मोदी सरकार और सुप्रीम कोर्ट ने किसान आंदोलन को दिया झांसा

सैयद जावेद हसन, बिहार लोक संवाद डाॅट नेट
पटना, 13 जनवरी: केन्द्र सरकार के तीन कृषि क़ानूनों के खि़लाफ़ बिहार के अन्य स्थानों के साथ-साथ पटना के गर्दनीबाग़ में वामदलों और किसानों का धरना-प्रदर्शन जारी है। इसी कड़ी में बुधवार को धरनास्थल पर तीनों कृषि क़ानून की प्रतियां जलाई गईं। इस अवसर पर वामदलों, ऐपवा और अखिल अखिल भारतीय किसान महासभा से जुडे़ पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं ने धरना पर बैठे लोगों को संबोधित किया। उनके संबोधन में सुप्रीम कोर्ट और पीएम नरेन्द्र मोदी निशाने पर रहे। बिहार लोक संवाद डाॅट नेट से बातचीत करते हुए माले के राज्य सचिव काॅमरेड कुणाल
ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट मोदी सरकार के रिज़र्व प्लेयर की भूमिका निभा रहा हैै। उन्होंने कहा कि तीनों कृषि क़ानून की वापसी तक किसानों का आन्दोलन जारी रहेगा।

अखिल भारतीय किसान महासभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमेश सिंह ने आरोप लगाया कि गोदी मीडिया किसान आंदोलन को दबा रहा है।

ऐपवा की प्रदेश अध्यक्ष सरोज चैबे ने कहा कि तीनों क़ानून का सबसे ज़्यादा नकारात्मक प्रभाव महिलाओं पर पड़ेगा इसलिए महिलाएं भी लामबंद हो रही हैं।

 453 total views

Share Now

Leave a Reply