उड़ाई पतंग, जलाई लालटेन मगर खिला कमल

बिहार लोक संवाद न्यूज नेटवर्क

पटना, 7 नवंबर: बिहार में तीसरे और अंतिम चरण की 78 सीट के साथ ही विधानसभा के सभी 243 निर्वाचन क्षेत्र में चुनाव, छिटपुअ धटनाओं को छोड़कर, शांतिपूर्वक संपन्न हो गया। आखिरी चरण में 15 जिलों में हुए चुनाव में सबसे अधिक करीब 57 प्रतिशत मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया।

मुस्लिम बहुल जिला किशनगंज में सर्वाधिक 59.99 प्रतिशत वोटिंग हुई। सुपौल 57.90 प्रतिशत मतदान के साथ दूसरे जबकि पूर्णिया 55.50 प्रतिशत के साथ तीसरे स्थान पर रहा।

इसके अलावा पश्चिम चंपारण में 52.08 प्रतिशत, पूर्वी चंपारण में 55.31, सीतामढ़ी में 52.27, मधुबनी में 54.84, अररिया में 50.43, कटिहार में 52.22, मधेपुरा में 54.03, सहरसा में 55.73, दरभंगा में 53.44, मुजफ्फरपुर में 54.54, वैशाली में 49.97 और समस्तीपुर में 52.76 प्रतिशत मत पड़े हैं।

इस बीच सुपौल जिले के छतरपुर विधानसभा क्षेत्र के मोहनपुर कटारा स्थित ईदगाह मैदान के पास स्कूल में बनाए गए मतदान केन्द्र से एक वीडयो वायरल हुआ है।

हमारे सिटिजन जर्नलिस्ट नदीम शाह जामई ने बताया कि लोगों बटन तो पतंग छाप, लालटेन छाप वगैरह का दबाया लेकिन पर्ची निकली कमल छाप को। यानी सारी वोट भारतीय जनता पार्टी को चले गए।

नदीम ने बताया कि जिन लोगों ने इस घटना का वीडियो बनाया उनका मोबाइल फोन छील लिया गया।

इससे वोट देने आए लोगों में काफी आक्रोश पैदा हो गया और उन्होंने ईवीएम मशीन बदलने की मांग की।

इस चुनाव में इससे पहले भी अन्य स्थानों से इस तरह की शिकायतें मिल चुकी हैं।

 525 total views

Share Now

Leave a Reply