छपी-अनछपी: चिमनी भट्ठे पर धमाके में 8 की मौत, सारण की ज़हरीली शराब में थी होम्योपैथी दवा 

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। पूर्वी चंपारण जिले के रामगढ़वा में एक चिमनी भट्टे के उद्घाटन के वक्त धमाका हुआ जिसमें 8 लोगों की मौत हो गई। उधर सिक्किम में सेना के एक ट्रक के खाई में गिरने से 16 जवानों की जान चली गई। इन दोनों हादसों की खबरें अखबारों में प्रमुखता से ली गई है। सारण जहरीली शराब कांड के बारे में एक अहम जानकारी यह मिली है कि उसमें होम्योपैथिक की दवा का इस्तेमाल हुआ था। अखबारों ने इसे भी प्रमुखता दी है। केंद्र सरकार ने मुफ्त अनाज योजना को एक साल तक के लिए बढ़ाने का फैसला किया है जिसकी सूचना सभी अखबारों में है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: होम्योपैथी दवा से बनी थी जहरीली शराब। जागरण और भास्कर ने इसे अंदर के पन्नों पर जगह दी है। अखबारों के अनुसार सारण कांड का मास्टरमाइंड राजेश सिंह उर्फ डॉक्टर था। उसे और चार अन्य लोगों को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है। पुलिस का कहना है कि जिस जहरीली शराब से लोगों की मौत हुई थी उसे होम्योपैथी दवा और घातक केमिकल मिलाकर बनाया गया था। यह दवा उत्तर प्रदेश से लाई गई थी और इसे मिलावटी शराब बनाने का फार्मूला हरियाणा में सिखा गया था। मास्टरमाइंड राजेश सिंह हरियाणा में कंपाउंडर के तौर पर स्प्रिट से जख्मों का इलाज करता था। इस दौरान उसने स्प्रिट से शराब बनाने का तरीका सीख लिया था।

एक साल और मुफ्त अनाज
जागरण की सबसे बड़ी खबर है एक साल और मिलेगा मुफ्त अनाज, सेना में ओ आर ओ पी का दायरा बढ़ा। यही खबर हिन्दुस्तान की दूसरी सबसे बड़ी सुर्खी है: गरीबों और पूर्व सैनिकों को नए साल पर सौगात। जागरण में केंद्र सरकार के फैसले को ऐतिहासिक बताते हुए लिखा है कि अनाज का अब कोई मूल्य नहीं लिया जाएगा। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने बताया कि केंद्रीय खाद्य सुरक्षा एक्ट के तहत भी लाभार्थियों को चावल के लिए 3 रुपये प्रति किलो, गेंहू 2 रुपये प्रति किलो और मोटे अनाज के लिए 1 रुपये प्रति किलो देना पड़ता था। लेकिन अब गरीबों को खाद्य सुरक्षा पूरी तरह मुफ्त उपलब्ध कराई जाएगी। योजना के तहत 5 किलो अनाज जिन लोगों को मिल रहा था और अंत्योदय योजना के तहत जो लोग 35 किलो अनाज के हकदार थे, वे सब इसमें समाहित होंगे। गोयल ने कहा कि दिसंबर, 2023 तक अनाज दिया जाएगा। इस सब्सिडी पर दो लाख करोड़ का खर्च केंद्र सरकार वहन करेगी। अब 81.35 करोड़ लोगों को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना के तहत मुफ्त अनाज दिया जाएगा।

अमीन बहाली फिलहाल रद्द
भास्कर की सबसे बड़ी खबर है: 10,101 अमीन बहाली का विज्ञापन ही रद्द, अब बीसीईसीई लेगी परीक्षा।
यह विज्ञापन अक्टूबर में निकला था। कैबिनेट के फैसले के बाद इसे रद्द किया गया है। परीक्षा अब बिहार संयुक्त प्रवेश प्रतियोगिता परीक्षा यानी बीसीईसीई के तहत ली जाएगी और मेरिट लिस्ट बनाई जाएगी और उसी के आधार पर मानदेय आधारित नियोजन होगा। राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग ने जमीन सर्वे के लिए अमीनों की बहाली का जो विज्ञापन निकाला था उसके मुताबिक चयनित अभ्यर्थियों की नियोजन की तिथि से एक 30 मार्च 2024 तय की गई थी। बीसीईसीई की ओर से फिर से विज्ञापन जारी होगा। उसमें 10,101 पदों की जगह लगभग डेढ़ गुनी यानी करीब 15,000 पदों के लिए परीक्षा ली जाएगी।
इधर, तृतीय स्नातक स्तरीय परीक्षा की पीटी के रद्द होने की आशंका भी सभी अखबारों में है। आयोग ने वायरल प्रश्न मामले की जांच ईओयू को सौंप दी है। ईओयू ने देर शाम प्राथमिकी दर्ज कर डीएसपी को जांच सौंप दी है। हालांकि आयोग के सचिव सुनिल कुमार ने अभी परीक्षा रद्द करने की बात नहीं कही है। उन्होंने बताया कि यदि प्रश्न पत्र केन्द्र से बाहर आने और इससे परीक्षा प्रभावित होने की बात थोड़ी भी सही निकली तो प्रथम चरण की परीक्षा रद्द करने में विलंब नहीं करेंगे।

