छपी-अनछपी: सर्वे में शराबबंदी को 99% महिलाओं का सपोर्ट, किसानी में महिलाओं को बढ़ाने पर जोर

बिहार लोग संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार में शराबबंदी को लेकर हुए ताजा सर्वे में बताया गया है कि 99% महिलाएं और 92% पुरुष इसका समर्थन करते हैं। यह खबर सभी अखबारों में पहले पेज पर है। बिहार के चौथे कृषि रोड मैप में महिलाओं को आगे बढ़ाने पर जोर देने की बात कही गई है इसे अखबारों ने प्रमुखता दी है। पटना में 37 किलो सोने के साथ विदेशी नागरिकों की गिरफ्तारी की खबर भी पहले पेज पर है।

हिंदुस्तान की दूसरी सबसे बड़ी खबर है शराब बंदी के पक्ष में 99% महिलाएं और 92% पुरुष। भास्कर ने लिखा है 2016 के बाद 1.82 करोड़ लोगों ने छोड़ी शराब। चाणक्य लॉ विश्वविद्यालय और जीविका के सर्वे में यह पता चला है। मद्य निषेध, उत्पाद और निबंधन विभाग के तत्वावधान में हुए इस सर्वे में शराबबंदी के सात वर्षों में इसके प्रभाव का पूरे प्रदेश में विस्तार से सर्वे किया गया। साथ ही, इसको लेकर आम आदमी की प्रतिक्रिया भी रिकार्ड की गयी है। जीविका के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी राहुल कुमार, उत्पाद आयुक्त सह निबंधन महानिरीक्षक बी. कार्तिकेय धनजी, चाणक्य लॉ विश्वविद्यालय के डीन एस.पी. सिंह, मद्य निषेध एवं उत्पाद उपायुक्त कृष्ण कुमार ने सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी किया। हालांकि मंगलवार को इसका संक्षिप्त प्रारूप ही जारी किया गया। इस साल 10 लाख 22 हजार 467 लोगों से बातचीत करके रिपोर्ट तैयार की गयी है। सर्वेक्षण के लिए राज्य के सभी जिलों और सभी प्रखंडों को आधार बनाया गया। इसके लिए 1.15 लाख जीविका समूह में से 10 हजार लोगों का चयन किया गया था। सर्वेक्षण रिपोर्ट की सबसे अहम बात तो यह है कि पिछले सात वर्षों में 1 करोड़ 82 लाख लोगों ने शराब पीना छोड़ा।

किसानी में महिलाएं

जागरण की सबसे बड़ी खबर है चौथे कृषि रोड मैप में महिला किसानों को बढ़ाने पर रहेगा जोर मुख्यमंत्री। हिन्दुस्तान की पहली खबर भी यही है किसानों को बड़ा बाजार उपलब्ध कराएंगे: सीएम। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को पटना के बापू सभागार में कृषि रोड मैप के फॉर्मूलेशन के लिए आयोजित किसान समागम के उद्घाटन समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि महिलाएं आगे बढ़े इसको लेकर हम लोगों ने शुरू से प्रयास किया है। नीतीश कुमार ने कहा कि किसानों के लिए बड़ा बाजार उपलब्ध कराएंगे। ताकि, हर किसान को उनके उत्पादन की अच्छी कीमत मिले। उन्हें अपने उत्पाद को बेचने में कोई दिक्कत नहीं हो।

