छपी-अनछपी: नेपाल प्लेन क्रैश में 68 की मौत, तेजस्वी ने किन्हें कहा बयानवीर

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। नेपाल में हवाई जहाज के हादसे में पांच भारतीय समेत कुल 68 लोगों की मौत की खबर सभी जगह सबसे बड़ी खबर है। थोड़े इंतजार के बाद उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के बयान से उपजे विवाद पर जदयू नेताओं की प्रतिक्रिया के जवाब में अपनी बात कही है जिसे अखबारों ने अच्छी कवरेज दी है। वनडे क्रिकेट में पहली बार 300 से अधिक रनों से भारत की जीत की खबर भी अखबारों में पहले पन्ने पर है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: नेपाल में विमान हादसा, पांच भारतीय समेत 68 की मौत। भास्कर ने लिखा है: नेपाल: प्लेन क्रैश; 68 की मौत, इनमें एक सीतामढ़ी का युवक। नेपाल के पोखरा में रविवार की सुबह येती एयरलाइंस का विमान हवाईपट्टी पर उतरने से महज 10 से 20 सेकंड पहले पहाड़ी से टकरा गया जिससे उसमें आग लग गई और वह खाई में जा गिरा। हादसे में पांच भारतीयों समेत 68 लोगों की मौत हो गई। विमान में चालक दल के चार सदस्यों समेत कुल 72 लोग सवार थे। मारे गए लोगों में सीतामढ़ी के बैरगनिया का युवक संजय जायसवाल (28 वर्ष) भी शामिल है। संजय पिछले कुछ वर्षों से काठमांडू में ही काम करता था। वह भांजे के जन्म पर बहन से मिलने पोखरा जा रहा था।

लालू-नीतीश संग जनता: तेजस्वी

जागरण की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: बयानवीरों के नहीं, लालू-नीतीश संग जनता। अख़बार लिखता है कि दिल्ली से पटना लौटने के तुरंत बाद पत्रकारों से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि लोग लगे हैं कि कुछ हो जाए पर नहीं टूटने वाला है महागठबंधन। किसी नेता का नाम लिए बगैर उन्होंने कहा कि जनता बयानवीरों के साथ नहीं बल्कि महागठबंधन के नेता लालू प्रसाद और नीतीश कुमार के साथ है। रामचरित मानस को लेकर शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के बयान से पैदा हुए विवाद पर जब तेजस्वी यादव से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि देश का सबसे पवित्र ग्रंथ भारत का संविधान है। देश उसी से चलता है। संविधान के तहत सबको यह आजादी है कि वह अपनी बात रखे पर संविधान यह भी बताता है कि हर धर्म को मान सम्मान दिया जाना चाहिए। इस पर किसी को कोई संदेह नहीं रहना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह मुद्दा ही नहीं है, मुद्दा तो शिक्षा, रोजगार और महंगाई है इस पर क्यों नहीं चर्चा करते। बयानवीरों को यही लगता होगा कि चलो भाई कोई लाइन मिल गया, उन्हें मानसिक संतुष्टि मिलती होगी पर इससे कुछ नहीं होने वाला। तेजस्वी ने कहा कि भाजपा फिर से अपना एजेंडा हिंदू-मुस्लिम, मंदिर-मस्जिद, पाकिस्तान और कश्मीर दोहराने में लगी है।

अभी और ठंड पड़ेगी?

ऐसा लग रहा था कि अब सर्दी कम होती जाएगी लेकिन भास्कर की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: ओस के साथ 72 घंटे तक भीषण ठंड का असर, घने कोहरे को लेकर अलर्ट। हिन्दुस्तान ने लिखा है: बर्फीली हवाओं ने सिहरन बढ़ाई, आज से भीषण सर्दी के आसार। पटना समेत पूरे बिहार में दो दिन की थोड़ी राहत के बाद रविवार को बर्फीली पछुआ ने मौसम का मिजाज बदल दिया। इससे ठंड में तेजी से वृद्धि हुई। रविवार को राज्य के 20 शहरों के अधिकतम तापमान में भारी गिरावट आई। सोमवार से न्यूनतम तापमान भी 4 से 6 डिग्री तक गिरेगा। इस वजह से भीषण सर्दी पड़ने के आसार हैं।

वनडे क्रिकेट में पहली 300+ की जीत

तिरुवनंतपुरम में भारत ने रविवार को तीसरे वनडे में श्रीलंका को 317 रन से हरा दिया। इस बारे में भास्कर की हेडिंग है: 52 साल के वनडे इतिहास में पहली बार 300+ रन से जीत। इसके साथ ही टीम इंडिया ने सीरीज 3-0 से जीत ली। इससे पहले वनडे में रनों के हिसाब से सबसे बड़ी जी न्यूजीलैंड के नाम थी जिसने आयरलैंड को 290 रन से हराया था।

