Haj 2022 हो सकता है महंगा, Bihari आज़मीन के साथ फिर नाइंसाफी, आवेदन 31 जनवरी तक

बिहार लोक संवाद डॉट नेट

हज कमिटी ऑफ इंडिया और बिहार स्टेट हज कमिटी ने 2022 में हज पर जाने वालों के लिए गाइडलाइन जारी कर दी है। गाइडलाइन के मुताबिक इस बार हज की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन होगी। इसके लिए ‘हज मोबाइल ऐप‘ तैयार किया गया है। आज़मीने हज मोबाइल ऐप के माध्यम से भी आवेदन कर सकते हैं। हज फॉर्म हज कमिटी ऑफ इंडिया की वेबसाइट www.hajcommttee.gov.in और मोबाइल ऐप पर उपलब्ध है। आजमीन के लिए कोरोना वैक्सीन की दोनों डोज लगवाना पहली शर्त होगी।

पटना स्थित हज हाउस के अनुसार हज यात्रा के लिए आवेदन करते समय सबसे पहली जरूरत इंटरनेशनल पासपोर्ट है। जिन लोगों के पास अपना पासपोर्ट नहीं है या पासपोर्ट की मुद्दत में विस्तार की जरूरत है, वे अपना पासपोर्ट बनवाने की प्रक्रिया जितना जल्द हो सके शुरू कर दें। पासपोर्ट बनवाने के लिए आसान तरीका ये है कि सबसे पहले अपने इलाके के किसी भी नजदीकी साइबर कैफे से अपना पासपोर्ट आवेदन ऑनलाइन करवा लें। ऑनलाइन आवेदन के लिए अपने आधार कार्ड के इस्तेमाल को तरजीह दें क्योंकि आधारकार्ड में उम्र और पता दोनों दर्ज होते हैं।
पासपोर्ट के लिए ऑनलाइन आवेदन करते समय यह ध्यान रहे कि पासपोर्ट सेवा केन्द्र पटना का ही चयन करें, रीजनल पासपोर्ट आफिस या पोस्ट आफिस का चयन नहीं करें। इसलिए कि ऑनलाइन आवेदन करते वक्त स्थानीय पासपोर्ट आफिस या पोस्ट आफिस का चयन करने से समय पर पासपोर्ट हासिल करना मुश्किल हो जाता है। पासपोर्ट मिलने में देरी होने से हज के लिए आवेदन फार्म भरने में दुश्वारियों का सामना करना पड़ सकता है। जिनके पास पहले से पासपोर्ट है, उसकी वैलिडिटी कम से कम 31 दिसंबर, 2022 होनी चाहिए।
ऑनलाइन फार्म भरने का सिलसिला जारी है। जिसकी आखिरी तारीख 31 जनवरी 2022 है। प्रोसेसिंग फीस के तौर पर 300 रुपये देने होंगे। इस बार एक कवर में 5 आजमीन रहेंगे। उनके साथ दो बच्चे भी जा सकते हैं। 10 जुलाई 2022 को आजमीने हज की उम्र ज्यादा से ज्यादा 65 साल होनी चाहिए। बच्चों की उम्र कम से कम 10 साल होनी चाहिए। बिना मेहरम वाली औरतें इस बार भी हज पर जा सकती हैं। लेकिन शर्त यह है कि कम से कम चार औरतों का एक ग्रुप होना लाज़िमी है।
हज के लिए ऑनलाइन फार्म भरते वक्त कुछ बातों का ध्यान रखें। अपने पासपोर्ट के पहले और आखिरी पन्ने को स्कैन करके अपलोड करें। फोटो रंगीन लेकिन बैकग्राउंड सफेद होना चाहिए। जो कवर हेड होगा, उसके कैंसिल्ड चेक को स्कैन करके अपलोड करें। आधार नंबर डालें। अगर पासपोर्ट में दर्ज पता से अलग कहीं रह रहे हों तो एडेªस प्रूफ के लिए बिजली बिल, गैस कनेक्शन, ड्राइविंग लाइसेंस, बैंक पासबुक जैसे किसी डॉक्यूमेंट को स्कैन करके अपलोड करें। जो भी डॉक्यूमेंट अपलोड करें उसपर पहले अपना दस्तखत जरूर करें। प्रोसेसिंग फीस के 300 रुपये ऑनलाइन जमा करें। ऑनलाइन आवेदन करने के बाद आपको पटना हज भवन से राब्ता करना है। इसके लिए सबसे पहले ऑनलाइन ऐपलिकेशन का प्रिंट निकाल लें। फिर जितने भी डॉक्यूमेंट आपने जमा किए हैं वो, और फोटो के साथ हार्ड कापी हज भवन में जमा कर दें।
एक अंदाजे के मुताबिक इस बार एक आजिम को 3 लाख 35 हजार से 4 लाख 7 हजार रुपये तक देने पड़ सकते हैं। हज 2021 में अनुमानित रकम 3 लाख 30 हजार से 4 लाख के बीच थी। हालांकि टेंडर होने के बाद ही वास्वतिक खर्च का एलान किया जाएगा। पहली किस्त के रूप में 81 हजार रुपये की राशि निर्धारित कर दी गई है। पहली किस्त फरवरी या मार्च में जमा करनी है। दूसरी और तीसरी किस्त का एलान भी उसी दौरान किया जाएगा।
आजमीने हज की उड़ान अगले साल 15 जून से शुरू हो जाएगी। देशभर में हज रवानगी के 10 केन्द्र बनाए गए हैं लेकिन इस बार भी बिहार में कोई केन्द्र नहीं बनाया गया है। बिहार के आजमीन गया एयरपोर्ट से रवाना होते थे। इस बार कोलकाता केन्द्र से रवाना होंगे।
इस बीच केन्द्रीय अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा है कि इस आजमीने हज स्वदेशी सामानों के साथ हज के मुकद्दस सफर पर रवाना होंगे। इससे पहले चादर, तकिये, तौलिये, छतरी और अन्य सामान आजमीने हज विदेशी मुद्रा में सऊदी अरब में खरीदते थे। इनमें से ज्यादातर सामान ‘मेड इन इंडिया’ होते थे जिन्हें विभिन्न कंपनियां हिन्दुस्तान से खरीदकर दोगुने, तीन गुने दामों में सऊदी अरब में हाजियों को देती थीं। इस बार ये सभी सामान आजमीने हज को उनके निर्धारित केन्द्र पर रवानगी के वक्त सुपुर्द कर दिए जाएंगे। इससे आजमीन के काफी पैसे की बचत होगी।

ज्यादा जानकारी के लिए स्टेट हज कमिटी के फोन 0612-2203315 और मोबाइल नंबर 9709647585, 8271463343, 9693638579, 9308102375, 7070810696, 7488279439 पर राब्ता करें।

 836 total views

Share Now

Leave a Reply