किए गए उर्दू के 25 वरिष्ठ साहित्यकार, शफ़ी-ज़किया ने दान की पुरस्कार राशि

बिहार लोक संवाद डाॅट नेट पटना

उर्दू निदेशालय की ओर से मंगलवार को पटना में ‘महफ़िले अकाबीरेने अदब’’ के शीर्ष से एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के दौरान उर्दू साहित्य के क्षेत्र में बहुमूलय योगदान देने वाले 25 वरिष्ठ अदीबों और शायरों को सम्मानित किया गया। इनमें से तीन को मरणोपरांत एज़ाज़ से नवाज़ा गया। सम्मान प्राप्त करने वालों में ज़हीर सिद्दीक़ी, तलहा रिज़वी बर्क़, सुलतान अख़तर, शमीम सादिक़ा शामिल हैं।

सम्मान प्राप्त समालोचक प्रो. अलीमुल्लाह हाली ने बिहार लोक संवाद डाॅट नेट से कहा कि बुजुर्गों को सम्मान देकर उर्दू निदेशालय ने खुद को भी सम्मानित किया है।

उर्दू एडवायज़री बोेर्ड के पूर्व चेयरमैन शफ़ी मशहदी ने कहा कि पुरस्कार के रूप जो राशि मिली है उसे वो और उनकी पत्नी ज़किया मशहदी उर्दू के विकास के लिए दान कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उर्दू के विकास के लिए आज बहुत कुछ किए जाने की ज़रूरत है।

मशहूर इतिहासकार डाॅ. इम्तियाज़ अहमद ने उर्दू साहित्यकारों की जीवनी और योगदान का वीजुअल डाक्यूमेंटेंशन किए जाने पर ज़ोर दिया।

उम्मीद की जानी चाहिए कि बुजुर्गों की इज़्ज़त अफ़ज़ाई से नवजवानों की भी हौसला अफ़ज़ाई होगी। कैमरापर्सन शीश अहमद के साथ सैयद जावेद हसन बिहार लोक संवाद डाॅट नेट।

 536 total views

Share Now

Leave a Reply