छपी-अनछपी: भारत में भी कोरोना से सावधानी की ज़रूरत, नेपाल में देउबा नहीं, प्रचंड बने पीएम

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। चीन में कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर भारत में भी सावधानी बरतने की बात कही जा रही है। इस बारे में प्रधानमंत्री मोदी का बयान सभी अखबारों में प्रमुखता से है। नेपाल में शेर बहादुर देउबा के प्रधानमंत्री बनने की चर्चा के बीच अचानक पुष्प कमल दाहाल प्रचंड को नया प्रधानमंत्री नियुक्त कर दिया गया। इसकी खबर भी सभी अखबारों में है। उधर कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने बयान दिया है कि युद्ध हुआ तो चीन और पाकिस्तान एक साथ हो जाएंगे। यह खबर राष्ट्रीय खबरों के पेज पर है।

जागरण की पहली खबर है फिर बढ़ रहा कोरोना, सावधान रहें: मोदी। भास्कर ने लिखा है: कोरोना से सावधान रहेंगे तो सुरक्षित भी रहेंगे: मोदी। हिन्दुस्तान की सुर्खी है: कोरोना के प्रति सतर्क, सुरक्षित और सावधान रहना जरूरी: मोदी। प्रधानमंत्री मोदी ने आकाशवाणी के मासिक रेडियो कार्यक्रम मन की बात की 96वीं और इस वर्ष की अंतिम कड़ी में अपने विचार साझा करते हुए ये बातें कहीं। उन्होंने कहा कि आप पर्वों का और छुट्टियों का खूब आनंद लीजिए लेकिन थोड़ा सतर्क भी रहिए। “आप भी देख रहे हैं कि दुनिया में कई देशों में कोरोना बढ़ रहा है। इसलिए हमें मास्क और हाथ धोने जैसे सावधानियों का और ज्यादा ध्यान रखना है।”

पेपर लीक के सेंटर का पता कैसे चला
हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी सुर्खी है: कोडिंग की नई व्यवस्था से खुला पेपर लीक का राज। बिहार कर्मचारी चयन आयोग की स्नातक स्तरीय संयुक्त प्रवेश परीक्षा के दौरान लीक हुए प्रश्न-पत्र मामले में सटीक जानकारी जुटाने में आयोग का एडवांस कोडिंग सिस्टम सबसे कारगर हथियार साबित हुआ। इस बार सभी प्रश्न-पत्रों की कोडिंग इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम से कुछ खास तरीके से की गयी थी। इससे जब प्रश्न-पत्र व्हाट्स एप पर सामने आया, तो बीएसएससी के अधिकारियों ने एक घंटे में पता कर लिया कि इस प्रश्न-पत्र को किस शहर के किस सेंटर से बांटा गया था। भास्कर ने जानकारी दी है: लो बैंडविथ के फोन से भेजा पेपर, इसलिए जैमर फेल।

ज़मीन माफिया की करतूत
भास्कर की सबसे बड़ी सुर्खी है: भू माफियाओं ने कब्जाई नदी, खोजने के लिए निकालना पड़ा नक्शा, 32 किलोमीटर में 150 से अधिक जगहों पर है अतिक्रमण। यह मामला बिहटा से निकलकर दानापुर तक जाने वाली बरसाती नदी दनवा का है। इस नदी पर अतिक्रमण के सिलसिले में 2016 में 80 लोगों पर कार्रवाई की बात हुई थी लेकिन वह अतिक्रमण अभी जारी है।

