छपी-अनछपी: बिहार पुलिस में होगी 44 हज़ार भर्ती, बर्थ डे में चली गोलियां

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार में नौकरी देने के अपने वादे को निभाते हुए दिखने के लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव लगातार नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में हिस्सा ले रहे हैं और साथ ही नई नियुक्तियों की घोषणा भी की जा रही है। बिहार में 44 हज़ार से अधिक सिपाहियों की बहाली की घोषणा की खबर सभी अखबारों में सबसे प्रमुख है। अगर इंडोनेशिया के शहर बाली में हुए जी-20 के सम्मेलन में प्रधानमंत्री मोदी के भाषण को भी पटना के अखबारों में काफी अहमियत दी गई है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: बिहार पुलिस में स्वीकृत 44 हजार पदों पर बहाली जल्द। यही खबर बाक़ी अखबारों में भी लीड है।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को यह घोषणा 10,459 पुलिसकर्मियों को नियुक्ति पत्र सौंपने के बाद की। उन्होंने कहा कि बिहार पुलिस में स्वीकृत 44 हजार पदों पर जल्द बहाली होगी। पहले राज्य में सिर्फ 42 हजार 481 पुलिसकर्मी थे। वर्ष 2010 में प्रति एक लाख आबादी पर 115 पुलिस राष्ट्रीय स्तर पर थे, जिसके अनुसार बिहार में एक लाख 52 हजार 232 और पुलिस कर्मियों की जरूरत थी, जिनमें एक लाख आठ हजार से अधिक की नियुक्ति हो गई है। मुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि बिहार में प्रति एक लाख की आबादी पर 160-170 पुलिस कर्मियों की नियुक्ति हमलोग करेंगे।
रेलवे समूह-ग के 80 हजार कर्मियों को पदोन्नति देगा, यह सूचना हिन्दुस्तान में पहले पेज पर है।
प्रभात खबर में पहले पेज पर खबर है: समय पर कराएं परीक्षा और बांटे डिग्री, मगध व जेपी विवि को एक बार फिर सख्त हिदायत। यह हिदायत राजभवन ने विश्वविद्यालयों को दी गयी है।
वैशाली जिले के विदुपुर थाना अंतर्गत मधुरापुर गांव निवासी मुजफ्फरपुर के वरीय उपसमाहर्ता सह नगर सचिव विवेक कुमार (31) की उत्तराखंड में ट्रैकिंग के दौरान मौत हो गई। ऑक्सीजन की कमी के कारण उनकी तबीयत बिगड़ गई थी। उनके पिता अरविंद शर्मा वित्त विभाग में सचिवालय सहायक के पद पर पटना में तैनात हैं। यह खबर सभी अखबारों में है।
जागरण ने पहले पेज पर यह खबर दी है: भारत को जी-20 की कमान। पीएम मोदी बोले- समावेशी और निर्णायक तरीके से करेंगे अध्यक्षता। हिन्दुस्तान के अनुसार इंडोनेशिया के शहर बाली में आयोजित जी-20 शिखर सम्मेलन में यूक्रेन युद्ध को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को जो संदेश दिया था, उसकी गूंज शिखर सम्मेलन के घोषणापत्र में भी सुनाई दी। दुनियाभर के बड़े नेताओं ने यूक्रेन युद्ध को तत्काल खत्म करने का आह्वान करते हुए कहा कि ‘आज का युग, युद्ध का नहीं होना चाहिए।’
अपहरण मामले में पूर्व मंत्री और आरजेडी के एमएलसी कार्तिकेय कुमार ने दानापुर कोर्ट में सरेंडर कर दिया है। यह खबर भास्कर ने पहले पेज पर छापी है।
ग्रहण में पहले पेज पर खबर है: कठुआ दुष्कर्म के नाबालिग अभियुक्त को माना वयस्क। सुप्रीम कोर्ट ने अभियुक्त को नाबालिग घोषित करने का सीजीएम वह हाईकोर्ट का आदेश रद्द किया। यह मामला जनवरी 2018 का है जिसमें एक 8 साल की बच्ची को नशा देकर 4 दिन तक बंधक बनाकर रखा गया और उससे दुष्कर्म हुआ, बच्ची की मौत भी हो गई थी।
बगहा के मजदूर की कश्मीर में गोली मार हत्या करने की खबर कई अखबारों में पहले पेज पर है।
भोजपुर संदेश थाना क्षेत्र के सलेमपुर गांव में पंचायत समिती सदस्य नीतू देवी के घर बेटे की  बर्थडे पार्टी में डांसर व गायक को गोली लगने या मारने की खबर सभी जगह प्रमुखता से छपी है। मंगलवार की रात पंचायत समिति सदस्य के बेटे की बर्थडे पार्टी थी। इसमें हर्ष फायरिंग हो रही थी। इसी दौरान डांसर और गायक को गोली लग गई। डांसर को स्टेज से उतारने और गायक को फरमाइशी गाने के विवाद में गोली मारी गयी है। घायलों में ओडिशा के भुवनेश्वर निवासी डांसर नीनू बेहरा (23 ) और पटना के धनरुआ थाने के बहरामपुर गांव निवासी गायक महेश यादव का पुत्र मुकेश कुमार ( 27) शामिल हैं। आरा सदर अस्पताल में इलाज के बाद दोनों को पटना रेफर कर दिया गया है।

अनछपी: बिहार में शादी-पार्टी के मौके पर हवाई फायरिंग से अक्सर ज़ख्मी होने या मौत होने की खबर आते रहती है। भोजपुर में मंगलवार की रात की घटना इसलिए भी चिंतित करने वाली है कि यह साफ नहीं है कि गोली गलती से लगी है या जान बूझकर मारी गयी है। इस समस्या को सामाजिक और कानूनी-दोनों लिहाज से देखने की ज़रूरत है। शादी या बर्थ डे पार्टी में जश्न के लिए डांसर और गायक बुलाने की बात ही अजीब लगती है। इसके साथ जो भयानक बात होती है वह है डांसर या गायक महिला हुई तो उससे खुलेआम बदलसलूकी की जाती है। इसके अलावा फरमाइशी गाने पर भी मारपीट की जाती है। क़ानूनी पहलू यह है कि हथियार का जो लाइसेंस दिया जाता है वह जश्न मनाने के लिए नहीं बल्कि अपनी सुरक्षा के लिए होता है। लेकिन ऐसी फायरिंग अपना रुतबा दिखाने के लिए की जाती है। ऐसे में लाइसेंस की शर्तों का उल्लंघन करने वालों को हमेशा के लिए इससे वंचित करने जैसा कठोर कदम उठाना होगा।
 

Share Now

Leave a Reply