बिहार में 12359 नये कोरोना संक्रमित, 77 मरे, नियुक्त होंगे डाॅक्टर, 6,222 करोड़ का होगा आर्थिक नुकसान

सैयद जावेद हसन, बिहार लोक संवाद डाॅट नेट पटना
बिहार में कोरोना का तेजी से संक्रमण जारी है। प्रदेश में पिछले चैबीस घंटे के दौरान नए संक्रमितों की संख्या 12359 तक पहुंच गई। पटना में कुल 2479 लोग संक्रमित हुए जबकि 77 लोगों की मौत हो गई।  इनमें सबसे अधिक 21 लोगों की मौत नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल (एनएमसीएच) में हुई है । वहीं, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) पटना में 9 लोग और पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में चार लोग की मौत हुई है ।

मृतकों में सीवान जिले के हुसैनगंज प्रखंड की बीडीओ मनीषा प्रसाद (फीचर फोटो में दिखाई दे रही महिला) शामिल हैं। उनका पटना में इलाज चल रहा था।

इसके अलावा वर्तमान में पटना दानापुर में पदस्थापित अंचलाधिकारी विद्यानंद राय का अभी अभी कोरोना से देहांत हो गया है।  पूर्व में नवगछिया में पदस्थापित थे, हाल के दिनों में उनका तबादला पटना – दानापुर हुआ था। दानापुर के हाइटेक अस्पताल में उनका उपचार चल रहा था।

प्रदेश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 81, 960 हो गई है।

चिकित्सकों एवं पैरा मेडिकल स्टाफ के रिक्त पदों के लिए नियमित नियुक्ति

इस बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने चिकित्सकों एवं पैरा मेडिकल स्टाफ के रिक्त पदों के लिए नियमित नियुक्ति की प्रक्रिया को तेजी से पूर्ण करने का निर्देश दिया है ।

नीतीश कुमार ने शनिवार को उच्च स्तरीय बैठक में अधिकारियों को निर्देश दिया कि चिकित्सकों एवं पारा मेडिकल स्टाफ के रिक्त पदों को भरने की प्रक्रिया शीघ्र पूर्ण की जाए । उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि वॉक इन इंटरव्यू प्रक्रिया के जरिए हर जिले में आवश्यकतानुसार चिकित्सकों एवं पैरामेडिकल स्टाफ के रिक्त पदों पर अस्थाई नियुक्ति भी की जाए।

स्वास्थ्य कर्मियों को सम्मान देने की अपील

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कोरोना से उत्पन्न विकट समय में लोगों से धैर्य बनाए रखने और डॉक्टरों एवं स्वास्थ्य कर्मियों को सम्मान देने की अपील की है ।

नीतीश कुमार ने ट्वीट कर कहा,” कोरोना से उत्पन्न विकट समय में स्वास्थ्यकर्मी जिस प्रतिबद्धता के साथ सेवा देकर लोगों की जान बचा रहे हैं, उसके लिए वे अभिवादन के पात्र हैं । यह जरूरी है कि हम सब विपरीत परिस्थितियों में धैर्य बनाए रखें और डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मियों को वह सम्मान प्रदान करें, जिसके वे हकदार हैं ।”

एक अन्य ट्वीट में नीतीश  ने कहा,” कोरोना के कारण हम लोग मानवता पर आए अब तक के सबसे गंभीर संकट का सामना कर रहे हैं । इससे उबरने के लिए सरकार पूरी प्रतिबद्धता के साथ जरूरी उपाय कर रही है । इस जंग में आप सभी का सहयोग जरूरी है । कृपया जागरूक और सतर्क रहें, सकारात्मक सोच रखें, डॉक्टरों की सलाह और गाइडलाइंस का पालन करें ।

बिहार को  6 हजार 222 करोड़ की होगी क्षति 

पूर्व उपमुख्यमंत्री व सांसद सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि कोविड की दूसरी लहर के मुकाबले के लिए केंद्र व राज्य सरकारों को भारी वित्तीय बोझ उठाना होगा। एसबीआई के मुख्य आर्थिक सलाहकार सौम्य कांति घोष के आंकलन के अनुसार कर्फ्यू, आंशिक लॉक डाउन व आवाजाही पर रोक से जहां राज्यों को 1 लाख 50 हजार करोड़ का आर्थिक नुकसान उठाना पड़ेगा वहीं बिहार को करीब 6 हजार 222 करोड़ की क्षति होगी।

