छपी-अनछपी: एग्जिट पोल में गुजरात में फिर भाजपा, लालू को बेटी की किडनी लगी

बिहार लोक संवाद डॉट नेट, पटना। गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव का परिणाम 8 दिसंबर को आएगा लेकिन इससे पहले एग्जिट पोल में गुजरात में भाजपा को सबसे आगे दिखाया गया है। यह खबर सभी अखबारों में प्रमुखता से छपी है। सिंगापुर में राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के किडनी ट्रांसप्लांट सफल होने की खबर भी सभी जगह है।

जागरण की सबसे बड़ी सुर्खी है: गुजरात में लगातार सातवीं बार सत्ता में आती दिख रही भाजपा। हिन्दुस्तान की हेडलाइन भी यही है: संकेत: गुजरात में सातवीं बार भाजपा। भास्कर की पहली खबर भी यही है: एग्जिट पोल: गुजरात में भाजपा का सिक्सर… ‘आप’ का खाता खुलेगा। प्रभात खबर ने लिखा है एग्जिट पोल गुजरात में फिर भाजपा, हिमाचल में टक्कर, एमसीडी में ‘आप’। गुजरात में कुल 182 सीटें हैं और बहुमत के लिए 92 की जरूरत है। सभी टीवी चैनलों के एग्जिट पोल में भाजपा को 117 से लेकर 151 सीटें मिलने की अनुमान लगाया गया है। कांग्रेस की अधिकतम सीट 51 और आप’ की अधिक से अधिक 21 दिखाई गई है। हिमाचल प्रदेश की 68 सीटों में बहुमत 35 सीटों पर है। यहां के एग्जिट पोल में भाजपा को अधिकतम 42 और कांग्रेस के लिए भी अधिकतम 40 सीटें दिखाई जा रही है।
उधर दिल्ली के नगर निगम चुनाव में आम आदमी पार्टी को अधिकतम 175 और भारतीय जनता पार्टी को अधिकतम 94 सीट मिलता दिखाया गया है। इस तरह वहां आम आदमी पार्टी भाजपा को एमसीडी से बाहर करने की स्थिति में दिखती है।
इधर बिहार में मुजफ्फरपुर जिले की कुढ़नी विधानसभा सीट पर उपचुनाव के लिए भी वोटिंग हुई। इस बारे में भास्कर की सुर्खी: कुढ़नी में भाजपा को सवर्णों का साथ, नहीं टूटा एमवाई समीकरण: कांटे की टक्कर। हिन्दुस्तान ने लिखा है: कुढ़नी विधानसभा सीट के लिए 57.92% वोटिंग। 2020 में यहां 64.19% मतदान हुआ था।

लालू को लगी बेटी की किडनी
प्रभात खबर की पहली खबर है: रोहिणी ने पिता को दिया नया जीवन, होश आते ही लालू ने पूछा रोहिणी के का हाल बा। भास्कर की हेडिंग है: दुआओं के लालू: ओटी में जाने से पहले बोले चिंता के बाद नईखे दो-तीन घंटा में आवा तनी। हिन्दुस्तान ने खबर दी है: लालू का किडनी प्रत्यारोपण सफल, आईसीयू में लाए गए। अखबारों के अनुसार सोमवार को सिंगापुर के माउंट एलिजाबेथ हॉस्पिटल में बेटी रोहिणी आचार्य का डोनर ऑपरेशन हुआ और उसके बाद उनकी किडनी लालू प्रसाद के लिए ऑपरेशन थिएटर में ले जाया गया। लालू प्रसाद के बेटे और उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने सिंगापुर से वीडियो जारी कर कर बताया है कि किडनी ट्रांसप्लांट सफल रहा है। लालू और रोहिणी दोनों की हालत ठीक है। दोनों के 10 दिन बाद डिस्चार्ज होने की उम्मीद है। इससे पहले डॉक्टर ने बताया था कि लालू प्रसाद की किडनी 20% तक ही काम कर रही थी।