प्रचंड नेपाल के पीएम
जागरण ने पहले पेज पर खबर दी है: ओली के समर्थन से प्रचंड बने नेपाल के नए प्रधानमंत्री। हिन्दुस्तान ने लिखा है: सियासत में शेर बहादुर देउबा पर भारी पड़े प्रचंड। भास्कर की सुर्खी है: नेपाल में ड्रामा: प्रचंड ने पाला बदला… ओली से हाथ मिलाकर पीएम बने। सरकार के गठन को लेकर नेपाल में कई दिनों से चल रहा गतिरोध रविवार को खत्म हो गया। राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने सीपीएन-एमसी के अध्यक्ष पुष्पकमल दहल प्रचंड को नया पीएम नियुक्त किया। प्रचंड सोमवार शाम चार बजे शपथ लेंगे। सत्ता ढाई-ढाई साल में बंटेगी। शुरुआती ढाई साल प्रचंड रहेंगे। इससे पहले प्रचंड ने पूर्व प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली के नेतृत्व वाले सीपीएन-यूएमएल का समर्थन मिलने के बाद राष्ट्रपति से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया था। इस दौरान ओली भी साथ थे।

चर्चित कथाकार शमोएल नहीं रहे
चर्चित कथाकार शमोएल अहमद के इंतक़ाल की खबर देते हुए हिन्दुस्तान ने लिखा है:  सिंगारदान, ऊंट, अनकबूत, चमरासुर, लुंगी जैसी अविस्मरणीय कहानियां और नदी जैसा चर्चित उपन्यास लिखने वाले उर्दू व हिन्दी के कथाकार शमोएल अहमद नहीं रहे। वे ज्योतिष में भी दखल रखते थे। पाटलिपुत्र कॉलोनी में उनका आवास था। बिहार सरकार से मुख्य अभियंता पद से सेवानिवृत होकर लेखन और ज्योतिष में डूबे रहे। अपनी बेबाक टिप्पणियों से भी चर्चा में रहे। पटना के साहित्यकारों ने शमोएल अहमद के निधन पर गहरा दुख व्यक्त किया है। वे मूलत भागलपुर के रहने वाले थे। सिंगारदान कहानी उन्होंने भागलपुर दंगे की पृष्ठभूमि पर लिखी थी, जिसकी वजह से वे काफी चर्चा में रहे।

अश्विन-अय्यर ने भारत को दिलाई जीत
जागरण ने पहले पेज पर क्रिकेट की खबर छापी है कि रविचंद्रन अश्विन और श्रेयस अय्यर ने बांग्लादेश के खिलाफ दूसरे टेस्ट में हार के कगार पर पहुंची भारतीय टीम को जीत दिला दी। बांग्लादेश ने भारत को जीत के लिए अंतिम पारी में 145 रन का लक्ष्य दिया था। एक समय उसके 7 विकेट महज 74 रन पर गिर गए थे। इसके बाद भारत का कोई विकेट नहीं गिरा और जीत के लिए आवश्यक रन बन गए जिसमें अश्विन के 42 और अय्यर के 29 रन शामिल हैं। इस जीत के साथ भारत ने यह टेस्ट सीरीज 2-0 से जीत ली है।

चीन का खतरा
हिन्दुस्तान ने देश दुनिया के पेज पर यह खबर दी है: युद्ध हुआ तो चीन-पाकिस्तान एक साथ होंगे: राहुल गांधी।
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि चीन और पाकिस्तान अब साथ हो गए हैं। वे मिलकर तैयारी कर रहे हैं। यदि युद्ध हुआ तो दोनों देशों के खिलाफ होगा। उन्होंने ये बातें भारत जोड़ो यात्रा के दौरान सशस्त्रत्त् बलों के दिग्गजों के साथ हुई बातचीत के दौरान कही। अपने यू ट्यूब चैनल पर साझा किए गए वीडियो में बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने कहा, मेरे पास आपके (सेना) के लिए न सिर्फ सम्मान है, बल्कि प्यार और स्नेह भी है। उन्होंने कहा कि पहले हमारे दो दुश्मन चीन और पाकिस्तान थे और हमारी नीति उन्हें अलग रखने की थी। पहले कहा गया कि दो मोर्चे पर लड़ाई नहीं होनी चाहिए, तब लोगों ने कहा कि ढाई मोर्चे पर लड़ाई चल रही है। यानी पाकिस्तान, चीन और आतंकवाद, लेकिन आज चीन और पाकिस्तान एक ही मोर्चा है।

