13120 वैकेंसीः एक नौकरी जो सात साल में भी नहीं लगी

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट
पटना। बिहार कर्मचारी चयन आयोग की इंटर स्तरीय संयुक्त प्रतियोगिता परीक्षा से 13120 उम्मीदवारों को नौकरी दी जानी है लेकिन सात साल पहले शुरू हुई यह बहाली प्रक्रिया आज तक पूरी नहीं हो सकी है। आयोग का दावा है कि इसी साल नवंबर में प्रक्रिया पूरी कर नवंबर में काउंसिलिंग शुरू की जाएगी।
बिहार कर्मचारी चयन आयोग ने 21 सितंबर 2021 को इस बारे में तीन अलग-अलग विज्ञापन से जानकारी दी है। आयोग के अनुसार इस परीक्षा के लिए एक सितंबर 2014 को विज्ञापन संख्या 06060114 प्रकाशित किया गया था। इस प्रतियोगिता परीक्षा के लिए आॅनलाइन आवेदन लिया गया था जिसके लिए 1857480 आवेदन आये थे।
ओवदन लेने की प्रक्रिया पूरी होने के बाद आठ दिसंबर 2018 से दस दिसंबर 2018 तक छह चरणों में प्रारंभिक परीक्षा हुई। 2014 में शुरू हुई इस प्रक्रिया से पहली परीक्षा को आयोजित कराने में देरी का एक कारण पटना हाईकोर्ट में चला एक केस था जिसका उल्लेख आयोग के विज्ञापन में भी है। पटना हाईकोर्ट में दर्ज वह केस था- सी.डब्ल्यू.जे.सी. संख्या 17465/2014 विजय कुमार राय एवं अन्य बिहार राज्य एवं अन्य। यह केस अधिकतम उम्र सीमा में छूट को लेकर था। पटना हाईकोर्ट के 25 जून 2015 को पारित आदेश के आलोक में आयोग ने अधिकतम उम्र सीमा में छूट का लाभ देने के लिए इसकी सूचना 5 फरवरी 2016 को दी और इसके लिए संबंधित उम्मीदवारों से 22 फरवरी 2016 से 13 मार्च 2016 तक आॅनलाइन आवेदन लिये थे।
इस प्रक्रिया के बाद 2018 में हुई प्रारंभिक परीक्षा में 63739 परीक्षार्थी सफल हुए जिन्हें मुख्य परीक्षा के लिए योग्य घोषित किया गया। इस परीक्षा का रिजल्ट कब निकला, इसका उल्लेख नहीं। मुख्य परीक्षा 25 दिसंबर 2020 को ली गयी। इसके बाद 52784 उम्मीदवारों का परीक्षाफल कोटिवार न्यूनतम अर्हतांक के आधार पर 25 फरवरी 2021 को निकाला गया। इस परीक्षाफल के बाद शारीरिक क्षमता/माप परीक्षण, टाइपिंग और शाॅर्ट हैंड लेखन जांच परीक्षा ली गयी।
अब काउंसिलिंग के लिए लिस्ट तैयार करने की बारी थी लेकिन तभी आयोग को इस बात का पता चला कि पांच फरवरी 2016 की सूचना के आलोक में जिन उम्मीदवारों ने आवेदन जमा किये थे उनके डेटाबेस में तकनीकी गड़बड़ी थी जिसके कारण बिहार राज्य के आरक्षित कोटि के उम्मीदवार आरक्षण और उम्र सीमा में लाभ पाने से वंचित कर दिये गये थे। इसी तरह मूल विज्ञापन के आधार पर अधिकतम आयु जोड़ने के कारण 5 फरवरी 2016 की सूचना से मिलने वाली उम्र सीमा में छूट का लाभ संबंधित उम्मीदवारों को नहीं मिल सका था और ऐसे उम्मीदवार ओवर एज में छंट गये थे। नतीजा यह हुआ कि ऐसे उम्मीदवार प्रारंभिक परीक्षा में न्यूनतम अंक के हिसाब से तो मुख्य परीक्षा के योग्य हो गये थे लेकिन उम्र के गलत आधार से उन्हें उसमें शामिल होने से वंचित कर दिया गया था।
इसके बाद आयोग ने रिजल्ट में सुधार किया जिसके बाद 1218 नये उम्मीदवार मुख्य परीक्षा के योग्य करार पाये। अब उन्ही 1218 उम्मीदवारों की फिर से परीक्षा होनी है। इसके लिए आवेदन की तिथि 20 सितंबर से शुरू है जो 4 अक्टूबर 2021 तक जारी रहेगी। इसके बाद जल्द ही मुख्य परीक्षा ली जाएगी। इसके लिए आॅनलाइन परीक्षा शुल्क जमा करने की तारीख दो अक्टूबर है।
इस परीक्षा के बाद अक्टूबर में ही शारीरिक जांच और टाइपिंग-शाॅर्टहैंड की जांच परीक्षा भी होगी। आयोग के अनुसार इसका रिजल्ट निकालने के बाद नवंबर 2021 के पहले सप्ताह में काउंसिलिंग शुरू की जाएगी।

 475 total views

Share Now

Leave a Reply