सीएम हाउस के बाहर छात्राओं का हंगामा, नहीं मिले नीतीश, घसीट कर ले गई पुलिस

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट
पटना, 19 जनवरी: जीएनएम छात्राएं मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने उनके आवास गई थीं। लेकिन नीतीश ने उनसे मिलने से से इंकार कर दिया। इसपर छात्राएं अपनी मांगों के समर्थन में वहीं धरने पर बैठ गईं।
तब पुलिस ने छात्राओं को भगाने की कोशिश। इस दौरान आप नेता बबलू प्रकाश को पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया और उन्हें सचिवालय थाना ले गईं।
आक्रोशित छात्राएं सचिवालय थाना भी पहुंच गईं।
दरअसल लड़कियों का केरियर दांव पर है। बिहार सरकार ने स्वास्थ्य समिति के माध्यम से वैकेंसी निकाली है। 20 जनवरी, 2021 इसी अंतिम तिथि है। जबकि छात्राओं का अब तक परीक्षाफल नहीं निकला है। छात्राएं वैकेंसी की तिथि बढ़ाने की कर रही हैं मांग कर रही हैं। बिहार लोक संवाद ने इस मुद्दे को ज़ोरोशोर से उठाया था।

प्रदर्शन कर रही छात्राएं पीएमसीएच, एनएमसीएच, एसकेएमसीएच, डीएमसीएच की 2016-19 सत्र की जीएनएम (नर्सिंग) की छात्राएं हैं। सत्र के अनुसार अब तक उनका रिजल्ट आ जाना चाहिए था और वे बिहार स्वास्थ्य समिति द्वारा नर्स की बहाली के लिए निकाली गई रिक्तियों के लिए आवेदन कर पातीं। किंतु सत्र विलम्ब होने के कारण उनकी जो फाइनल परीक्षा अक्टूबर 2019 में हो जानी चाहिए थी, वह दिसम्बर 2020 में हुई है। छात्राओं का कहना है कि सत्र विलम्ब से चलने के लिए सरकार एवं विभाग दोषी है। अतः उन्हें भी नर्स बहाली में आवेदन का मौका मिलना चाहिए। इसके लिए सत्र 2016-19 की बिहार की जो छात्राएं अंतिम वर्ष की परीक्षा दे चुकी हैं, उन्हें भी आवेदन के लिए योग्य किया जाना चाहिए या फिर आवेदन की अंतिम तिथि को तब तक के लिए बढ़ाया जाना चाहिए जब तक कि सत्र 2016-19 की छात्राओं का परिणाम न प्रकाशित हो जाए।

प्रदर्शन में गिरफ्तारी दे चुके आप प्रवक्ता बबलू प्रकाश का कहना है कि बिहार में राज्य स्वास्थ्य समिति ने ग्रेड ‘ए’ नर्स पद के लिए जो बहाली निकाली है उसके लिए सत्र 2016-19 में अन्य राज्यों से जीएनएम कोर्स पढ़ने वाली छात्राओं को भी आवेदन का मौका मिलेगा, और वे आवेदन कर पाने में इसलिए सक्षम हैं क्योंकि उन राज्यों में समय पर परीक्षाएं हुईं और समय पर रिजल्ट आ गया। किंतु बिहार के कॉलेजों से सत्र 2016-19 में जीएनएम कोर्स कर रही हजारों छात्राएं सिर्फ इसलिए आवेदन नहीं कर पा रही हैं क्योंकि सरकारी लापरवाही में सत्र विलम्ब से चल रहा है। बबलू ने कहा कि ऐसी परिस्थिति में छात्राओं की मांग जायज है कि उन्हें भी आवेदन करने का विकल्प उपलब्ध कराया जाए। उन्होंने बताया कि आप के राज्य सभा सांसद संजय सिंह ने भी उक्त विषय में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर इन छात्राओं को आवेदन के लिए योग्य करने का कोई विकल्प निकालने का आग्रह किया है। बबलू ने कहा कि चाहे गिरफ्तारी हो या जेल जाना पड़े, आम आदमी पार्टी छात्राओं के पक्ष में लोकतांत्रिक तरीकों से संघर्ष करती रहेगी।

इस बीच आप सांसद संजय सिंह ने नीतीश को लिखा पत्र लिख कर छा़त्राओं के साथ न्याय करने की मांग की है।

 1,022 total views

Share Now

Leave a Reply