छपी-अनछपीः सरकारी अफसर निकल रहे कुबेर, राजस्थान में नुपुर के समर्थक का गला रेत हत्या

 

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अक्सर यह कहते हैं कि वे क्राइम, करप्शन और कम्यूनलिज्म से समझौता नहीं करते। इसमें करप्शन का मुद्दा दोधारी तलवार है। आये दिन घूसखोर अफसरों के पकड़े जाने की बात सामने आते रहती है। अब इसे घूसखोरी बढ़ने का सबूत माना जाए या इसपर काबू का?
पटना से प्रकाशित बुधवार के हिन्दी अखबारों में दो सरकारी अफसरों के पास अथाह संपत्ति मिलने की खबर प्रमुखता से छपी है। ’हिन्दुस्तान’ की सुर्खी है- दो दागी अफसर करोड़ों के कुबेर। इसमें एक तो स्वास्थ्य विभाग के लिए सरकारी खरीद करने वाली कंपनी बीएमएसआईसीएल के जीएम हैं और दूसरे मुजफ्फरपुर के सहायक उद्यान निदेशक। भास्कर के अनुसार जीएम की दौलत आय से दस गुना है जिसमें बंगला ही 5 करोड़ रुपये का है। यही हाल सहायक उद्यान निदेशक का है जिन्हें वेतन में तो 70 लाख ही मिले लेकिन उन्होंने तीन घर व प्लाट तो पटना में ही ले रखे हैं। प्रभात खबर की हेडिंग है- काली कमाई प्राॅपर्टी बनाने में लगायी।
आज की दूूसरी प्रमुख खबर राजस्थाान के उदयपुर की है। वहां नुपुर शर्मा के समर्थन में सोशल मीडिया पोस्ट के विरोध में दो मुस्लिम युवाओं ने एक दर्जी को गला रेतकर मार डाला। इस भयानक कांड के बाद दोनों को गिरफ्तार कर लिया गया है। भास्कर की हेडिंग है- ये हत्या, हेटक्राइम नहीं…आतंकवाद है।
टाइम्स ऑफ इंडिया की लीड महाराष्ट्र की सियासी खबर है- भाजपा ने राज्यपाल से कहा, उद्धव को सदन में बहुमत पेश करना होगा।
इसी अखबार ने पहले पेज पर फैक्ट चेकर मोहम्मद जुबैर को चार दिनों की पुलिस कस्टडी में दिये जाने की खबर दी है।
केन्द्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान के पटना आने और एनडीए में सबकुछ ठीक ठाक होने के दावे को भी प्रमुखता से छापा गया है। दिलचस्प यह है कि मंगलवार को जब विपक्ष ने विधानसभा का बहिष्कार किया तो जदयू के सदस्य भी उसी समय वहां से गायब थे। इसके नतीजे में विधानसभा में निर्धारित चर्चा न हो सकी और पत्रकारों ने जदयू नेताओं से यह सवाल पूछना शुरू कर दिया कि क्या जदयू ’अग्निपथ’ के मुद्दे पर सरकार के साथ है। जदयूू के नेताओं ने कहा कि वे विपक्ष के साथ तो नहीं हैं लेकिन युवाओं में इस योजना को लेकर आक्रोश है, जिसपर प्रधानमंत्री मोदी को ध्यान देना चाहिए।
मंगलवार को पटना में 124 समेत प्रदेश में 211 नये कोरोना मामले मिलने की खबर सबने दी है।
तेज प्रताप की तलाक की अर्जी पर सुनवाई की खबर जागरण ने प्रमुखता से छापी है। हेडिंग है- आमाने-सामने बैठे तेज-ऐश्वर्या, कोर्ट ने कहा- सुलह का करें प्रयास।
अनछपीः उदयपुर में दो मुस्लिम युवाओं द्वारा एक अधेड़ की गला रेतकर हत्या और उसके बारे में वीडियो बनाने की घटना खास तौर पर मुस्लिम और पूरे भारतीय समाज के लिए घोर चिंता का विषय है। मुस्लिम समाज के लिए इसलिए कि कानून हाथ में लेना किसी भी तरह किसी भी समस्या का हल नहीं है और हत्या करना, इतनी जघन्य हत्या, इस्लाम की शिक्षा के तो बिल्कुल खिलाफ है। भारतीय समाज के लिए चिंता की बात यह है कि जिस तरह सद्भाव को बिगाड़ने की कोशिश की जा रही है, उससे बढ़ी नफरत से समाज में हिंसा और प्रति हिंसा का सिलसिला भयानक ही होगा। उदयपुर में जो हुआ और इससे पहले रांची में जिस तरह दो मुस्लिम युवाओं की फायरिंग में मौत हुई, उसके पीछे की असल बात की चर्चा के बिना इस समस्या का हल नहीं निकाला जा सकता। जिस तरह पैगम्बर हजरत मोहम्मद सल्लल्लाहो अलैहि वसल्लम पर आपत्तिजनक टिप्पणी करने वाले भाजपा नेताओं की गिरफ्तारी नहीं हुई है, उससे आक्रोश बढ़ना स्वाभाविक है और इसका दुष्परिणाम भी सामने है हालांकि उसकी वजह से किसी की हत्या या कोई और गैरकानूनी काम बिल्कुल भी स्वीकार्य नहीं है।

 489 total views

Share Now

Leave a Reply