छपी-अनछपी: दाखिल-खारिज: पहले आओ पहले पाओ, पाकिस्तान में आईएसआई के खिलाफ प्रदर्शन

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। बिहार में ज़मीन खरीदने से मुश्किल काम दाखिल खारिज कराना होता है। सरकार क़ानून बनाती है लेकिन सीओ ऑफिस में घूसखोरी से इसकी धज्जियां उड़ाई जाती हैं। अब बिहार सरकार ने पहले आओ, पहले पाओ का नियम लागू करने की घोषणा की है। भास्कर की पहली खबर यही है जिसे दूसरे अखबारों ने भी महत्वपूर्ण जगह दी है। उधर पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान पर हुए जानलेवा हमले के बाद आईएसआई के खिलाफ जबरदस्त प्रदर्शन हुए हैं। इसकी खबर भी अखबारों में विस्तार से छपी है। ईपीएफओ से पेंशन पर सुप्रीम कोर्ट ने महत्वपूर्ण फैसला सुनाया है। 

जागरण की सबसे बड़ी खबर है: 15 हज़ार मासिक वेतन के आधार पर ही तय होगी ईपीएफ की। भास्कर की सुर्खी है: सैलरी 15 हज़ार हो या 50 हजार, पेंशन गणना की अधिकतम सैलेरी लिमिट 15 हज़ार ही होगी। 

भास्कर की सबसे बड़ी खबर है: अब मनमर्जी से नहीं, पहले आओ पहले पाओ के आधार पर म्यूटेशन। हिन्दुस्तान ने लिखा है: दाखिल-खारिज में अब नहीं चलेगी मनमानी, क्रमवार होगा निपटारा। इसमें बताया गया है कि ऑनलाइन दाखिल-खारिज के मामलों में अंचल कर्मियों की मनमानी पर अंकुश लगाने के लिए जल्द ही फीफो लागू होगा। फीफो (फर्स्ट इन, फर्स्ट आउट) यानी पहले आओ पहले पाओ। यह व्यवस्था लागू करने के बाद म्यूटेशन के जो आवेदन पहले आएंगे उसका निपटारा पहले करना अंचल कर्मियों के लिए अनिवार्य होगा। इससे अंचल अधिकारी, राजस्व कर्मचारी और डाटा इंट्री ऑपरेटरों जैसे अंचलकर्मी म्यूटेशन के मामलों में पिक एंड चूज नहीं कर पाएंगे।

प्रभात खबर की पहली खबर है: फरार आईपीएस आदित्य के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट। हिन्दुस्तान से इसके लिए एसआईटी बनाने की जानकारी दी है। गया के पूर्व एसएसपी आदित्य कुमार के खिलाफ गैर जमानतीय वारंट पटना के आर्थिक अपराध न्यायालय के विशेष कोर्ट ने जारी किया है। आदित्य कुमार की गिरफ्तारी के लिए आर्थिक अपराध इकाई के अफसरों को इस टीम में शामिल किया गया है। फरार आईपीएस की तलाश बिहार के अलावा दूसरे राज्यों में भी की जा रही है। विशेष टीम में तेज-तर्रार अफसरों को रखा गया, ताकि आदित्य कुमार को जल्द पकड़ा जा सके। ईओयू के फरार आईपीएस अधिकारी की तलाश में टेक्निकल इंटेलिजेंस का भी सहारा ले रही है।

हिन्दुस्तान की पहली खबर है: 48 लाख बच्चे योजनाओं के लाभ से हो सकते हैं वंचित। राज्य के सरकारी व सरकार संपोषित स्कूलों की पहली से 12वीं कक्षा के 48 लाख बच्चे सरकार की कल्याणकारी योजनाओं से वंचित हो सकते हैं। ये वैसे बच्चे हैं, जो स्कूलों में नामांकित तो हैं लेकिन मेधा सॉफ्ट पोर्टल पर इनकी डाटा इंट्री विद्यालयों ने नहीं की है। इसको लेकर शिक्षा विभाग ने सभी जिलों के शिक्षा पदाधिकारियों को सख्त आदेश दिया है कि चार दिनों के अंदर इन बच्चों की मेधा सॉफ्ट पोर्टल पर डाटा इंट्री कर रिपोर्ट भेजें।

जागरण की दूसरी सबसे बड़ी खबर है: पटना समेत देश भर में 70 ठिकानों पर आयकर छापा। इनकम टैक्स का छापा झारखंड के कांग्रेस विधायक अनूप सिंह के खिलाफ भी पड़ा है जिन्होंने झारखंड सरकार को गिराने के लिए विधायकों की खरीद-फरोख्त की शिकायत की थी। हिन्दुस्तान की सुर्खी है: झारखंड: विधायक अनूप सिंह के पटना-गया आवास पर छापे। प्रभात खबर ने लिखा है: झारखंड के नेताओं, अफसरों व बिल्डरों के 67 ठिकानों पर छापा। 