पूर्वी चंपारण में 8 की मौत
पूर्वी चंपारण ज़िले के रामगढ़वा थाना क्षेत्र के नरीरगिर गांव में शुक्रवार की शाम करीब पांच बजे ईंट-भट्ठा की चिमनी में विस्फोट से आठ लोगों की मौत की खबर है। भास्कर ने लिखा है: रक्सौल में ईट भट्टे के उद्घाटन पर भोज था, चिमनी में अधिक लकड़ी से ब्लास्ट, आठ की मौत। अखबारों के अनुसार ब्लास्ट के साथ चिमनी भरभरा कर गिर गई। इसके मलबे में दबकर चिमनी मालिक सहित आठ लोगों की मौत हो गई। वहीं दस लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। मलबे में और लोगों के दबे होने की आशंका को लेकर बचाव शुरू किया गया। लेकिन कोहरे की वजह से रोक दिया गया। मृतकों और घायलों में उत्तर प्रदेश के फैजाबाद और प्रतापगढ़ के भी मजदूर शामिल हैं। घायलों को इलाज के लिए रक्सौल के निजी नर्सिंग होम और मोतिहारी सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया है। कई घायलों की स्थिति गंभीर बनी है।

हादसे में 16 जवानों की जान गई
अखबारों के अनुसार सिक्किम के जेमा में शुक्रवार को सड़क दुर्घटना में सेना का ट्रक खाई में गिर गया। इस हादसे में तीन जूनियर कमीशन्ड अधिकारी समेत 16 जवानों की मौत हो गई। मृतकों में बिहार के दो जवान शामिल हैं। इनमें आरा के नायक प्रमोद सिंह और खगड़िया के नायब सूबेदार चंदन कुमार मिश्रा के होने की बात कही जा रही है। सेना ने बताया कि यह हादसा सुबह तब हुआ, जब उत्तरी सिक्किम स्थित चत्तेन से थांगू की ओर तीन वाहनों का काफिला जा रहा था। अचानक गहरे मोड़ पर एक ट्रक फिसलकर खाई में गिर गया।
भारत जोड़ो यात्रा और कोविड
हिन्दुस्तान ने देश पेज पर इस खबर को बढ़िया जगह दी है: भाजपा के लिए जहां ‘भारत जोड़ो यात्रा’, वहीं कोविड: राहुल गांधी। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि वे भारत के अन्य भागों में जितनी चाहें उतनी जनसभाएं कर सकते हैं, लेकिन जहां से भारत जोड़ो यात्रा गुजर रही है, सिर्फ वहां कोविड है।
राहुल ने गुरुवार को भी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा था कि वह कन्याकुमारी से कश्मीर तक की यात्रा को रोकने के लिए बहाने ढूंढ रही है। यात्रा इस समय हरियाणा में है व शनिवार को यह राष्ट्रीय राजधानी में प्रवेश करेगी। उन्होंने शुक्रवार शाम एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा, अब (केंद्रीय) स्वास्थ्य मंत्री मुझे पत्र लिख रहे हैं कि कोविड वापस आ गया है, यात्रा बंद करो। शेष भारत में भाजपा जितनी चाहे जनसभाएं कर सकती है, लेकिन जहां भारत जोड़ो यात्रा चल रही है, वहां कोरोना और कोविड है।

अनछपी: सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के नेता कोरोना का इस्तेमाल अपने पक्ष में माहौल बनाने और अपने विपक्षियों को बदनाम करने में करते रहे हैं। एक और जहां भाजपा के नेता विभिन्न सभाएं कर रहे हैं वहीं केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने राहुल गांधी को यह सलाह भेज दी कि कोरोना के मद्देनजर वह अपनी भारत जोड़ो यात्रा रोक दें। कोरोना की शुरुआत में भी भारतीय जनता पार्टी और इसकी सरकारों ने ऐसा माहौल बनाया था कि तबलीगी जमात के लोग ही इसे फैलाने में लगे हैं जबकि अब उन्हें सारे आरोपों से बरी कर दिया गया है। कोरोना जैसी गंभीर बीमारी को अपने विरोधियों के खिलाफ इस्तेमाल करने की यह गंदी राजनीति देश के लिए बेहद खतरनाक है। यह अजीब बात है कि खुल्लम-खुल्ला अपनी सभाएं करने वाले नेता दूसरे नेताओं को सलाह देते हैं कि वह अपनी यात्राएं बंद कर दें। यही नहीं समय आने पर वह इस बात का दुष्प्रचार भी कर सकते हैं कि राहुल गांधी ने सलाह के बावजूद अपनी भारत जोड़ो यात्रा जारी रखी। इसलिए जरूरी है कि इन नेताओं के दोहरे पन को उजागर किया जाए और लोगों को बताया जाए कि बीमारी जैसी चीजों का भी अपने राजनीतिक फायदे के लिए गलत इस्तेमाल करने वालों के खिलाफ राय बननी चाहिए।

 720 total views

Share Now

Leave a Reply