वोटिंग छीनने के सवाल पर तेजस्वी ने कहा शाहनवाज भाई…

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना
’’शाहनवाज भाई, आपका वोटिंग का अधिकर छीन लिया जाएगा, आप वोट नहीं दो पाओगे, आप भी चुप बैठे हैं, मुख्य सविच बिहार के कौन हैं, मुख्य सचिव से वोटिंग राइट छीन लिया जाएगा…अद्भुत है।’’
ये बातें बुधवार को नेता प्रतिपक्ष ने विधानसभा में कहीं तो उद्योग मंत्री और भाजपा के सदस्य शाहनवाज हुसैन जवाब देने के लिए खड़े हुए। उन्होंने कहा कि आपने मेरा नाम लिया तो जवाब देना संसदीय परंपरा है। इसपर तेजस्वी ने कहा कि अभी खड़े हो गये… उस समय क्यों नहीं बोले। शाहनवाज ने कहा- हम बोले।
शाहनवाज ने कहा- मैं कहता हूं कि जो नागरिकता का अधिकार, जो सिटिजनशिप है उसे लेने का अधिकार किसी सरकार को है ही नहीं। हम सिटिजनशिप दे सकते हैं। एक बार जो भारत का नागरिक है, वह सदा नागरिक रहेगा।
शाहनवाज ने कहा कि जिन लोगों ने यह तय किया कि यह उनकी जन्मभूमि है, वे यहां रहे, उन सबका यह देश है। उनको कोई बेदखल नहीं कर सकता, इसपर कोई चर्चा ही नहीं होनी चाहिए। तेजस्वी यादव ने कहा- हमको पढ़ा रहे हैं। शाहनवाज ने इशारों में अपनी पार्टी भाजपा को भी एक संदेश देने की कोशिश की कि- नागरिकाता छीनने का अधिकार ही नहीं संविधान में; चाहे कितना भी बहुमत आ जाए।

तेजस्वी ने फिर कहा- शाहनवाज भाई, जो बात आप कह रहे, यह हमको नहंी उधर समझाने की जरूरत है। तेजस्वी ने कहा- आपलोगों में काॅन्ट्रास्टिक आइडियाॅलोजी है। हमलोग यही अपेक्षा कर रहे थे कि मुख्यमंत्री इसकी कड़ी निंदा करेंगे, अपने सहयोगी को सलाह देंगे कि ऐसे लोगों को निकालो। उन्होंने पूछा कि क्या मुख्यमंत्री जी में इतनी ताकत नहीं है।

शाहनवाज ने कहा कि यह बयान हो सकता है मगर उन्होंने यह साफ नहीं किया कि यह कौन सा बयान है और उनकी पार्टी के बिस्फी से विधायक हरिभूषण सिंह बचैल ने दिया था। नाम तो तेजस्वी यादव ने भी उस विधायक का नहीं लिया। मगर तेजस्वी का सवाल वोट के हक के बारे में था और शाहनवाज हुसैन नेे जवाब दिया नागरिकता के मुद्दे पर।
तेजस्वी यादव ने मुख्य सचिव आमिर सुबहानी का नाम नहीं लिया मगर अपने बयान से उन्होंने सरकार को और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को कटघरे में खड़ा किया।
तेजस्वी ने राज्यपाल के अभिभाषण के जवाब में अपनी बात में कहा कि किसी में दम नहीं कि वह मुसलमान भाइयों से उनका अधिकार छीन सके। लेकिन ताज्जुब होता है, धर्मनिरपेक्षता की बात करते हैं, सेक्यूलरिज्म की बात करते हैं और मुख्यमंत्री जी बैठे हुए हैं। मुख्यमंत्री जी आप हमको कहे थे न, आरएएस वाले खतरनाक हैं।
अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने कहा कि यह प्रोसीडिंग में नहीं जाएगा।
तेजस्वी यादव ने ध्यान दिलाया कि एनडीए के विधायक ने कहा कि मुसलमानों से वोटिंग राइट वापस ले लो। उन्होंेने कहा- मगर हद है, इस देश की आजादी में हिन्दू-मुसलमान-सिख-ईसाई सब लोगों ने कुर्बानी दी है। सब लोगों ने बलिदान दिया, लेकिन आरएसएस वालों ने नहीं दिया।
लोगों को याद दिलाना पड़ेगा। यही बिहार की धरती है जहां आडवाणी जी को गिरफ्तार किया गया था। अभी लालू के सिपाही खड़े हैं।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के बगल में बैठे उप मुख्यमंत्री भाजपा के तारकिशोर प्रसाद ने आरएसएस पर टिप्पणी को दुर्भाग्यपूर्ण बताया और कहा कि भारत के राष्ट्रपति, उप राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री सभी आरएसएस सदस्य हैं।

 609 total views

Share Now

Leave a Reply