आरएसएस की गोद में पली-बढ़ी हैं बिहार की प्रथम महिला उप-मुख्यमंत्री रेणु देवी

बिहार लोक संवाद ब्यूरो
पटना, 18 नवंबर: रेणु देवी बिहार की पहली महिला उप-मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने 17 नवंबर से पंचायती राज, पिछड़ा वर्ग एवं अतिपिछड़ा वर्ग कल्याण और उद्योग विभाग की जिम्मेवारी भी संभाल ली है।

61 वर्षीय रेणु देवी पांच बार से बेत्तिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक के रूप में चुनी जाती रही हैं। वे आरएसएस की गोद में पली हैं और उससे गहराई से प्रभावित रही हैं। उनकी माँ के परिवार का आरएसएस से सक्रिय रूप से जुड़ाव था।

रेणु देवी अपने जीवन, संघर्ष और विभागीय जिम्मेदारी के बारे में बताती हैं-
‘हमने बचपन से ही संघ परिवार की संस्कृति, परंपरा और अनुशासन को अपनाया। 1935 से 1972 तक, आरएसएस का कार्यालय मुजफ्फरपुर स्थित मेरे ननिहाल में था। मेरी मां संघ परिवार से जुड़ी थीं। इस प्रकार, आरएसएस का मेरे जीवन पर बहुत गहरा प्रभाव है। 1988 में, मैं भाजपा की दुर्गा वाहिनी की जिला (पश्चिम चंपारण) समन्वयक बनी।’

‘1973 में मेरी शादी हुई। शादी के छह साल बाद, मेरे पति दुर्गा प्रसाद का निधन हो गया। मैं तब दो बच्चों की माँ थी। हालात ने मुझे 1979 में एक निजी बीमा कंपनी में नौकरी करने के लिए मजबूर कर दिया। मैंने 1993 तक कंपनी के लिए काम किया। मुझे अपने परिवार और माता-पिता, आरएसएस के मूल्यों का पूरा समर्थन मिला।’

‘हम सबका साथ, सबका विकास के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमारी पार्टी ने पहले ही हमारे काम के लिए एक रोड मैप तैयार कर लिया है। इसके अलावा, हम यह देखेंगे कि बिहार एक विकसित राज्य बने। ग्रामीण विकास के अलावा, जीवन के सभी क्षेत्रों में महिलाओं की भागीदारी निश्चित रूप से मेरे लिए सबसे महत्वपूर्ण है।’

(हिन्दुस्तान टाइम्स को दिए गए साक्षात्कार के आधार पर)

 1,054 total views

Share Now

Leave a Reply