माइनॉरिटी हॉस्टल में रहने से मिलता है मुफ्त अनाज और हर माह 1000

बिहार लोक संवाद डॉट नेट 
पटना, 6 फरवरी: बिहार के अल्पसंख्यक छात्र-छात्राओं के लिए बिहार सरकार की दो योजनाएं हैं।
एक योजना के तहत अनाज और दूसरी के तहत 1000 मासिक मिलता है।
फिलहाल इस योजना के तहत 14 जिलों के 15 छात्रावासों में अनाज दिया जा रहा है। इन जिलों में पटना, भोजपुर, कैमूर, सारण, पूर्वी चंपारण, मधुबनी, सहरसा, सुपौल, मधेपुरा, कटिहार, गया, जहानाबाद और नवादा जिले शामिल हैं।
इस योजना के अंतर्गत वैसे अल्पसंख्यक छात्रावास जहां अल्पसंख्यक समुदाय के पिछड़ा एवं अति पिछड़ा वर्ग के दो तिहाई छात्र-छात्राएं रह रहे हैं, उन्हें हर माह 9 किलोग्राम चावल और 6 किलोग्राम गेहूं दिया जा रहा है।
मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास खाद्यान्न योजना इसका नाम है। अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास में रह रहे छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा के प्रति जागरूक करने उच्च शिक्षा दर में वृद्धि करने और वित्तीय बोझ कम करने के मकसद से मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास खाद्यान्न योजना की शुरुआत 2018-19 में की गई थी।
ज़रूरी शर्तें:
1. अल्पसंख्यक कल्याण विभाग के अंतर्गत संचालित छात्रावासों में छात्र या छात्रा विधिवत रह रहे हों।
2. छात्र या छात्रा बिहार राज्य के अल्पसंख्यक वर्ग के स्थाई निवासी हों।
3. छात्र या छात्रा मान्यता प्राप्त संस्थान में अध्ययनरत हों।
इसी तरह अल्पसंख्यक कल्याण छात्रावास में रह रहे छात्र-छात्राओं को उच्च शिक्षा के प्रति जागरूक करने उच्च शिक्षा दर में वृद्धि करने और वित्तीय बोझ कम करने के मकसद से मुख्यमंत्री अल्पसंख्यक कल्याण छात्रवास अनुदान योजना चलाई जा रही है।
इस योजना के तहत अल्पसंख्यक छात्रावासों में रह रहे हर छात्र-छात्रा ₹1000 प्रतिमाह की दर से छात्रावास अनुवाद अनुदान दिया जाता है।
इसके लिए भी वही शर्तें हैं जो खाद्यान्न योजना के लिए है।

 1,334 total views

Share Now

Leave a Reply