उपेंद्र हुए मोदी पर लट्टू

भास्कर की प्रमुख खबर है: पार्टी बनाने के अगले दिन ही कुशवाहा ने की पीएम की तारीफ, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जायसवाल से गर्मजोशी से मिले। हिन्दुस्तान ने लिखा है: उपेंद्र ने खोले पत्ते, एनडीए के साथ जाएंगे। जदयू के पूर्व नेता और अपनी नई पार्टी राष्ट्रीय लोग जनता दल बनाने वाले उपेंद्र कुशवाहा को लेकर बातें अब साफ हो चुकी हैं। हालांकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि उपेंद्र कुशवाहा बोले थे कि सब दिन जदयू में रहेंगे। उपेंद्र कुशवाहा ने मंगलवार की सुबह मीडिया से बातचीत में भाजपा के प्रति नरम रुख अपनाते हुए कहा की 2024 में नरेंद्र मोदी को कोई टक्कर दे फिलहाल ऐसा नहीं दिख रहा है। उन्हें लगता है कि पीएम मोदी के सामने 2024 में कोई चुनौती नहीं है।

मर्डर का मुल्ज़िम मोनू और पुलिस की बेचारगी

हिन्दुस्तान की खबर है: मोनू मानेसर के पक्ष में महापंचायत। दूसरी तरफ भास्कर ने सूचना दी है: हरियाणा में राजस्थान के 40 पुलिस जवानों पर एफआईआर। राजस्थान के दो युवकों की हत्या के मामले में मुल्ज़िम मोनू मानेसर के समर्थन में मंगलवार को मानेसर गांव में महापंचायत हुई। तीन घंटे तक चली महापंचायत में गांव की 10 सदस्यीय समिति गठित की गई, जो मोनू मानेसर के परिवार की सुरक्षा करेगी। इसके अलावा 20 सदस्यों की दूसरी समिति भी गठित की गई, जो रणनीति बनाने के साथ कानूनी लड़ाई भी लड़ेगी। राजस्थान के जिन अज्ञात पुलिस वालों पर केस किया गया है वे इस कांड के मुल्ज़िमों को गिरफ्तार करने हरियाणा गए थे।

जावेद अख्तर का बयान

जागरण ने भारतीय गीतकार और शायर जावेद अख्तर के उस बयान पर सुर्खी लगाई है जो उन्होंने पाकिस्तान में दिया: 26 /11 के दोषी आजाद घूम रहे पार्क में जावेद अख्तर। अन्य जगहों पर भी इस बयान की चर्चा हो रही है। जागरण लिखता है कि जावेद अख्तर ने आतंकवाद के खिलाफ पाकिस्तान की जमीन पर ही पाकिस्तान को जमकर लताड़ा है। लाहौर मैसेज महोत्सव के दौरान मंच से ही उन्होंने 2611 के मुंबई हमले पर पाकिस्तान को आईना दिखा दिया पूर्ण राम आतंकी हमला करने वाले नहीं आए थे बल्कि वह लोग अभी भी पाकिस्तान में आजाद घूम रहे हैं। यह बयान उन्होंने तब दिया जब कार्यक्रम में बैठे एक पाकिस्तानी ने कहा कि वह भारतीयों को संदेश दें कि पाकिस्तान एक सकारात्मक मित्र और प्यार करने वाला देश है।

सोने का जैकेट

भास्कर की एक सूची है 37 किलो सोना का पेस्ट बना जैकेट में छुपा ले जा रहे थे पटना में तीन धराए। हिन्दुस्तान ने लिखा है: पटना जंक्शन से 37 किलो सोना ज़ब्त, तीन सूडानी नागरिक धराए। चूंकि दूसरी जगहों पर भी सोना ज़ब्त किया गया है इसलिए जागरण की सुर्खी है: 101.7 किलो सोने के साथ सूडान के साथ नागरिक गिरफ्तार। डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू एजेंसी (डीआरआई) ने सोना तस्करी के अंतरराष्ट्रीय नेटवर्क के खिलाफ बड़ी कार्रवाई की है। पटना के अलावा मुंबई व पुणे में हुई छापेमारी के दौरान 101.7 किलो सोना बरामद हुआ है। इसकी कीमत 51 करोड़ रुपए है। इसमें पटना जंक्शन पर तीन सुडानी नागिरकों से 37.126 किलो सोना की जब्ती भी शामिल है। इनमें 40 पैकेट सोना के पेस्ट (ठोस नहीं) थे।

