छपी-अनछपी: नीतीश को फिर याद आई विपक्षी एकता, पहलवान बोलीं- न्याय नहीं तो बेटियां पैदा ही न हों

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने एक बार फिर विपक्षी एकता की बात दोहराई है जिसे सभी अखबारों ने प्रमुखता दी है। भाजपा सांसद और कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण के खिलाफ महिला पहलवानों के आंदोलन को आज अखबारों ने बेहतर जगह दी है। पीएम मोदी पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री में गुजरात दंगों को लेकर गंभीर आरोप का विदेश मंत्रालय ने खंडन किया है जो सभी जगह है। इधर, वैशाली में महिलाओं के डांस से इनकार करने पर बदमाशों ने एक बच्ची को आग लगा दी जो गंभीर स्थिति में अस्पताल में है। यह खबर भी प्रमुखता से है।

हिन्दुस्तान की सबसे बड़ी सुर्खी है: हम चाहते हैं कि देश हित मे विपक्ष एकजुट हो: नीतीश। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने वर्ष 2024 लोकसभा चुनाव में विपक्षी एकता को लेकर देशभर के उनके दौरे की चर्चा के सवाल पर कहा कि कोई बुलायेगा तो हम वहां जायेंगे। मेरी अपनी कोई ख्वाहिश नहीं है। हम एक ही चीज चाहते हैं कि ज्यादा से ज्यादा विपक्ष के लोग एकजुट हों और आगे बढ़ें। यही देश के हित में है। मुख्यमंत्री गुरुवार को फ्रेजर रोड में महाराणा प्रताप की प्रतिमा अनावरण करने के बाद पत्रकारों से बात कर रहे थे। वहीं, पटना पहुंचे माकपा पोलित ब्यूरो के सदस्य ए विजय राघवन ने भी कहा है कि मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष को एकजुट करने में हमलोग लगे हुए हैं।

“सिर्फ पुरुष के काम से नहीं समाज बढ़ेगा”

जागरण की लीड नीतीश कुमार का बयान है: महिलाएं काम करेंगी तो समाज बढ़ेगा। समाधान यात्रा पर गुरुवार को भोजपुर पहुंचे मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि परिवार में केवल पुरुष काम करेगा तो समाज कभी आगे नहीं बढ़ेगा। महिलाएं काम करेंगी और आगे बढ़ेगी तभी समाज बढ़ेगा। सामान्य व गरीब परिवार की महिलाओं को जीविका से काम मिल रहा है इससे बड़ा बदलाव आ रहा है। वह आरा के नागरी प्रचारिणी में जीविका कार्यकर्ताओं से संवाद कार्यक्रम में बोल रहे थे।

महिला पहलवानों के यौन शोषण का मामला

भास्कर की पहली ख़बर है: पहलवान बोलीं: अगर न्याय नहीं तो बेटियां पैदा ही न हों। कुश्ती संघ के अध्यक्ष भाजपा सांसद बृजभूषण शरण सिंह पर महिला पहलवानों के यौन शोषण का आरोप लगाने वाली विनेश फोगाट ने कहा कि हमें न्याय नहीं मिला तो कोई भी बेटी सुरक्षित नहीं है। देश में बेटियां पैदा ही नहीं होनी चाहिए। पहलवान बजरंग पुनिया ने कहा कि कुछ महिला पहलवानों के पास यौन शोषण के सबूत हैं। हम संघ के अध्यक्ष पर केस दर्ज कराकर जेल भेजेंगे। पहलवानों का जन्तर मन्तर पर धरना गुरुवार को भी जारी रहा। सरकार के साथ वार्ता बेनतीजा रही। देर रात पहलवानों ने खेल मंत्री अनुराग ठाकुर के घर पहुँचकर उनके साथ बैठक की। सूत्रों के अनुसार खेल मंत्रालय ने कुश्ती संघ के अध्यक्ष सिंह को नोटिस भेजकर इस्तीफा देने को कहा है। उधर भारतीय ओलिंपिक असोसिएशन के अध्यक्ष पी टी उषा ने महिला पहलवानों से आगे आकर अपनी बात कहने को कहा है।

बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री में मोदी पर आरोप

जागरण की एक प्रमुख सुर्खी है: गुजरात दंगों पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री भारत विरोधी प्रचार का हिस्सा: बागची। अखबार के अनुसार गुजरात दंगों पर बीबीसी की डॉक्यूमेंट्री ‘इंडिया: द मोदी क्वेश्चन’ को भारत में औपनिवेशिक मानसिकता से प्रेरित और गुमराह करने वाला बताया है। साथ ही कहा है कि यह भारत विरोधी प्रचार का हिस्सा है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची ने इस डॉक्यूमेंट्री के जरिए पीएम मोदी की छवि को नुकसान पहुंचाने की कोशिशें को प्रोपेगेंडा करार दिया है। बीबीसी की सीरीज में मोदी सरकार के अल्पसंख्यकों के प्रति रवैया, विवादित नीतियों, कश्मीर के विशेष दर्जे को खत्म करने के फैसले और नागरिकता कानून को लेकर भी सवाल उठाए गए हैं। उधर लंदन में डॉक्यूमेंट्री को लेकर ब्रिटेन के संसद में पाकिस्तानी मूल के सांसद इमरान हुसैन ने सवाल किया तो ब्रिटिश पीएम ऋषि सुनक ने कहा निश्चित रूप से हम उत्पीड़न बर्दाश्त नहीं करते हैं, चाहे यह कहीं भी हो लेकिन मैं उस चरित्र चित्रण से सहमत नहीं हूं जो माननीय नेता (पीएम मोदी) का दिखाया गया है।