हिन्दुस्तान ने पहले पेज पर जानकारी दी है: बिहार में 6 हजार शारीरिक शिक्षकों की होगी बहाली। बिहार के 8386 मध्य विद्यालयों में से तकरीबन 6000 में रिक्त एक-एक शारीरिक शिक्षा सह स्वास्थ्य अनुदेशक के पदों पर बहाली होगी। इसके लिए शिक्षा विभाग का प्राथमिक शिक्षा निदेशालय नये सिरे से जल्द आवेदन मांगेगा। प्राथमिक शिक्षा निदेशक रवि प्रकाश ने सभी जिला शिक्षा पदाधिकारियों से 7 नवम्बर तक रिक्त पदों की रिपोर्ट मांगी है।

ट्विटर द्वारा भारत समेत कई देशों में छंटनी शुरू करने की खबर भी प्रमुखता से छपी है। एलन मस्क ने ट्विटर को खरीदने के बाद कई मौकों पर सार्वजनिक रूप से कहा था कि वह कर्मचारियों को नौकरी से नहीं निकालेंगे लेकिन कंपनी के एक आंतरिक मेल ने साफ कर दिया है कि ट्विटर में भारत समेत कई देशों में छंटनी शुरू हो गई है। इस छंटनी से पहले भारत में 200 कर्मचारी ट्विटर में कार्यरत थे।  

जागरण में पहले पेज पर खबर है: वाई श्रेणी सुरक्षा प्राप्त हिंदू नेता सुधीर सूरी की हत्या। पंजाब के अमृतसर में शुक्रवार को अज्ञात हमलावरों ने शिवसेना नेता सुधीर सूरी की गोली मारकर हत्या कर दी। सूरी को पुलिस सुरक्षा मिली हुई थी, इसके बावजूद उन्हें सबसे व्यस्त इलाकों में से एक मजीठा रोड पर गोपाल मंदिर के बाहर पांच गोलियां मारी गईं। उस दौरान सूरी और पार्टी के कुछ अन्य नेता वहां धरने पर बैठे हुए थे।

इमरान खान पर हुए हमले के बाद पूरे देश में जमकर बवाल-तोड़फोड़ और आगजनी की खबर हिन्दुस्तान के देश विदेश पेज की पहली खबर है। इसमें बताया गया है कि पाकिस्तान में पहली बार आईएसआई के खिलाफ प्रदर्शन हुए हैं।

भास्कर की एक दूसरी सबसे बड़ी खबर है: दिल्ली में हेल्थ इमरजेंसी, प्रदूषण गंभीर, पांचवीं तक के स्कूल बंद, पटना की हवा भी खराब।

हिन्दुस्तान में एक छोटी सी खबर है: गया: मांझी ने दिया विवादित बयान। शुक्रवार को बोधगया में एक चर्चा के दौरान पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने कहा कि जिन ब्राह्मणों को पूजा-पाठ भी नहीं करना आता है, वह भी लोगों को ठगने से नहीं चूकते हैं। पंडित ठीक से पूजा भी नहीं करता है। भोजन भी नहीं करता है। जो पूजा पाठ करता है, वह शराब भी पीता है और मांस भी खाता है। उन्होंने कहा कि इस तरह के पंडितों का हम विरोध करते हैं।

अनछपी: बिहार पुलिस आजकल अपने ही पूर्व अफसर आईपीएस अधिकारी आदित्य कुमार को लेकर फजीहत झेल रही है। आदित्य को पकड़ने के लिए वारंट के साथ एसआईटी यानी स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम का गठन कर दिया गया है। सोचने की बात यह है कि एक आईपीएस अधिकारी जो देश की सेवा और संविधान की रक्षा की शपथ लेकर नौकरी में आता है वह भागा भागा क्यों फिर रहा है। आम नागरिकों से तो यह कहा जाता है कि उन्हें अदालत पर भरोसा होना चाहिए और अगर वे निर्दोष हुए तो बरी हो जाएंगे। क्या इस आईपीएस अधिकारी को अदालत पर भरोसा करते हुए खुद को पुलिस के हवाले नहीं कर देना चाहिए? बिहार पुलिस के लिए यह बात वाकई चुनौती की है कि उनके डीजीपी तक को धोखा देने वाले इस पुलिस अधिकारी की गिरफ्तारी क्यों नहीं हो पा रही है। देखना यह है कि एक तरफ उस आईपीएस अधिकारी का शातिर दिमाग कैसे काम करता है या बिहार पुलिस की एसआईटी की कोशिशें कामयाब होती हैं। 

 

 

 

 396 total views

Share Now

Leave a Reply