छपी-अनछपीः 17 मेडिकल काॅलेजों में 7987 नयी नौकरियां, 200 महिलाओं से लाखों की ठगी

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना। बिहार में नये गठबंधन की सरकार में नयी नौकरियों की खबरें आ रही हैं। ऐसा लगता है कि सरकार की कोशिश है कि नौकरियों की खबरें बनी रहें। यह देखने वाली बात होगी कि बेरोजगारों को इसका कितना फायदा मिलता है। आज के अखबारों में यही खबर सबसे प्रमुख है। दूसरी तरफ पटना में 200 महिलाओं को ठग लिये जाने की खबर भी प्रमुखता से छपी है।
हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर हैः स्वास्थ्य विभाग में होगी 7987 पदों पर बहाली। इसके साथ जानकारी दी गयी है कि 17 मेडिकल काॅलेजों में यह मौका मिलेगा। ध्यान रहे कि इनमें अभी 9 मेडिकल काॅलेज मौजूद हैं जबकि 8 बनाये जाने हैं। प्रभात खबर की सबसे बड़ी सुर्खी हैः स्वास्थ्य विभाग में 7987 पदों पर भर्ती। जागरण ने लिखा हैः स्वास्थ्य विभाग में जल्द होंगी बहालियां, आठ हजार पद सृजित। भास्कर की हेडिंग हैः हेल्थ में 800 नये पदों पर बहाली।
इन बहालियों की अच्छी बात यह है कि ये नये पद हैं लेकिन जो सवाल है वह यह है कि पहले से खाली पद कितने हैं और उनपर भर्ती कब होगी।
पटना एयरपोर्ट पर लाखों नकद रुपये के साथ जदयूू एमएलसी दिनेश सिंह को तीन घंटे तक रोके जाने की खबर भी प्रमुखता से छपी है। हालांकि दिनेश सिंह ने दावा किया है कि उनके पास से रकम नहीं मिली है। उनकी पत्नी वीणा देवी वैशाली से लोजपा की लोकसभा सांसद हैं। हिन्दुस्तान ने खबर दी है कि दिल्ली से मिले इनपुट के आधार पर सीआईएसएफ ने उन्हें रोका और जागरण ने बताया है कि इनकम टैक्स की टीम ने उनसे पूछताछ की है। प्रभात खबर ने खबर दी है कि दिनेश सिंह से 35 लाख रुपये मिले हैं और अभी पूरी गिनती नहीं हुई है।
भास्कर में पहले पेज पर छपी एक खबर हैः मकान के शौकीन इंजीनियर के पास 5 करोड़ की संपत्ति। पुल निर्माण निगम के इंजीनियर अरविंद कुमार के ठिकानों पर स्पेशन विजिलेंस यूनिट ने छापे में इतनी संपत्ति का पता लगाया है।
जागरण की दूसरी सबसे बड़ी खबर हैः आर्थिक आरक्षण से संविधान के मूल ढांचे का उल्लंघन नहीं। यह मामला सुप्रीम कोर्ट में चल रहा है और वहां केन्द्र सरकार ने ईडब्ल्यूएस यानी आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए आरक्षण के पक्ष में यह बात कही है।
सुप्रीम कोर्ट की ही एक और खबर में हिजाब पर प्रतिबंध के बारे में चल रही बहस के बारे में है। जागरण ने कर्नाटक की ओर से दलील दे रहे साॅलिसिटर जनरल तुषार मेहता के हवाले से लिखा हैः हिजाब विवाद के पीछे गहरी साजिश, पीएफआई का था अभियान। उन्होंने ईरान के बारे मंे भी दलील दी कि वहां मुस्लिम देशों की महिलाएं इसके खिलाफ लड़ रही हैं। सवाल यह है कि अगर हिजाब के हक के लिए आवाज उठाना क्या साजिश है? ईरान के मामले को यहां फिट करना सही है?
जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह का एक बयान कई जगह प्रमुखता से छपा हैः देश में धार्मिक उन्माद फैलाने का का काम हो रहा है। दूसरी तरफ भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी की शिकायत है कि उन्हें जान से मारने की धमकी दी गयी है। यह खबर भी सभी जगह है।
अनछपीः पुरानी कहावत है कि जहां लालच होता है वहां ठगों की कामयाबी तय होती है। ठगों का सबसे बड़ा हथियार ही लालच दिलाना है। इसीलिए अखबारों में ठगी और साइबर ठगी की खबरें भरी रहती हैं। ऐसी ही एक खबर पटना से आयी है जहां के कोतवाली थाने में 200 महिलाओं को ठगने की शिकायत की गयी है। इन महिलाओं से आधी कीमत पर सामान दिलाने का लालच दिलाकर पैसे ऐंठ लिये। यह सब करने वाला सरगना भी लालच में ही आकर पकड़ा गया वर्ना वह फरार चल रहा था। उसे किसी ने ग्राहक बनकर फोन किया और कहा कि वह 50 हजार देने को तैयार है। वही पैसे लेने आया सरगना पकड़ा गया। मगर हर ठगी के साथ यह सवाल भी जुड़ा रहता है कि ऐसे ठगों से आम आदमी को बचाने के लिए पुलिस क्या करती है? ऐसे ठग एक दिन में इतने पैसे नहीं बनाते। वक्त लगता है। पुलिस के मुखबिर क्या करते हैं? इससे भी बड़ा सवाल यह है कि पुलिस क्या ऐसी ठगी को रोकने में कोई दिलचस्पी रखती है?

 

 359 total views

Share Now

Leave a Reply