न्यूज़ीलैंड की पीएम की मिसाल

भास्कर की एक सुर्खी है: फैमिली फर्स्ट, प्रसिद्धि पीक पर, प्रतिद्वंद्वी नहीं, फिर भी न्यूजीलैंड की पीएम जेसिंडा पद छोड़ेंगी। न्यूज़ीलैंड की 42 साल की पीएम जेसिंडा अर्डर्न ने दुनिया को चौंकाते हुए गुरुवार को इस्तीफ़े का ऐलान कर दिया। कहा, अपने परिवार के साथ समय बिताने के लिए पद छोड़ रही हूँ। पार्टी की इस साल की पहली बैठक में इस्तीफ़े की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा, मेरे पास न्यूज़ीलैंड के विकास में योगदान देने के लिए और कुछ नहीं बचा। अब पद पर रहीं तो देश का नुकसान होगा। मैं जो कर सकती थी किया। उप प्रधान मंत्री ग्रांट रॉबर्टसन ने कहा कि वह अपना नाम आगे नहीं रखेंगे। अर्डर्न ने नेपियर में पत्रकारों से कहा कि सात फरवरी बतौर प्रधानमंत्री उनका आखिरी दिन होगा। उन्होंने कहा कि मेरे कार्यकाल का छठा वर्ष शुरू होने जा रहा है और बीते हर साल मैंने अपना सर्वश्रेष्ठ दिया है। उन्होंने घोषणा की कि न्यूजीलैंड का अगला आम चुनाव 14 अक्तूबर को होगा और वह तब तक सांसद के रूप में काम करती रहेंगी।

वैशाली में अमानवीय कृत्य

भास्कर के बिहार पेज पर सबसे पहले खबर है: महिलाओं ने बारात में अश्लील गाने पर नाचने से रोका तो नाराज लफंगों ने 10 साल की बच्ची को घर से उठाया, फिर पेट्रोल छिड़ककर जला दिया। हिन्दुस्तान में भी यह प्रमुख स्थान पर है: वैशाली: डांस से रोका तो छात्रा को जिंदा जलाया, गंभीर। ज़िले के राजापाकर के बहुआरा गांव में बुधवार की रात एक शादी समारोह में डांस करने से रोकने पर दो मनचलों ने गुरुवार सुबह नाबालिग छात्रा सृष्टि कुमारी पर पेट्रोल छिड़ककर जिंदा जलाने की कोशिश की। गंभीर रूप से झुलसी छात्रा को आनन-फानन में सदर अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में भर्ती कराया गया है। फिलहाल वह खतरे से बाहर है।

कुछ अन्य सुर्खियां

  • पटना से दिल्ली की 2 उड़ानें (स्पाइसजेट, विस्तारा) 26 जनवरी तक रद्द रहेंगी
  • बीपीएससी: 46124 से अधिक नियुक्तियां होंगी
  • रिचार्ज के 2 मिनट में बहाल होगी बिजली
  • जदयू नेता गुलाम सरवर के बिगड़े बोल, कहा- हम शहरों को भी कर्बला बना देंगे
  • 23 से बढ़ेगा पारा, ठंड से राहत मिलने के आसार, रहेगा कोहरा
  • आचार्य ने 1810 में प्रकाशित मानस की मूल प्रति के हवाले से कहा, चौपाई में शब्द शूद्र नहीं ‘क्षुद्र’ है और नार का मतलब- जल, इसलिए नारी का अर्थ समुद्र है।
  • दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति से छेड़छाड़, कार से 15 मीटर तक घसीटा

अनछपी: समाज में महिला-पुरुष के खुलेआम मेलजोल बढ़ने के साथ ही महिलाओं पर अत्याचार की घटनाएं भी बढ़ी हैं। महिला कुश्ती के लिए पुरुष का महासंघ अध्यक्ष होना किस तरह मुसीबत ला सकता है इसका उदाहरण भाजपा सांसद बृजभूषण सिंह का मामला है। भाजपा के प्रति नरम रवैया रखने वाली पहलवानों ने ही भाजपा सांसद पर यौन शोषण के आरोप लगाए हैं लेकिन अब तक उन पर कोई बड़ी कार्रवाई नहीं हुई है। ‘बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ’ का नारा कितना खोखला है इससे यह बात स्पष्ट होती है। भाजपा सांसद ने जो हरकते की है उसका हिसाब तो शायद अदालत में हो जाए लेकिन अब तक राजनीतिक स्तर पर कोई कार्रवाई नहीं होना समाज की एक गंभीर बीमारी का संकेत है। इधर वैशाली में डांस से इनकार करने पर जिस तरह एक किशोरी से बदला लेने के लिए उस पर पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी गई वह भी बेहद गंभीर बात है। शादी में महिलाओं के डांस की परंपरा भारतीय परंपरा नहीं रही है लेकिन फिल्मों से यह हमारे समाज में आई है लेकिन इसका यह मतलब नहीं कि मनचले जो चाहे करें। ज़रूरत इस बात की है कि समाज में बेटियों-महिलाओं की सुरक्षा पर गंभीरता से विचार किया जाए।

 820 total views

Share Now

Leave a Reply