छपी-अनछपी: कोरोना के नए ख़तरे की चर्चा, राहुल को भारत जोड़ो यात्रा रोकने की सलाह

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। चीन में मिले कोरोना के नए वैरिएंट के भारत पहुंचने और राहुल गांधी को भारत जोड़ो यात्रा रोकने की सलाह की खबर आज के अखबारों में प्रमुखता से छपी है। सारण शराब कांड की जांच के लिए पहुंची राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के बारे में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी सवाल किया है जिससे सभी अखबारों ने प्रमुख जगह दी है।

हिन्दुस्तान की पहली सुर्खी है: चीन का घातक वेरिएंट भारत पहुंचा। जागरण की दूसरी सबसे अहम खबर यही है: देश से अभी कोरोना गया नहीं, मगर डरने की ज़रूरत नहीं: मांडविया। भास्कर की पहली खबर भी यही है चीन में हालात बिगड़ेंगे, भारत में खतरा नहीं; क्योंकि यहां पर 95% आबादी इम्यून। अखबारों के अनुसार चीन में लगातार बढ़ते मामलों के लिए जिम्मेदार ओमीक्रोन के सब-वेरिएंट बीएफ.7 के चार मामले भारत में भी सामने आए हैं। वहीं, इसके मद्देनजर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने बुधवार को देश में कोरोना की स्थिति की समीक्षा की। अधिकारियों को सजग रहने और निगरानी तंत्र मजबूत करने को कहा है। बीते छह माह में गुजरात के अहमदाबाद और वडोदरा में इस वेरिएंट के तीन मामले सामने आए हैं। वडोदरा में संक्रमित होने वाली महिला अमेरिका से लौटने के बाद संक्रमित हुई थी। एक अन्य केस ओडिशा का है। इन चार में से तीन मरीज स्वस्थ हो चुके हैं जबकि एक के बारे में स्पष्ट नहीं है। ऐसा माना जा रहा है कि भारत में अधिकतर आबादी 2020-21 में संक्रमित हो चुकी है और नए वेरिएंट से संक्रमित व्यक्तियों पर कम असर हो रहा है इसलिए यहां खतरा कम है।

मानवाधिकार टीम दूसरे राज्यों में क्यों नहीं गई?
जागरण की सबसे बड़ी सुर्खी है: मानवाधिकार टीम दूसरे राज्यों में शराब से मरने वालों को देखने क्यों नहीं गई। भास्कर की दूसरी सबसे बड़ी खबर यही है: नीतीश बोले- शराब से दूसरे राज्यों में भी मौत, NHRC यहीं क्यों? मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने पूछा कि राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग की टीम यहां पर आई है तो दूसरे राज्यों में जो लोग मरे हैं उनको देखने गई है क्या? क्या यहीं केवल घटना घटी है? यहां तो बहुत कम घटना हुई है। पीड़ितों को मुआवजा देने के सवाल पर कहा कि जिसके द्वारा निर्मित शराब पीकर लोग मरेंगे उसी से वसूली करके देने का प्रोविजन है।

अपराधियों को दौड़ाओ: भट्टी
बिहार के नए डीजीपी आरएस भट्टी की मातहत पुलिस अधिकारियों से बात पर जागरण और भास्कर की एक मिलती जुलती सुर्खी है: अपराधियों को दौड़ाओ तो कम होगा अपराध, नहीं तो वह आपको दौड़ाएंगे। नए डीजीपी ने एडीजी आईजी डीआईजी एसपी से लेकर थानेदारों के साथ किए गए अपने संवाद में यह बात कही है। उन्होंने अपराधियों का प्रोफाइल बनाने का भी टास्क दिया है। हिन्दुस्तान ने लिखा है: सर्वाधिक अपराध वाले स्थानों में हर सप्ताह जाएंगे एसपी। उन्होंने बिना कारण लाठीचार्ज और गलत व्यवहार बर्दाश्त नहीं करने की बात कही। उन्होंने यह भी कहा कि जिस थाने में अधिक अपराध होगा वहां वे खुद जाएंगे। एक और सुर्खी है: काम न करने वाले स्वीकार नहीं, जनता व सरकार रिजल्ट चाहती है: डीजीपी।