अमेरिका में ज़बर्दस्त सर्दी
भास्कर की खबर है: अमेरिका के 60% लोग भीषण सर्दी से बेहाल, 48 घंटे में 8000 फ्लाइट रद्द। यहाँ लगभग 20 करोड़ लोग सर्दी के तूफान के कारण परेशान हैं। एक दशक में एक बार आनेवाले इस बर्फीले तूफान से अब तक 28 लोगों की मौत हो चुकी है। इस तूफान में वातावरण का दबाव कम से कम 24 घंटे के लिए बहुत कम हो जाता है। यह दबाव हर घंटे लगभग एक मिलीबार की रफ्तार से कम होता है। जितना यह दबाव कम होता है, तूफान की रफ्तार उतनी ही तेज होती जाती है। चारों ओर बर्फ़ के कारण तूफ़ान खतरनाक होता है क्योंकि तेज रफ्तार हवाएं सब कुछ जमा देती है।

आरएसएस: सबसे बड़ा सामाजिक संगठन
जागरण ने खबर दी है आरएसएस की शाखाओं में हो सकता है महिलाओं का प्रवेश। इसके साथ ही इसे विश्व का सबसे बड़ा सामाजिक संगठन बताते हुए लिखा गया है कि संघ नए प्रयोग की तैयारी में है। आरएसएस 2024 में अपना शताब्दी वर्ष मनाने जा रहा है। इसे लेकर तैयारियां जारी है जिसकी कड़ी में संघ की शाखाओं में परिवार शाखा के माध्यम से महिलाओं को भी प्रवेश की अनुमति दी जा सकती है। इस समय देशभर में करीब 75000 स्थानों पर संघ का विस्तार है जिसे एक लाख तक करने का लक्ष्य बनाया गया है। आर एस एस पुरुषों के बीच कार्य करता है जबकि महिलाओं के लिए पृथक संगठन राष्ट्र सेविका समिति है। संघ का विदेश में हिंदू स्वयंसेवक संघ के नाम से विस्तार है।
अनछपी: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ या आरएसएस या संघ 100 साल का होने जा रहा है लेकिन यह अभी दुनिया की बड़ी आबादी के लिए एक पहेली है। इस संगठन ने हमेशा राजनीति से दूर रहने की बात कही लेकिन दिलचस्प बात यह है कि आज इस संगठन से जुड़े लोग ही भारत के राजनीति के सर्वोच्च नेता हैं। संघ से जुड़े भारत के पहले प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की जयंती कल ही मनी है। वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और कैबिनेट के अधिकतर सदस्य संघ से जुड़े रहे हैं। भारतीय संस्कृति की बात करने वाला संघ सामाजिक संगठन माना जाता है लेकिन इसकी गतिविधियों के बारे में बहुत विवाद रहा है। संघ पर हिंदी, अंग्रेजी और अन्य भाषाओं में कई किताबें भी लिखी गई हैं। संघ वैसे तो राष्ट्र की बात करता है लेकिन उसके लिए राष्ट्र का अर्थ हिंदू राष्ट्र है और यही कारण है कि जब इसकी शाखा विदेश में लगती है तो उसका नाम आरएसएस के बदले हिंदू स्वयंसेवक संघ हो जाता है। संघ भले ही संस्कृति की बात करता हो लेकिन इस पर आरोप है कि यह भारत के अल्पसंख्यकों के साथ हिंसा को बढ़ावा देने में लिप्त है। इससे संबद्ध राष्ट्रीय मुस्लिम मंच संघ की उसी विचारधारा को आगे बढ़ाता है जिसके अंतर्गत सभी भारतीयों को हिंदू कहा जाता है। बरहाल 100 साल पूरे होने पर संघ का इस बारे में भी अध्ययन किया जाना चाहिए कि भारतीय समाज में सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने का आरोप क्यों लगाया जाता रहा है।

 940 total views

Share Now

Leave a Reply