छपी-अनछपी: शाहरुख़ ने 2 बजे रात में सरमा को क्यों फोन लगाया? अमेरिका में अंधाधुंध फायरिंग में 10 मरे

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। शाहरुख कौन, एक दिन पहले यह मज़ाक़ उड़ाने के लिए यह सवाल करने वाले असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने जानकारी दी है कि शाहरुख खान ने दो बजे रात में उन्हें फोन किया और उन दोनों की बात हुई। अखबारों में यह खबर दब सी गई है लेकिन इससे श्री सरमा की मानसिकता का पता चलता है। अमेरिका के शहर लॉस एंजिलिस में चीनी नववर्ष के जश्न में फायरिंग से 10 लोगों की मौत की खबर अखबारों के पहले पन्ने पर है। हालांकि अलग अलग अखबारों की सबसे बड़ी खबर एक जैसी नहीं।

जागरण ने राष्ट्रीय खबरों के पन्ने पर खबर दी है: पठान के लिए सरमा की शरण में शाहरुख। अखबार लिखता है कि आगामी फिल्म पठान के बायकाट के बीच असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने बताया कि शनिवार की रात दो बजे फिल्म अभिनेता शाहरुख खान ने उन्हें फोन किया और कहा कि गुवाहाटी में शुक्रवार को उनकी फिल्म के खिलाफ प्रदर्शनों की खबरों से वह चिंतित हैं। सरमा ने कहा कि उन्होंने एसआरके को आश्वासन दिया है कि राज्य सरकार कानून व्यवस्था कायम रखेगी और उनकी फिल्म के रिलीज पर ऐसी किसी भी घटना का नहीं होना सुनिश्चित करेगी। एक ही दिन पहले सरमा ने फिल्म पठान के खिलाफ हुए प्रदर्शनों के बारे में पूछे जाने पर कहा था, “शाहरुख खान कौन हैं? हम उनकी परवाह क्यों करें हमारे पास पहले ही बहुत शाहरुख खान हैं।”

दीदी की रसोई

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: सभी अस्पताल व छात्रावासों में अब चलेगी दीदी की रसोई। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा है कि राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज एवं अस्पतालों तथा सरकारी छात्रावासों में दीदी की रसोई संचालित की जाएगी। इसे जल्द सभी जगहों पर शुरू कराने का निर्देश उन्होंने पदाधिकारियों को दिया है। मुख्यमंत्री ने रविवार को समाधान यात्रा के दौरान नवादा जिले के बुधौल में जननायक कर्पूरी ठाकुर छात्रावास में दीदी की रसोई का उद्घाटन करने के बाद यह निर्देश दिया। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि नवादा में गंगाजल आपूर्ति योजना का काम बहुत तेजी से हो रहा है। इसी साल कुछ ही महीनों में यह कार्य पूरा हो जाएगा।

आंतरिक सुरक्षा पर पीएम

जागरण की सबसे बड़ी सुर्खी है: अंतरिक सुरक्षा चुनौतियों से निपटने के लिए जिला स्तर पर बने रणनीति। यह बात प्रधानमंत्री मोदी ने डीजीपी सम्मेलन में कही है। दिल्ली में 3 दिनों तक चले डीजीपी सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने सभी राज्यों और उसके भीतर जिला स्तर पर आंतरिक सुरक्षा के लिए अलग-अलग चुनौतियों से निपटने के लिए स्थानीय स्तर पर बेहतर रणनीति बनाने पर जोर दिया।

उपेंद्र कुशवाहा और भारतीय जनता पार्टी

भास्कर में एक सुर्खी है उपेंद्र कुशवाहा ने कहा जदयू के जितने ज्यादा बड़े नेता हैं वह आज उतने ही ज्यादा भाजपा के संपर्क में हैं। जदयू संसदीय बोर्ड के अध्यक्ष उपेन्द्र कुशवाहा ने रविवार को दिल्ली से पटना पहुंचने पर भाजपा में जाने के सवालों को खारिज किया। कहा कि हम जदयू में हैं और हमारी चिंता का विषय है कि जदयू कमजोर हो रहा है। हालांकि उन्होंने इशारे इशारे में नीतीश कुमार और पार्टी अध्यक्ष ललन सिंह पर भी सवाल खड़े किए।

जश्न में फायरिंग, 10 की मौत

हिन्दुस्तान में पहले पेज पर खबर है: अमेरिका चीनी नववर्ष के जश्न में फायरिंग, 10 मरे। अमेरिका में लॉस एंजलिस के मोंटेरे पार्क में चीनी नववर्ष के जश्न स्थल पर एक युवक ने अंधाधुंध फायरिंग की। मशीनगन से दागी गोलियों से 10 लोगों की मौत हो गई, जबकि कई अन्य घायल हो गए। लॉस एंजलिस के पुलिस अधिकारी बॉब बोइस ने बताया कि पार्क में चीनी नववर्ष समारोह का आयोजन किया जा रहा था। इसके चलते हजारों लोग इकट्ठा हुए थे।

