छपी-अनछपी: डेंगू से परेशान पूरा बिहार, सुप्रीम कोर्ट 6 साल बाद करेगा नोटबन्दी की समीक्षा

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार में डेंगू का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। इसके लक्षणों में भी बदलाव दिखने लगा है। अगस्त के महीने में डेंगू होने पर तेज बुखार व बदन दर्द 3 से 4 दिनों में निजात मिल जा रहे थी। अब भूख नहीं लगने और उल्टी की शिकायत मिल रही है। इससे संबंधित खबरें अंदर के पन्नों पर तो छप रही हैं लेकिन पहले पन्ने पर इसे बहुत अधिक महत्व नहीं दिया जा रहा है। उधर जयप्रकाश नारायण को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को निशाने पर लिया है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी खबर है: अमित शाह का जेपी से क्या वास्ता: सीएम। मुख्यमंत्री ने यह बात डॉ. राम मनोहर लोहिया की जयंती पर कही है। इससे जुड़ी खबर की जागरण में हेडलाइन है: अमित शाह का बिना नाम लिए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार बोले, लोक नायक जयप्रकाश से इन लोगों का क्या संबंध। नीतीश कुमार ने अमित शाह के बयान को लेकर मीडिया द्वारा पूछे जाने पर कहा कि आप लोग जिनका नाम ले रहे हैं, लोक नायक जयप्रकाश नारायण से इनका कोई मतलब था क्या? “इनकी राजनीति ही पिछले 20 सालों से शुरू हुई है, उनके बारे में क्या कहा कहें।”
एक तरफ जयप्रकाश की नीतियों पर चलने का दावा है तो दूसरी तरफ उनसे जुड़ी विरासत की बदहाली की भी खबरें आती रहती हैं। भास्कर की खबर है: जेपी व अनुग्रह बाबू से जुड़े ऐतिहासिक कांग्रेस मैदान पर बुडको का कब्जा। बुडको शहरी विकास के काम और नल-जल के काम के लिए जाना जाता है।

जागरण की सबसे बड़ी खबर है: हमें अपनी लक्ष्मण रेखा मालूम है लेकिन नोटबंदी पर करेंगे। यह बात सुप्रीम कोर्ट ने कही है और केंद्र व रिज़र्व बैंक को हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है। बुधवार को कोर्ट ने कहा कि सरकार के नीतिगत निर्णयों की न्यायिक समीक्षा के बारे में उन्हें अपनी लक्ष्मण रेखा मालूम है लेकिन वह सरकार के 2016 के नोटबंदी के फैसले को परखेगा।

भास्कर की सबसे बड़ी खबर है: पटना के मेट्रो स्टेशन होंगे ग्रीन बिल्डिंग, रिटायरिंग रूम और सोनपुर सिस्टम भी। इस खबर में मेट्रो प्रोजेक्ट को पर्यावरण अनुकूल बनाए जाने की जानकारी दी गई है।

प्रभात खबर की लीड है: 87 नए कोर्सों के लिए भी मिलेंगे लोन। यह लोन स्टूडेंट क्रेडिट स्कीम के तहत मिलता है जिसमें नए कोर्स जोड़े जा रहे हैं। इस स्कीम के तहत फिलहाल 12वीं के बाद की पढ़ाई के लिए 4 लाख रुपये तक का लोन मिलता है। इसके लिए पढ़ाई खत्म होने के बाद 4% का सूद लगता है। लड़कियों से 1% सूद लिया जाता है।

बिहार में बुधवार को डेंगू के 419 नए मरीज मिले। इस साल बिहार में अब तक डेंगू के 3568 नए केस मिल चुके हैं। हिन्दुस्तान में पहले पेज पर खबर है: पटना में डेंगू से बच्चे की मौत, 224 नए मरीज मिले।  जागरण में इससे जुड़ी खबर की हेडलाइन है डेंगू का स्ट्रेन बदला, जांच की सुविधा नहीं। इसमें बताया गया है कि दवा लेने के बाद भी 3 से 4 दिनों तक बुखार नहीं उतर रहा।

हिन्दुस्तान की खबर है: छह साल में मिले 22 करोड़, रोगी हित में खर्च किए मात्र 30 लाख। यह जानकारी पीएमसीएच की ऑडिट रिपोर्ट से मिली है। इसमें कहा गया है कि 2016-17 से 2021-22 तक रोगी कल्याण समिति के पास कुल 22 करोड 9 लाख रुपये उपलब्ध थे मगर इसका सिर्फ 1.36% ही खर्च हो पाया।

महंगाई की मार लगातार बढ़ रही है। आज इस सिलसिले की खबर कई अखबारों में पहले पेज पर है। जागरण की सुर्खी है: सितंबर में 7.4% पर पहुंची खुदरा महंगाई। हिन्दुस्तान ने इस बारे में लिखा है: मौसम की मार से देश में और बढ़ी महंगाई।

अनछपी: नोटबंदी के बाद हुई परेशानियों से कौन परिचित नहीं है। भारत में यह खासकर गरीबों के लिए एक त्रासदी लेकर आई थी। लोगों के दिल में अब भी लंबी-लंबी लाइनों की याद ताजा होगी। पैसे रहते लोग सही समय पर अपने काम जैसे इलाज वगैरह के लिए भी बहुत परेशान हुए थे। सरकार ने यह दावा किया था कि नोटबंदी से नकली नोटों का प्रचलन कम होगा, आतंकवाद पर काबू पाया जाएगा और भ्रष्टाचार कम होगा। उस समय के ₹1000 के नोट को बंद कर दिया गया था। ₹500 के नोट के बदले नया नोट जारी किया गया था। इसके साथ ही एक नोट ₹2000 का जारी हुआ था। अब ₹2000 का नोट बाजार में नहीं दिखता है। सरकार इसके लिए कोई कारण भी नहीं बताती है। सुप्रीम कोर्ट 6 साल के बाद इस निर्णय की समीक्षा कर रहा है तो उम्मीद की जानी चाहिए कि वह नोटबंदी से हुई परेशानियों पर वह अपना ध्यान जरूर केंद्रित करेगा। साथ ही, सुप्रीम कोर्ट को यह भी देखना होगा कि नोटबंदी से जिन फायदों के बारे में सरकार बात कर रही थी क्या वो फायदे मिले।

 602 total views

Share Now

Leave a Reply