छपी-अनछपीः शहरी निकाय चुनाव में आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट जाएगी सरकार, चीन के खिलाफ वोट से दूर रहा भारत

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट, पटना। बिहार में शहरी निकाय चुनाव आरक्षण पर घमासान मचा हुआ है। हाईकोर्ट से आरक्षण पर विपरीत फैसला आने के बाद राज्य सरकार ने सुप्रीम कोर्ट जाने का फैसला किया है हालांकि हाईकोर्ट में सुप्रीम कोर्ट के नियमन का ही हवाला दिया गया है। बिहार में डेंगू थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब इस पर अलर्ट घोषित किया गया है। मुकेश अंबानी को धमकी देने के मामले में दरभंगा से राकेश कुमार मिश्रा नाम के आरोपित को गिरफ्तार किया गया है। ये तीन खबरें हिन्दी अखबारों में प्रमुखता से छपी है। उधर, थाईलैंड की राजधानी बैंगकाक से खबर है कि एक पूर्व पुलिस अधिकारी ने डे कयेर सेंटर पर गोलीबारी कर दी जिसमें 38 की मौत हो गयी। मरने वालों में 24 बच्चे थे। यह खबर टाइम्स आॅफ इंडिया की पहली खबर है।
हिन्दुस्तान में सबसे बड़ी खबर की सुर्खी हैः अति पिछड़ों के आरक्षण पर सुप्रीम कोर्ट जाएगी सरकार। नगर निकाय चुनाव से संबंधित इस खबर में बताया गया है कि राज्य निर्वाचन आयोग नये सिरे से चुनाव की तैयारी में जुट गया है। आरक्षण पर पटना हाईकोर्ट के फैसले के बाद राज्य निर्वाचन आयोग ने चुनाव स्थगित कर दिया था।
प्रभात खबर की लीड हैः नगरपालिका चुनाव रोक पर हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट जाएगी सरकार। भास्कर ने पुरानी खबर दी हैः हाईकोर्ट बोला- सुप्रीम निर्देश माने बिना ईबीसी को आरक्षण कैसे दिया- निकाय चुनाव पर रोक। जागरण ने लिखा हैः हाईकोर्ट से लगी निकाय चुनाव पर रोक, सुप्रीम कोर्ट जाएगी सरकार।
हिन्दुस्तान ने पहले पेज पर खबर दी हैः अंबानी के अस्पताल को उड़ाने की धमकी देने वाला दरभंगा से धराया। मनीगाछी पुलिस ने राकेश कुमाार मिश्रा नाम के इस आरोपित को गिरफ्तार कर मुंबई पुलिस को सौंप दिया। राकेश मानसिक बीमार बताया गया है। यह खबर अन्य अखबारों में भी प्रमुखता से छपी है।
इस साल साहित्य का नोबेल पुरस्कार फ्रांस की ऐनी एरनाॅक्स को दिया गया है। हिन्दुस्तान के अनुसार नोबेल समिति ने कहा है, “ऐनी सामाजिक विषमताओं और असमानताओं पर लिखती हैं। वह समाज का सच लिखती हैं। वह बहुत आसान भाषा में गंभीर मुद्दों पर बात करती हैं।”
प्रभात खबर में पहले पेज पर डाॅक्टरों की सांकेतिक हड़ताल की खबर हैः बायामीटरिक हाजिरी बनाने के विरोध में डाॅक्टरों ने किया कार्य बहिष्कार।
भास्कर ने पीएफआई के बारे में एक खबर को प्रमुख स्थान दिया है जिसकी सुर्खी हैः पीएफआई की कुंडलीः चार चरण में भर्ती, सदस्यों को वेतन-भत्ते भी।
पश्चिमी चंपारण में सो रही बच्ची को बाघ ने मार डाला, यह खबर भी सभी अखबारों में है। यह बाघ वाल्मीकिनगर टाइगर रिजर्व से गांव मंे घुस आया था और मच्छरदानी लगाकर सोयी हुई बच्ची को उठाकर ले गया। गांव वाले जुटे तो बाघ भागा लेकिन तब तक बच्ची की जान निकल चुकी थी।
जागरण में पहले पेज पर एक महत्वपूर्ण खबर हैः चीन के खिलाफ प्रस्ताव से दूर रहा भारत। इसमें बताया गया है कि यूएनओ में मुसलमानों के उत्पीड़न पर चीन को घेरने की कोशिश को झटका लगा है। चीन के साथ पाकिस्तान और अन्य मुस्लिम देश भी खड़े नजर आये।
अनछपीः दुनिया में राष्ट्रवाद और राष्ट्रहित के नाम पर क्या होता है, इसका अंदाजा उइगर मुसलमानों के उत्पीड़न के मामले में चीन के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र के प्रस्ताव के हश्र से लगाया जा सकता है। यह बात भी अपनी जगह सही है कि इस प्रस्ताव से अमेरिका और पश्चिमी देशों का मकसद उइगर मुसलमानों की मदद करना कम और चीन को घेरना अधिक था। भारत ने चीन के खिलाफ वोट न देकर उसका साथ ही दिया है। इसके लिए जागरण ने दो कारण बताये हैं। एक तो यह कि संयुक्त राष्ट्र संघ मानवाधिकार आयोग जैसे संस्थानों में किसी देश के खिलाफ प्रस्ताव के भारत खिलाफ रहा है। दूसरी बात यह है कि भविष्य में कश्मीर को लेकर कोई अन्य देश भारत के खिलाफ प्रस्ताव ला सकता है। जाहिर है कि उस समय चीन भारत से वही सलूक करेगा जो भारत का रवैया रहता है। पाकिस्तान और दूसरे मुस्लिम देश भी चीन के साथ खड़े रहे। उन्हें अपने राष्ट्रहित देखने हैं। एक बार फिर यही बात साबित हो रही है कि जो लोग सरकार से सताये हुए हैं, उनके लिए इस दुनिया में इंसाफ नहीं है।

 536 total views

Share Now

Leave a Reply