बिहार पुलिस में होगी 62 हज़ार बहाली
हिन्दुस्तान की पहली सुर्खी है: बिहार पुलिस में 62 हज़ार नए पदों पर होगी बहाली। पुलिस मुख्यालय ने पिछले दिनों जिला और इकाइयों से सिपाही के रिक्त पदों की जानकारी मांगी थी। यह आंकड़ा मुख्यालय को प्राप्त हो चुका है। बिहार पुलिस में वर्तमान में स्वीकृत सिपाहियों के पदों में से करीब 6500 पद रिक्त हैं। एडीजी मुख्यालय जे एस गंगवार के अनुसार पुलिस मुख्यालय की कोशिश है कि दिसंबर के आखिरी या जनवरी 2023 में बहाली का प्रस्ताव भेज दिया जाए।
आमिर सुबहानी पर क्यों नाराज़ हो गए नीतीश?
सोमवार को जनता दरबार में सुनवाई के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एक बार मुख्य सचिव आमिर सुबहानी पर भी नाराज हो गए। यह खबर सभी अखबारों में ली गई है। प्रभात खबर के अनुसार भागलपुर से एक फरियादी अपनी जमीन पर दबंगों द्वारा कब्जा करने और जान से मारने की धमकी देने की शिकायत लेकर आया था पूर्णविराम इस पर वहां मौजूद अधिकारी को सीएम ने मुख्य सचिव को फोन लगाने को कहा। पहले तो उनका फोन लग नहीं रहा था पूर्णविराम फिर फोन उठाने में देर होने पर मुख्यमंत्री नाराज हो गए। उन्होंने मुख्य सचिव के फोन रिसीव करते ही कहा कि बड़ी देर से फोन नहीं उठा रहे हैं। यहीं बगल में सामने बैठे हैं, फिर भी। फोन ही नहीं लग रहा है। इसके बाद सीएम नीतीश ने मुख्य सचिव से कहा कि उसकी शिकायत सुनिए।

