेक न्यूज़ से बवाल होता है बिना जांचे कुछ शेयर न करें।

रोजगार के लिहाज से अहम जानकारी प्रभात खबर ने पहले पेज पर दी है: कांस्टेबल के 24369 पदों पर भर्ती को 30 नवंबर तक आवेदन। यह कांस्टेबल बीएसएफ, सीआईएसएफ, सीआरपीएफ और एसएसबी आदि में बहाल किए जाएंगे। इसके लिए उम्मीदवारों का 18 से 23 वर्ष के बीच होना जरूरी है।

अनछपी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा फेक न्यूज़ के बारे में जो बात कही गई है उससे किसी को इनकार नहीं हो सकता लेकिन सबसे बड़ा सवाल उनकी पार्टी भारतीय जनता पार्टी पर ही होगा। इस समय फेक न्यूज़ फैलाने के मामले में भारतीय जनता पार्टी के आईटी सेल का नाम काफी ऊपर चल रहा है। इस फेक न्यूज़ में बड़े-बड़े नेताओं और आम निरीह लोगों को निशाना बनाया गया है। कई बार चोरी पकडे जाने पर फेक न्यूज़ को चुपचाप हटा दिया जाता है लेकिन तब तक काफी नुकसान हो चुका होता है। इसके अलावा लंबे समय तक फेक न्यूज़ ही लोगों को सही खबर लगती है। किसी की बात को तोड़ मरोड़ कर या गलत नीयत से एडिट कर फैलाने में आईटी सेल वालों का बहुत बड़ा हाथ माना जाता है। सच्चाई यह है कि फेक न्यूज़ आज बहुत बड़ा रोग बन गया है लेकिन अफसोस की बात यह भी है कि इस रोग के सहारे ही लोग वोट पाने के जुगाड़ में लगे रहते हैं। फेक न्यूज़ फैलाने वालों पर जब तक सख्त कार्रवाई दिखेगी नहीं तब तक यह सिलसिला रुकना मुश्किल लगता है। ट्विटर फेक न्यूज़ फैलाने का एक बहुत बड़ा जरिया रहा है। एलन मस्क टि्वटर के नए मालिक हैं और कह रहे हैं कि चिड़िया आजाद है लेकिन देखना होगा कि चिड़िया की आज़ादी से फेक न्यूज़ पर कितना काबू पाया जा सकता है। 

 

 547 total views

Share Now

Leave a Reply