पीर अली: ‘मुझे फांसी देने में अब और देर न करें’

बिहार लोक संवाद डॉट नेट
देश आज़ादी की पचहत्तरवीं सालगिरह मना रहा है। ऐसे में यह जानना ज़रूरी है कि हमारी किन अज़ीम शख़्सीयतों ने भारत को अंग्रेज़ों की गुलामी से आज़ाद कराने में अहम रोल अदा किया। ऐसे ही लोगों के योगदान, कुर्बानी और शहादत पर आधारित यह सिलसिला ‘द ग्रेट पैटरियट्स’ हम शुरू कर रहे हैं। आइए, इसका आग़ाज़ पीर अली से करते हैं। वही पीर अली, जिन्होंने फांसी के तख़्ते पर झूलने से पहले पटना के अंग्रेज़ कमिशनर विलियम टेलर से कहा था, ‘अब आप और देर न करें। मैं फांसी का फंदा लगाने को बिलकुल तैयार हूं।’ तो आइये विस्तार से जानते हैं पीर अली के बारे में।

 408 total views

Share Now

Leave a Reply