छपी-अनछपी: गोपलगंज से आरजेडी के लिए संदेश, किस मंदिर की संपत्ति ढाई लाख करोड़?

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। उपचुनाव में मोकामा से आरजेडी को जीतने में कोई खास मशक्कत नहीं करनी पड़ी लेकिन गोपालगंज में बहुत कम अंतर से हारने के बाद यह बहस फिर तेज होगी कि क्या असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम भाजपा की बी टीम है। एआईएमआईएम के लिहाज से सोचा जाए तो यह उनका आरजेडी से बदला है क्योंकि आरजेडी ने उनके चार विधायकों को तोड़कर अपने पार्टी में शामिल कर लिया था। आज के अखबारों में यही सबसे बड़ी खबर है। भारत के किस मंदिर की दौलत ढाई लाख करोड़ है? इसकी खबर भी सुर्खियों में है। 

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी सुर्खी है: मोकामा और गोपालगंज में फासले घटे, किले बरकरार। जागरण: मोकामा में राजद और गोपालगंज में भाजपा ने बरकरार रखी अपनी सीट। प्रभात खबर: मोकामा में राजद और गोपालगंज में भाजपा की सीट रही बरकरार। भास्कर: 1. शुरू से अंत तक अनंत 2. मुश्किल से खिला कमल।

हिन्दुस्तान ने लिखा है: वर्ष 2020 के चुनाव की तुलना में दोनों ही पार्टियों की जीत का अंतर कम हुआ है। मोकामा में राजद प्रत्याशी व बाहुबली पूर्व विधायक अनंत सिंह की पत्नी नीलम देवी ने भाजपा प्रत्याशी बाहुबली नलिनी रंजन उर्फ ललन सिंह की पत्नी सोनम देवी को 16,741 मतों से पराजित किया है। वहीं, गोपालगंज में दिवंगत पूर्व विधायक सुबाष सिंह की पत्नी व भाजपा प्रत्याशी कुसुम देवी ने राजद उम्मीदवार मोहन गुप्ता को 1794 मतों से हराया है।

गोपलगंज में राजद की जीत में असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के उम्मीदवार अब्दुल सलाम व तेजस्वी की मामी व बसपा उम्मीदवार इंदिरा यादव रोड़ा बने। राजद के ‘माई’ समीकरण को दरकाने में दोनों उम्मीदवार सफल रहे। चुनाव परिणाम आने पर एआईएमआईएम के प्रत्याशी अब्दुल सलाम ने कहा भी -भले ही वे हार गए हैं,लेकिन राजद के घमंड को चूर कर दिया है। उन्हें 12,214 वोट मिले जबकि बसपा उम्मीदवार 8,854 वोट प्राप्त करने में कामयाब रहीं।

प्रसिद्ध सोनपुर मेले का उद्घाटन इस बार उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने किया है और इसकी खबर सभी अखबारों में पहले पेज पर है। इससे पहले मुख्यमंत्री नीतीश कुमार द्वारा इस मेले का उद्घाटन किए जाने की खबर आई थी।

हिन्दी के सुप्रसिद्ध समालोचक प्रोफेसर डॉ. मैनेजर पांडेय का देहांत रविवार की सुबह हो गया। बिहार के गोपलगंज में जन्मे मैनेजर पांडेय ने दिल्ली के मुनिरीका स्थित अपने निजी आवास पर अंतिम सांस ली। वे विगत छह माह से बीमार चल रहे थे। यह खबर सभी अखबारों में प्रमुखता से छपी है। हिन्दुस्तान ने लिखा है: वे जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय के भाषा संस्थान के भारतीय भाषा केंद्र में हिंदी के प्रोफेसर और भारतीय भाषा केंद्र के अध्यक्ष भी रहे। उनके निधन से करीब दो हजार की आबादी वाले लोहटी गांव के लोग मर्माहत हैं। डॉक्टर पांडेय चार दशकों से हिंदी आलोचना में सक्रिय थे। उनकी प्रारंभिक शिक्षा गांव में तथा उच्च शिक्षा काशी हिंदू विश्वविद्यालय में हुई थी। वहां से उन्होंने एमए और पीएचडी की उपाधि प्राप्त की। जिस गांव में पढ़ने लिखने की कोई परंपरा नहीं थी, उस गांव से निकलकर डॉक्टर पांडेय साहित्य जगत के एक सशक्त हस्ताक्षर बने। स्व. पाण्डेय के दादा और पिता कभी स्कूल नहीं गए थे।

टी 20 विश्व कप क्रिकेट में भारत के साथ पाकिस्तान विषय में फाइनल में पहुंच गया है और यह खबर सभी अखबारों में प्रमुखता से छपी है। नौ नवंबर को पहले सेमीफाइनल में पाकिस्तान और न्यूजीलैंड की भिड़ंत होगी जबकि 10 तारीख को भारत और इंग्लैंड का मुकाबला दूसरे सेमीफाइनल में होगा। फाइनल 13 नवंबर को खेला जाने वाला है।

पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान ने कहा है कि जहां उन्हें गोली लगी थी वहीं से दोबारा अपना लॉन्ग मार्च शुरू करेंगे। इमरान खान ने रविवार को घोषणा की कि मंगलवार से उनकी पार्टी इस्लामाबाद के लिए मार्च उसी स्थान से फिर से शुरू करेगी जहां पंजाब प्रांत में एक रैली के दौरान उन्हें गोली मारी गई थी। उन्होंने हमला कराने का आरोप पीएम शहबाज शरीफ और दो अन्य पर लगाया है।

पटना स्थित इमारत-ए-शरिया के अलमहद हॉल में रविवार को बिहार समेत कई राज्यों के आये मदरसा प्रमुखों का सम्मेलन आयोजित किया गया। सम्मेलन में शिक्षा की गुणवत्ता पर चर्चा की गई। चार सौ मदरसों के प्रमुखों ने इसमें शिरकत की। मौके पर इमारत-ए-शरिया के अमीर  मौलाना हजरत अहमद वली फैसल रहमानी ने कहा कि कई राज्यों में मदरसों पर हमला कर उससे बुलडोजर से तोड़ दिया जा रहा, कहीं जांच कराई जा रही, कहीं मदरसे को जबरन बंद कराया जा रहा है। यह नाइंसाफी है। हिन्दुस्तान ने लिखा है: उन्होंने कहा कि मदरसों को जिंदा रखने के लिए कानून का पालन करना होगा। जैसे मदरसा की जमीन के तमाम कागजात, भवन का नक्शा, आमदनी का पूरा लेखा जोखा के साथ दी जाने वाली शिक्षा का सिलेबस सब कुछ ठीक रखना होगा। आमदनी और खर्च का ऑडिट प्रत्येक साल करना होगा ताकि कोई हमें आने वाली राशि और उसके खर्च पर प्रश्नचिह्न ना लगा सके।

हिन्दुस्तान के अंतिम पेज पर खबर है: खुलासा: तिरुपति मंदिर विप्रो व नेस्ले से अधिक धनवान। तिरुमला स्थित भगवान वेंकटेश्वर मंदिर के पास कुल 2.5 लाख करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है, जो सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी विप्रो, खाद्य एवं पेय पदार्थ कंपनी नेस्ले तथा सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम ओएनजीसी व इंडियन ऑयल की बाजार पूंजी से भी अधिक है। भगवान वेंकटेश्वर को समर्पित तिरुपति मंदिर के प्रबंधक तिरुमला तिरुपति देवस्थानम (टीटीडी) ने 1933 में अपनी स्थापना के बाद से पहली बार अपनी कुल संपत्ति घोषित की है।

अनछपी: गोपालगंज और मोकामा विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव का परिणाम आने के बाद भारतीय जनता पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल और उनके सहयोगियों ने अपने-अपने हिसाब से अपनी-अपनी जीत का दावा किया है। मोकामा में साफ तौर पर एक ही जाति- भूमिहार की दो प्रत्याशियों के बीच सीधी टक्कर में नीतीश कुमार ने अपनी पकड़ साबित कर दी है हालांकि वहां उम्मीदवार आरजेडी की थीं। भूमिहारों के अलावा उस इलाके में नीतीश कुमार के स्वजातीय काफी संख्या में पाए जाते हैं। भारतीय जनता पार्टी ने वहां भूमिहारों के कई बड़े नेताओं को लगाया था लेकिन अंततः जीत अनंत सिंह के खाते में आई जिन्हें दोषी करार दिए जाने के बाद अपनी सीट गंवानी पड़ी थी और फिर उन्होंने अपनी पत्नी को वहां से उम्मीदवार बनाया था। गोपालगंज में हालांकि आरजेडी हार गई है लेकिन उसे इस बात से संतोष हो सकता है कि उसके उम्मीदवार ने काफी कड़ी टक्कर दे। वहां से एआईएमआईएम के उम्मीदवार द्वारा 12,000 से अधिक वोट लाना आरजेडी के लिए भारी पड़ गया। साथ ही आरजेडी के उम्मीदवार मोहन गुप्ता की वह तस्वीर भी उसके खिलाफ चली गई जिसमें वह राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यक्रम में और उसकी पोशाक में दिख रहे हैं। आरजेडी के लिए यह कहना कोई खास फायदामंद नहीं होगा कि ओवैसी की पार्टी भाजपा की बी टीम है। जितने वोटों के अंतर से आरजेडी के उम्मीदवार की हार हुई है उससे अधिक तो ‘नोटा’ पर वोट पड़े हैं। आरजेडी को ओवैसी की पार्टी को भी अपना प्रतिद्वंद्वी मान कर चलना चाहिए या फिर उसके पास यह विकल्प है कि उसके साथ वह समझौता कर राजनीति करे। आरजेडी नेतृत्व को इस बात पर भी सोचना होगा कि वह आरएसएस समर्थक को अपना उम्मीदवार बनाकर हमेशा नहीं जीत सकती जैसा कि इससे पहले शेरघाटी में उसे जीत हासिल हुई थी। 

 

 624 total views

Share Now

Leave a Reply