छपी-अनछपी: सीएए-मुस्लिम आबादी… शाह के भाषण में नहीं, लालू-नीतीश का डर

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना।
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के पूर्णिया दौरे की बहुत चर्चा थी और वह आज भी सीमांचल के इलाके में हैं। शुक्रवार को उनके भाषण में न तो सीएए की चर्चा थी और न ही उन्होंने मुसलमानों की कथित रूप से बढ़ती हुई आबादी के बारे में कोई बात की। एक तरह से भाजपा के हिंदुत्ववादी चुनावी एजेंडे से वे इस बार हटे हुए नजर आये जबकि बिहार के भाजपा नेता ऐसे ही बातें कर रहे हैं। आज के अखबारों की सुर्खियां बताती हैं कि अमित शाह ने एक बार फिर लालू का ही नहीं बल्कि नीतीश का भी डर दिखाने की कोशिश की और यह भरोसा दिलाया के केंद्र में मोदी सरकार के रहते डरने की ज़रूरत नहीं।
हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: पीएम बनने को लालू से जा मिले नीतीश: शाह। इसमें बताया गया है कि जनभावना सभा नाम के इस कार्यक्रम में उन्होंने दावा किया कि 2024 में देश में फिर से मोदी सरकार बनेगी और 2025 में भाजपा की राज्य सरकार बनेगी।
श्री शाह ने नीतीश की नीति बताई कि कुर्सी मेरी सुरक्षित रहनी चाहिए।
प्रभात खबर की सबसे बड़ी सुर्खी है: 2025 में पूर्ण बहुमत से बिहार में भाजपा सरकार: शाह। जागरण मैं छपा है: पूर्णिया में अमित शाह बोले- बिहार पर मंडरा रहा जंगलराज का खतरा। उन्होंने नीतीश कुमार पर पीठ में छुरा भोंकने का आरोप भी लगाया है। श्री शाह ने नीतीश पर आरोप लगाया कि उन्होंने देवीलाल से लेकर जॉर्ज फर्नांडिस और जीतन राम तक को धोखा दिया है। श्री शाह ने ये आरोप तब लगाए हैं जब कि भाजपा नीतीश के साथ 15 साल तक सरकार में शामिल रही है और जॉर्ज फर्नांडिस व जीतन राम मांझी के साथ जो कुछ हुआ, तब भाजपा नीतीश कुमार के खिलाफ एक शब्द नहीं बोली।
श्री शाह के जंगल राज के आरोप के जवाब में जदयू के अध्यक्ष ललन सिंह ने कहा कि यहां जंगल नहीं, मंगल राज है। उन्होंने ‘भाजपा मुक्त भारत’ का भी नारा दिया। उधर तेजस्वी यादव ने कहा कि यह शाह का कॉमेडी शो था। इन दोनों बयानों को भी अखबारों में प्रमुख जगह दी गई है।
पूर्णिया में अमित शाह की सभा के बारे में भास्कर की सुर्खी है: शाह बोले- लालू नीतीश से डरना कैसा जब ऊपर मोदी सरकार है।
शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक की खबर भी सभी अखबारों में प्रमुखता से छपी है। हिंदुस्तान की सुर्खी है: राज्य में शिक्षकों के खाली पद जल्द भरे जाएंगे: सीएम। प्रभात खबर ने लिखा है: शिक्षकों के दो लाख पदों पर जल्द बहाली होगी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस बारे में आरोप लगाया है कि केंद्र ने योजनाओं के लिए अपने हिस्से की राशि नहीं दी है।
गरीब परिवारों के लिए हेल्थ इंश्योरेंस की पॉलिसी ‘आयुष्मान कार्ड’ से वंचित लोगों को अब बिहार सरकार मदद करेगी। हिंदुस्तान में खबर है: बिहार में शुरू होगी मुख्यमंत्री आरोग्य योजना।
पटना के 100 साल पुराने सुल्तान पैलेस को तोड़ने पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है। सुल्तान पैलेस का इस्तेमाल परिवहन भवन के रूप में होता है और बिहार सरकार इसे तोड़कर वहां नई इमारत बनाना चाहती है। इसके खिलाफ एक पीआईएल दाखिल की गई थी जिस पर हाईकोर्ट ने बिहार सरकार से आठ हफ्तों में जवाब मांगा है।
प्रभात खबर की एक सुर्खी है: पीएमसीएच में 1000 मरीज बिना इलाज के लौटे, 15 ऑपरेशन भी टले। यह सब अन्य अखबारों में भी है।
अनछपी: गृह मंत्री अमित शाह का सीमांचल दौरे का जैसा प्रचार था, वैसा कुछ हुआ नहीं। चर्चा या अफवाह यह भी चल रही है कि सीमांचल को केंद्रशासित प्रदेश घोषित कर दिया जाएगा। भाजपा नेता सीमांचल के बारे में अक्सर यह आरोप लगाते हैं कि वहां बांग्लादेशी घुसपैठिए बहुत हैं। इसका कारण यह समझा जाता है कि भाजपा इस आरोप से बिहार में धार्मिक ध्रुवीकरण को मजबूत कर सकती है। अमित शाह की सभा में दूसरे नेताओं ने यह मुद्दा उठाया भी लेकिन खुद अमित शाह इन मुद्दों पर बोलने से बचते रहे। यहां तक कि उन्होंने सीएए की भी चर्चा नहीं की जिस पर उनका बहुत ज़ोर है। मगर यह समझना कि वे इन दोनों मुद्दों को आगे नहीं उठाएंगे, सही नहीं होगा। ऐसा लगता है कि वह फिलहाल नीतीश कुमार पर निशाना साधेंगे ताकि उनकी छवि को धूमिल किया जा सके। श्री शाह के भाषण से यह भी लगता है कि वह 2025 तक बिहार सरकार को किसी और तरीके से गिराने में दिलचस्पी नहीं रखते हैं। हालांकि कब भाजपा अपने इस रुख में परिवर्तन ले आये, कहना मुश्किल है।

 392 total views

Share Now

Leave a Reply