कुछ और अहम सुर्खियां

  • पटना हाई कोर्ट के सात जजों का जीपीएफ खाता बंद, सीजीआई चंद्रचूड़ ने पूछा- क्या? जजों का जीपीएफ खाता बंद? शुक्रवार को सुनवाई के लिए लिस्ट करें
  • आतंकी-गैंगस्टर व तस्कर गठजोड़ के खिलाफ छापे, देश में 76 जगहों पर एनआईए, ईडी और सीबीआई ने की कार्रवाई
  • 20 सालों से खर्चों का हिसाब नहीं दे रहे 13 विश्वविद्यालय, विभाग बोला- यह बड़ा गबन
  • नगर निकाय चुनाव में डेडीकेटेड आयोग से आरक्षण नहीं देने के खिलाफ दायर याचिका सुप्रीम कोर्ट से खारिज
  • प्रोपगैंडा फ़िल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को दादा साहेब फाल्के अंतरराष्ट्रीय पुरस्कार
  • रांची के इटकी में हाथी ने 5 लोगों को कुचला, चार की मौत
  • 1990 में बूथ लूट के दौरान हत्या के मामले में पूर्व मंत्री रविंद्र मिश्र को उम्रकैद
  • अश्लीलता परोसने पर भोजपुरी गायक अहमद रजा को बक्सर पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • रूस ने अमेरिका के साथ परमाणु संधि को फिलहाल सस्पेंड किया
  • बीबीसी डॉक्यूमेंट्री भारत में विदेश से की जा रही राजनीति का हिस्सा: जयशंकर
  • चिराग पासवान को जेड कैटेगरी के बाद मुकेश साहनी को वाई प्लस सुरक्षा

अनछपी: गीतकार जावेद अख्तर ने पाकिस्तान में जाकर पाकिस्तानियों को तो आईना दिखाने का अच्छा काम कर दिया लेकिन उनसे कई लोग यह सवाल कर रहे हैं कि भारत में यह काम वह कब करेंगे। दिलचस्प बात यह है कि जावेद अख्तर के दूसरे बयानों के लिए उन्हें आलोचना का शिकार कर बनाने वाले लोग भी उनके तारीफ कर रहे हैं। इनमें नफरत भरे बयान देने के लिए बदनाम कंगना रनोट भी शामिल हैं। भारत में यदि कोई ऐसा बयान देता है और खासकर बयान देने वाला अगर मुसलमान हो तो उसे फौरन यह कहा जाता है कि पाकिस्तान चले जाएं। अभी राजस्थान के दो मुसलमान युवकों की हत्या हरियाणा में कर दी गई लेकिन अखबारों का हाल यह है कि उन बेकसूर युवाओं को धड़ल्ले से गौ तस्करी का आरोपी बता रहे हैं और उनका नाम तक देने में झिझक रहे हैं। राजस्थान में कांग्रेस की सरकार है लेकिन कांग्रेस के किसी बड़े नेता जैसे राहुल गांधी का कोई बयान इसकी निंदा के लिए अब तक नहीं आया है। चूंकि मारने वाले मुल्ज़िम हरियाणा के हैं और वहां भारतीय जनता पार्टी की सरकार है इसलिए उन्हें पकड़ने के बदले वहां उनके समर्थन में महापंचायत का आयोजन हो रहा है। ऐसे में यह सवाल उठना लाज़िमी है कि जावेद अख्तर को अपने घर के इन आतंकियों के बारे में मुंह खोलने के लिए और किस बात का इंतजार है। यह कोई बहादुरी की तो बात नहीं कि देश के लोगों को खुश करने के लिए दूसरे देशों की आलोचना की जाए लेकिन वैसे ही मामलों में देश के आतंकियों के बारे में चुप्पी साधी जाए।

 731 total views

Share Now

Leave a Reply