जीएसटी में बिहार टॉप
नवंबर महीने में जीएसटी कलेक्शन में बिहार पूरे देश में टॉप पर रहा। अखबारों के अनुसार 2021 के नवंबर की तुलना में इस मद में 28% बढ़ोतरी हुई है जो पूरे देश में सबसे ऊपर है। बिहार के वित्त एवं वाणिज्य कर मंत्री विजय कुमार चौधरी ने सोमवार को यह जानकारी दी। पिछले महीने बिहार में जीएसटी और अन्य करो के मद में 21 हज़ार 883 करोड़ रुपए जमा हुए।
पाइपलाइन से फिर रिसाव
फुलवारी शरीफ के टमटम पड़ाव के पास पाइप्ड नेचुरल गैस की पाइप लाइन में फिर रिसाव की खबर भी सभी जगह है। जागरण लिखता है: पाइपलाइन से फिर रिसने लगी गैस, आग लगने से पहले पहुंचा दमकल । यह रिसाव उसी जगह से हो रहा है जहां से शनिवार की रात आग निकल रही थी। अब 50 मीटर सड़क खोदकर जांच करने का फैसला लिया गया है। उधर गेल के महाप्रबंधक अजय कुमार सिन्हा गैस रिसाव की बात से इंकार कर रहे हैं। उनका कहना है कि 2 दिन पहले हुए गैस रिसाव और आग लगने की घटना के कारणों का पता लगाने टीम पहुंची है।
डोमिनिक लपियर नहीं रहे
‘द सिटी ऑफ जॉय’ जैसी मशहूर किताब के लेखक डोमिनिक लपियर 91 साल की उम्र में लंदन में गुज़र गए। टाइम्स ऑफ इंडिया के अनुसार फ्रांस के इस लेखक ने लैरी कॉलिन्स के साथ मिलकर 6 किताबें लिखी जिनकी 50 मिलियन से अधिक कॉपियां विकी और 30 भाषाओं में अनुवाद हुआ। धड़ल्ले से बंगाली बोलने वाले इस लेखक को 2008 में पद्म भूषण सम्मान दिया गया था।
बस अड्डे के पास फायरिंग
बैरिया के इंटर स्टेट बस टर्मिनल के पास दो गुटों में बस की टाइमिंग को लेकर भिड़ंत की खबर सभी जगह है। इसमें गोलियां भी चलीं। हिंदुस्तान के अनुसार बैरिया बस स्टैंड में वर्चस्व -एजेंटी को लेकर चल रहे विवाद में सोमवार की शाम दो गुटों के बीच जमकर मारपीट हुई। इस दौरान बस स्टैंड के पास कई वाहनों के शीशे तोड़ डाले गए। इसके बाद अगम कुआं और रामकृष्ण नगर की पुलिस पहुंची तो हंगामा कर रहे लोग फरार हो गए। पुलिस ने गोलीबारी की घटना से इनकार किया है।
पटना में डिजिटल करेंसी
प्रभात खबर की खास सूचना है: जल्द ही पटना में मिलने लगेगी डिजिटल करेंसी। रिजर्व बैंक ने छोटी संख्या के साथ एक डिजिटल रुपया पायलट प्रोजेक्ट शुरू किया है। प्रोजेक्ट के दो चरणों में भाग लेने के लिए रिजर्व बैंक ने 8 बैंकों को चुना है। पहले चरण में जिन शहरों में डिजिटल करेंसी मिलेगी उसमें पटना देश शामिल है।
जबरन धर्मांतरण का मुद्दा
भास्कर ने सुप्रीम कोर्ट में धर्मांतरण के मुद्दे पर चल रही सुनवाई की खबर दी है: दवाएं, अनाज का लालच दे धर्म परिवर्तन गंभीर: सुप्रीम कोर्ट। हिन्दुस्तान की सुर्खी हूं: जबरन धर्मांतरण विधि सम्मत नहीं: सुप्रीम कोर्ट। सुप्रीम कोर्ट ने जबरन धर्मांतरण को एक बार फिर गंभीर मुद्दा करार देते हुए सोमवार को कहा कि यह विधि सम्मत नहीं है। यह संविधान के खिलाफ है। शीर्ष कोर्ट वकील अश्विनी उपाध्याय की याचिका पर सुनवाई कर रही है। अगली सुनवाई 12 दिसंबर को करेगी। न्यायमूर्ति एमआर शाह व न्यायमूर्ति सीटी रविकुमार की पीठ के सामने सॉलीसीटर जनरल तुषार मेहता ने इस मुद्दे पर विस्तृत सूचना दाखिल करने के लिए एक सप्ताह का समय मांगा। कहा कि वैधानिक रूप से शासन तय करेगा कि क्या कोई व्यक्ति धार्मिक मान्यता बदल जाने के कारण अपना धर्म बदल रहा है या किसी और कारण से।
अनछपी: सुप्रीम कोर्ट में धर्मांतरण के मुद्दे पर चल रही सुनवाई का रुख एकतरफा लगता है। धर्मांतरण को भारतीय जनता पार्टी की सरकार एक राजनीतिक हथियार के रूप में इस्तेमाल करने की कोशिश कर रही हैं। सुप्रीम कोर्ट का यह कहना कि जबरन धर्मांतरण विधि सम्मत नहीं है, अजीब लगता है क्योंकि इस बात पर कोई दो राय नहीं है। सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी अगर किसी खास मामले की होती तब समझ में आने वाली बात थी लेकिन यहां यह मामला नहीं है। मामला यह है कि भारतीय जनता पार्टी और उससे जुड़े संगठनों को यह बात खलती है कि लोग धर्म परिवर्तन क्यों कर रहे हैं। वह इसका सीधा विरोध नहीं करके पहले तो यह कह रही थी के धर्मांतरण जबरन हो रहा है लेकिन अब उसका स्टैंड बदल रहा है और उनकी ओर से यह कहा जा रहा है कि धर्मांतरण की स्वीकृति देना सरकार का काम है। कोर्ट में दलील बिना किसी सवाल के गुजर जाना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण और खतरनाक संकेत है। इस मामले के याचिकाकर्ता भारतीय जनता पार्टी से हैं हालांकि सीधे पार्टी ने कोई याचिका नहीं दाखिल की है लेकिन पार्टी की सरकार है और केंद्र सरकार उनकी ही भाषा बोल रही हैं।

 562 total views

Share Now

Leave a Reply