देउबा दूसरी बार बनेंगे नेपाल के पीएम
हिन्दुस्तान में पहले पेज पर यह सूचना दी है: शेर बहादुर देउबा दूसरी बार नेपाल के पीएम बनेंगे। काठमांडू से जारी इस खबर में कहा गया है कि शेर बहादुर देउबा दूसरी बार नेपाल के प्रधानमंत्री बनेंगे। नेपाली कांग्रेस ने बुधवार को संसदीय दल के नेता के पद पर हुए चुनाव में उनके नाम पर मुहर लगा दी। देउबा ने प्रतिद्वंदी गगन थापा को 39 वोटों से हराया। मतदान में नेपाली कांग्रेस के सभी 89 सांसदों ने हिस्सा लिया। देउबा को जहां 64 वोट मिले, वहीं उनके प्रतिद्वंद्वी थापा को 25 मत हासिल हुए। देउबा की पार्टी नेपाली कांग्रेस, नेपाल की एकमात्र पार्टी है, जो संसदीय दल के नेता का चुनाव कराती है। हाल में संपन्न आम चुनाव में नेपाली कांग्रेस देश की सबसे बड़ी पार्टी बनकर उभरी है।

ड्रग्स के खिलाफ लड़ाई
जागरण ने यह खबर प्रमुखता से छापी है: राज्यों के सहयोग से जीती जाएगी ड्रग्स के खिलाफ लड़ाई, जिला स्तर पर बनेगा ढांचा। यह बयान केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का है जो उन्होंने लोकसभा में देश में ड्रग्स की समस्या पर चर्चा के दौरान जवाब देते हुए दिया। हिन्दुस्तान ने लिखा है: देश में नशे के नेटवर्क दो वर्ष में पूरी तरह खत्म कर देंगे: शाह। गृह मंत्री ने बताया कि 472 जिलों में ड्रग्स तस्करी के रास्तों व उसके जुड़ी जानकारियों की मैपिंग कर राज्यों के साथ साझा किया जा चुका है।

अनछपी: मार्च 2020 के बाद से भारत ने करोना से कई लड़ाइयां लड़ी हैं। पिछले कई महीनों से राहत की सांस ली जाने लगी थी लेकिन ऐसा कहा जा रहा है कि चीन में बढ़ते संक्रमण का असर भारत में ना हो इसके लिए सतर्कता बरतनी चाहिए। इसका रोचक पहलू यह है कि पहले यह बताया गया कि चीन ने लॉकडाउन लागू किया तो उसका स्थानीय तौर पर भारी विरोध हो रहा था और अब यह रिपोर्ट आ रही है कि वहां अनलॉक किया जा रहा है तो चीन के बाहर परेशानी बढ़ रही है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडवीया ने वैसे तो कहा है कि डरने की ज़रूरत नहीं है लेकिन दूसरी ओर उन्हें कांग्रेस सांसद राहुल गांधी को अपनी भारत जोड़ो यात्रा बंद करने की सलाह देकर एक शक भी पैदा किया है। यह शक सिर्फ कोरोना के बढ़ने के बारे में नहीं है बल्कि यह सवाल भी है कि कोरोना के कारण सिर्फ राहुल गांधी की यात्रा को रोकने की सलाह क्यों दी जा रही है। याद रखने की बात है कि जब देश में कोरोना संकट बहुत गहरा था तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी बड़ी बड़ी रैलियां आयोजित की थीं। इसलिए जरूरी है कि यह सवाल पूछा जाए कि अगर कोरोना का खतरा नहीं है, जैसा कि मंत्री कह रहे हैं तो राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा को रोकने की सलाह क्यों दी जा रही है। कोरोना जैसे गंभीर मामले पर ऐसी राजनीति से देश का भला नहीं होने वाला है।

 820 total views

Share Now

Leave a Reply