बिहार के 18 से 44 वर्ष के 5 करोड़ 47 लाख नागरिकों के दो डोज मुफ्त टीकाकरण यानी 11 करोड़ टीके पर परिवहन व अन्य रखरखाव आदि के खर्चे मिलाकर अनुमानतः 4,500 करोड़ रुपये व्यय होंगे, क्योंकि टीका निर्माता कम्पनियों ने एक डोज की कीमत 400 रुपये निर्धारित की है।

मास्क जांच अभियान

राज्य में कोरोना के बढ़ते संक्रमण से बचाव के लिए शनिवार को सभी जिलों में सार्वजनिक परिवहन के वाहनों (आॅटो, टैक्सी, बस) में सख्ती पूर्वक मास्क जांच अभियान चलाया गया। इस दौरान बिना मास्क लगाए सफर करने वाले यात्रियों को मास्क लगवाना सुनिश्चित किया गया एवं बिना मास्क लगाए व सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं करने वाले वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई।

अभियान के दौरान मास्क एवं सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के उल्लंघन में कुल लगभग 197 वाहन चालकों पर कार्रवाई की गई। एवं 37 वाहनों को जब्त किया गया।

वाहन चालकों को निर्देश दिया गया कि खुद के साथ सभी यात्रियों को मास्क लगावाना सुनिश्चित करें। इसके साथ ही क्षमता से आधे सीट पर ही यात्रियों को लेकर चलने का निर्देश दिया गया।

परिवहन सचिव श्री संजय कुमार अग्रवाल ने बताया कि कोरोना का संक्रमण बढ़ता जा रहा है, इसलिए जरूरी है कि सुरक्षा नियमों का शतप्रतिशत पालन करें।

राज्य सरकार द्वारा सार्वजनिक परिवहन के वाहनों में सफर के दौरान सभी लोगों को मास्क लगाना किया गया है अनिवार्य। इसके साथ ही सार्वजनिक यात्री वाहनों में 50 प्रतिशत से अधिक यात्रियों के परिवहन पर रोक लगाई गई है।

कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए बसों एवं अन्य वाहनों के परिचालन हेतु परिवहन सचिव द्वारा सभी जिला अधिकारी, वरीय पुलिस अधीक्षक/ पुलिस अधीक्षक को निम्नलिखित व्यवस्था सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया गया है :-

1. वाहन को प्रतिदिन धुलवाना तथा साफ सुथरा रखने एवं समय-समय पर सैनिटाइजेशन कराना सुनिश्चित करवाएंगे।

2. ड्राइवर एवं कंडक्टर को साफ कपड़े एवं मास्क, ग्लब्स पहनने का निर्देश देंगे।

3. वाहनों के अंदर एवं बाहर कोविड-19 के संक्रमण से बचाव के उपायों संबंधी पोस्टर स्टीकर लगवाएंगें ।

4. वाहनों के अंदर चढ़ने उतरने के समय सोशल डिस्टेंसिंग का पालन पालन सुनिश्चित कराया जाएगा।

5. प्रत्येक यात्री के लिए यात्रा के दौरान मास्क पहनना अनिवार्य होगा।

सार्वजनिक परिवहन के वाहनों से यात्रा के दौरान सोशल डिस्टेसिंग का पालन सुनिश्चित कराने के लिए जिलों में संबंधित पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया है।

सभी जिलों में डीटीओ, एमवीआई और ईएसआई द्वारा यह विशेष अभियान चलाया गया।

परिवहन सचिव ने बताया कि कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है यह चिंता का विषय है। जरुरी है कि सभी लोग कोविड-19 के प्रावधानों का पालन करें। राज्य सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों का पालन करें।

परिवहन सचिव श्री संजय कुमार अग्रवाल ने कहा है कि भीड़-भाड़ से बचें एवं बहुत जरूरी हो तभी घर से बाहर निकलें। सफर के दौरान मास्क लगा खुद के साथ दूसरों को भी सुरक्षित रख सकते हैं। सावधानी ही कोरोना से बचाव है।

Featured image: Manisha Prasad

 

 

 

 

 356 total views

Share Now

Leave a Reply