अब मंत्री आलोक के बयान पर बवाल

शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर द्वारा रामचरितमानस के विवादास्पद दोहों के बारे में दिए गए बयान पर उठा विवाद अभी शांत भी नहीं हुआ है कि राजस्व एवं भूमि सुधार मंत्री और राजद के वरिष्ठ नेता आलोक कुमार मेहता के शनिवार को भागलपुर के एक कार्यक्रम में दिए बयान को लेकर बवाल मच गया है। श्री मेहता ने अपने बयान को लेकर रविवार को सफाई दी। उन्होंने कहा है कि उनका किसी खास जाति पर आक्षेप नहीं था। इधर, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल ने कहा है कि राजद नेताओं के बयानों से बिहार बदनाम हो रहा है। नेता प्रतिपक्ष विजय सिन्हा ने कहा कि राजद की बुनियाद ही नफरत पर टिकी है। विप में नेता प्रतिपक्ष सम्राट चौधरी ने महागठबंधन पर जातीय विद्वेष फैलाने का आरोप लगाया है।

दो-चार साल पहले हेडमास्टर बनने की राह

हिन्दुस्तान ने पहले पेज पर सुर्खी दी है: हाईस्कूलों के हेडमास्टर के लिए 8 वर्ष का अनुभव ही अनिवार्य। पहले प्रधानाध्यापक के पद पर नियुक्ति के लिए माध्यमिक शिक्षकों को 10 वर्ष की सेवा करनी थी जबकि उच्च माध्यमिक शिक्षकों के लिए 8 वर्ष की सेवा आवश्यक थी। अब शिक्षक दो से चार वर्ष पहले ही प्रधानाध्यापक के लिए पात्रता हासिल कर लेंगे। राज्य सरकार ने इसके लिए शिक्षकों की अनुभव अवधि में कमी कर दी है। अब माध्यमिक शिक्षक 8 वर्ष जबकि उच्च माध्यमिक शिक्षक 4 वर्ष के अनुभव के आधार पर ही प्रधानाध्यापक के लिए परीक्षा में शामिल हो सकेंगे।

कुछ और सुर्खियां

  • केंद्र ने महिलाओं को एक तिहाई, हमने दिया 50 प्रतिशत आरक्षण: मुख्यमंत्री
  • नहीं रहे पूर्व राज्यपाल प्रोफेसर सिद्धेश्वर प्रसाद
  • सीवान में जहरीली शराब से दो की मौत, आधा दर्जन से अधिक बीमार
  • भारत में बीबीसी को सुप्रीम कोर्ट से ऊपर मानते हैं कुछ लोग: रिजिजू
  • नव वर्ष में हर भारतीय पर कर्ज बढ़कर ₹109373 हुआ

अनछपी: लगभग 22 साल तक कांग्रेस में रहने के बाद भारतीय जनता पार्टी ज्वाइन कर असम के मुख्यमंत्री बने हिमंत बिस्व सरमा की ज़बान पर शायद ही कोई ऐसी बात आती हो जिससे उनका अहंकार ना झलकता हो और जिसमें खास तौर पर मुसलमानों के खिलाफ कोई घोषणा न हो। दो दिन पहले जब असम में शाहरुख खान की फिल्म के खिलाफ तोड़फोड़ के बारे में उनसे पत्रकारों ने सवाल पूछा तो उन्होंने उसी अहंकार का परिचय दिया था। इसके एक दिन बाद उन्होंने खुद यह बताया कि रात दो बजे शाहरुख खान का उनके पास फोन आया था। सरमा के इन दो बातों से यह साफ है कि उन्हें शाहरुख खान जैसे सुपरस्टार की कोई परवाह नहीं है और कैसे वह उनसे मदद मांगने के लिए मजबूर हैं। सवाल यह है कि अगर शाहरुख खान इतने ही नापसंद थे तो रात दो बजे उनसे बात करने के लिए तैयार होने की जरूरत क्या पड़ गई। इस बारे में शाहरुख खान का कोई बयान सामने आने के बाद ही पूरी बात की सच्चाई मालूम हो सकेगी। फिल्म के इस विवाद से जहां सरमा की नफरत का अंदाजा लगाया जा सकता है वहीं सोचने की बात यह भी है कि फिल्म स्टारों को अपनी फिल्म के प्रमोशन के अलावा समाज से कोई मतलब नहीं रह गया है। सरमा इन बातों से अपने वोटरों को यह जताने में कामयाब हुए होंगे कि उन्हें शाहरुख खान जैसे लोगों को भी ठीक करना आता है। सवाल यह है कि जिन फिल्म स्टारों को समाज के लिए कोई चिंता नहीं है क्या समाज को उनके लिए चिंता करने की जरूरत है?

 

 

 707 total views

Share Now

Leave a Reply