रिमोट वोटिंग का मामला

हिन्दुस्तान ने खबर दी है: अधिकांश विपक्षी दल रिमोट वोटिंग मशीन के खिलाफ। अधिकतर विपक्षी दल चुनाव आयोग के रिमोट वोटिंग मशीन (आरवीएम) के प्रस्ताव का विरोध करेंगे। विपक्षी दलों का कहना है कि प्रवासी मतदाता की परिभाषा और मतदाताओं की संख्या स्पष्ट नहीं है। साथ ही ईवीएम की विश्वसनीयता को लेकर भी कई सवाल हैं, इसलिए विपक्ष आयोग के प्रस्ताव का सर्वसम्मति से विरोध करेगा। आरवीएम पर चुनाव आयोग की बैठक से पूर्व रविवार को कांग्रेस की अगुआई में विपक्षी दलों की बैठक हुई। बैठक के बाद मीडिया से हुए दिग्विजय सिंह ने कहा कि हम सभी दलों ने सर्वसम्मति से चुनाव आयोग के प्रस्ताव का विरोध करने का फैसला किया है।

रोहतास में वहशीपन

भास्कर की खबर है: चार महीने से पीछा कर रहे मनचले ने दसवीं की छात्रा को सीने में मारी गोली, “कहां हैं मेरे पापा” बोलते बोलते तोड़ दिया दम, मरने से पहले आरोपी का भी लिया नाम। यह घटना रोहतास जिले के बघैला थाने के सियांवक बथान की है। भास्कर की सुर्खी से ही घटना स्पष्ट है। इस घटना का मुख्य आरोपी पकड़ा गया है।

कुछ और सुर्खियां

  • पटना से 20 जनवरी से अमृतसर के लिए सीधी फ्लाइट, 20 से ही 1 स्टॉप के साथ दुबई, जयपुर,गोवा, श्रीनगर, शिरडी को भी उड़ान
  • भाजपा उपाध्यक्ष रहे राजीव रंजन जदयू में शामिल हुए, ललन बोले- भटके भटके 7 वर्षों के बाद भी घर वापसी।
  • वंदे भारत आत्मनिर्भरता की ओर बढ़ने का प्रतीक: मोदी
  • सरकार ने माना, जोशीमठ में चोरी हो रहीं भवनों की दरारें

अनछपी: बिहार में पिछले कुछ दिनों से सियासत का खेल अजब रंग दिखा रहा है जिसमें मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के जनता दल (यूनाइटेड) के दो नेता ऐसे बयान दे रहे हैं जैसे उन्हें इस बात की कोई परवाह नहीं कि इस बारे में राष्ट्रीय जनता दल की प्रतिक्रिया क्या होगी। इन दो नेताओं में एक हैं अशोक चौधरी और दूसरे हैं उपेंद्र कुशवाहा। इन दोनों नेताओं ने राजद कोटे से बने शिक्षा मंत्री चंद्रशेखर के उस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए राजद को ही निशाने पर ले लिया है जिसमें मंत्री ने रामचरित मानस समेत दो दूसरी पुस्तकों के बारे में यह कहा था कि इनसे नफरत फैलती है। उपेंद्र कुशवाहा ने तो आरजेडी पर भाजपा से मिले होने तक का आरोप लगा दिया। उपेंद्र कुशवाहा यह बात अच्छी तरह समझते हैं कि इस तरह का आरोप लगाने का क्या नतीजा हो सकता है लेकिन शायद वे आत्मघाती मुद्रा में आ चुके हैं क्योंकि खुद उनके बारे में यह अफवाह उड़ी हुई है कि वे भारत की जनता पार्टी के साथ हाथ मिलाने जा रहे हैं। तेजस्वी ने ऐसे ही नेताओं को बयानवीर की संज्ञा दी है। इस बारे में जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष ललन सिंह का स्टैंड यह है कि यह राजद का मामला है और जदयू उनके बयान के साथ नहीं है। यहां तक तो बात समझ में आने वाली है लेकिन जिस पार्टी के साथ नीतीश कुमार मुख्यमंत्री बने हुए हैं उसके बारे में उपेंद्र कुशवाहा का यह आरोप कि वह भारतीय जनता पार्टी से मिली हुई है, कुछ अच्छा संकेत नहीं देता है। वैसे भी बिहार की राजनीति से अब खरमास खत्म हो चुका है और कुछ नया हो तो किसी को अचंभा नहीं होना चाहिए।

 510 total views

Share Now

Leave a Reply